Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में होम्योपैथिक दवाइयां वरदान सावित हो रहीं हैं - डॉ0 गौरव कौशल

    कोरोना जैसी वैश्विक महामारी में होम्योपैथिक दवाइयां वरदान सावित हो रहीं हैं - डॉ0 गौरव कौशल

    कोरोना में जहां होम्योपैथ की दवाएं कारगर हैं, वहीं इससे मरीज ठीक भी हो रहे हैं

    शाहजहांपुर : कोरोना महामारी में भी होम्योपैथिक दवाएं वरदान साबित हो रही हैं। होम्योपैथ के चिकित्सक मरीजों को दवा लेने की सलाह दे रहे हैं। होम्योपैथिक दवाओं का इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए भी इस्तेमाल किया जा रहा है। इस समय शरीर की इम्युनिटी बढ़ाकर ही कोरोना से बचा जा सकता है। 

    शहर के जाने माने होम्योपैथ चिकित्सक डा. गौरव कौशल ने बताया कि कोरोना में जहां होम्योपैथ की दवाएं कारगर हैं, वहीं इससे मरीज ठीक भी हो रहे हैं। काफी लोग इम्युनिटी बढ़ाने के लिए भी होम्योपैथी दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। होम्योपैथी दवाइयों ने कोरोना मरीजो में ऑक्सीजन की कमी को भी पूरा करने का काम किया है। कोरोना में सबसे ज्यादा श्वसन तंत्र ही प्रभावित होता है। क्षतिग्रस्त श्वसनतंत्र कोरोना वायरस को शरीर में पनपने का उपयुक्त वातावरण उपलब्ध कराता है। इन तथ्यों को ध्यान में रखकर होम्योपैथी के योग्य चिकित्सकों ने गहन विश्लेषण के बाद कुछ दवाओं को इस बीमारी के लिए चुना है। इसमें Aspidosperma, senega, क्लोरम, ओजोनम, काली ब्रोमियम, काली क्लोरम जैसी दवाएं शामिल हैं। इन दवाओं का इस्तेमाल चिकित्सक की सलाह पर ही किया जाना चाहिए।

    उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के समय में उत्पन्न डर एवं दहशत में जनता बिना चिकित्सकों की सलाह के स्वयं दवाइयां ले रही हैं, जो उचित तरीका नहीं है। इससे लाभ के बजाय नुकसान भी हो सकता है। उन्होंने बताया कि होम्योपैथी में हर व्यक्ति के लक्षणों के आधार पर चिकित्सक द्वारा रोगी की उम्र, रोग की दशा, रोग की गंभीरता, जांच आदि को दृष्टिगत रखते हुए अलग-अलग औषधि एवं उसकी खुराक, पोटेंसी एवं रेपीटेशन का निर्धारण किया जाता है। इसलिए होम्योपैथी में सबके लिए एक ही स्वास्थ्य समस्या के लिए एक ही सामान्य औषधि संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि होम्योपैथी में कोरोना संक्रमण के दौरान रोगियों के लिए प्रभावकारी औधाधियां उपलब्ध है, परंतु उनका पूरा लाभ चिकित्सक द्वारा रोगी के लक्षणों के आधार पर चयनित औषधि का प्रयोग कर ही प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस प्रकार से विभिन्न माध्यमों से होम्योपैथिक दवाईयों के प्रचार से लोगों के मन में होम्योपैथी के प्रति अनेक भ्रांतियां उत्पन्न हो रही हैं। उन्होंने जनता से कोरोना काल मे अपनी स्वास्थ्य समस्याओं के समाधान के लिए चिकित्सकों की सलाह से सरल, कम ख़र्चीली, दुष्परिणाम रहित, सम्पूर्ण निरोग प्रदान करने वाली होम्योपैथिक औषधियों के प्रयोग की अपील की है।

    आपको बता दें कि डॉ०गौरव कौशल ने कोविड किट भी तैयार की है, जिससे कोरोना वायरस से शरीर में होने वाले दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है व ह्मयूनीटी पावर वापस पहले की तरह प्रभावी हो सके। उनके पास ठीक हो चुके कई मरीजों ने बताया कि कोरोना की ऑक्सीजन लेवल बढ़ाने की उनकी दवा कारगर सावित हुई है शहर बल्कि दिल्ली में भी कई मरीज उनकी दवा का लाभ ले रहे हैं वह कोविड निमोनिया का इलाज करके ठीक हो रहें हैं क्योकि कोरोना वायरस की वजह से फेफड़े ठीक से काम नहीं करते और हमारा ऑक्सीजन का स्तर कम होने लगता है।

    फ़ैयाज़ उद्दीन
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, शाहजहाँपुर, 
    उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.