Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहाँपुर। डॉक्टर के नाम पर कलंक मेडिकल कॉलेज में तैनात डॉ0 अनिल राज के विरुद्ध दर्ज हुई एफ आई आर

    शाहजहाँपुर। मामला शाहजहांपुर का राजकीय मेडिकल कॉलेज एक बार फिर डॉ0 अनिल राज के काले कारनामों के चलते चर्चा में आ गया है यह डॉक्टर वर्षों से शाहजहांपुर में जमा हुआ है और बताया जा रहा है कि मरीजों को लूटने के लिए पहले से सेट मेडिकल स्टोर से दवा लेने के लिए प्रेशर बनाता है सूत्रों के अनुसार यह मेडिकल स्टोर इसी का है जहां पर इसका बेटा बैठता है घटना के अनुसार तिलहर के गांव महमदपुर निवासी रजनीश कुमार ने बताया कि उनके पिता रीतराम बीमारी के चलते पिछले 15 दिन से शाहजहांपुर के मेडिकल कॉलेज में भर्ती हुए डॉ0 अनिल राज ने एक विशेष मेडिकल स्टोर से दवा लाने के लिए कहा तीमारदार पहले भी डॉक्टर के कहे अनुसार मेडिकल स्टोर से दवा लाता रहा है। 

    जिसकी कीमत प्रतिदिन ₹7000 होती थी दिनांक 10 मई को उनके एक रिश्तेदार संतराम बीमार पिता को हॉस्पिटल देखने आए उनको कुछ शक हुआ तो उन्होंने दवा का रैपर दिखाकर दूसरे मेडिकल स्टोर से वही दवा खरीदी जहां पर वह दवा मात्र 1100 रुपए में मिली जब पीड़ित परिवार को असलियत पता चली और डॉक्टर के द्वारा मिलीभगत और अपने को ठगे जाने का पता चला तो उन्होंने डॉ0 अनिल राज से इस बाबत बात की तो डॉक्टर बेहद नाराज हो गए और तत्काल अपने मरीज को ले जाने के लिए कहा तीमारदारों ने बेहद खुशामद की लेकिन डॉक्टर का मन नहीं पसीजा उसने तीमारदारों को भद्दी भद्दी गालियां दी और लाचार मरीज को जबरन बेड से उतार दिया रजनीश ने इसकी जानकारी भाजपा जिला अध्यक्ष हरि प्रकाश वर्मा को दी जिन्होंने जिलाधिकारी को इस पूरे प्रकरण से अवगत कराया गोपनीय जांच होने के दौरान लगाए गए आरोप सही पाए गए जिसके आधार पर चौक कोतवाली इंस्पेक्टर प्रवेश सिंह ने डॉ0 अनिल राज के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कर दिया है यही नहीं मेडिकल कॉलेज में जलालाबाद थाना क्षेत्र के गौरा नगर मोहल्ला निवासी साजिद ने भी बताया कि उनकी मां का अस्पताल में इलाज चल रहा है डॉ0 अनिल राज ने उनको भी अपने परिचित मेडिकल स्टोर से ही दवा लाने का दवाव बनाया जहां से ₹10000 से कम की दवा एक बार में नहीं मिलती है जहां पर डॉक्टर का कोड वर्ड तय है। 

    मरीज के तीमारदार को बेड नंबर बताना होता है भाजपा जिला अध्यक्ष हरि प्रकाश वर्मा द्वारा जब जिलाधिकारी से इस बाबत शिकायत की गई तो जिलाधिकारी ने अपनी गोपनीय जांच टीम को लगा दिया जिसमें आरोप सही पाए गए जिसके बाद कोतवाली में विभिन्न धाराओं में डॉ0 अनिल राज एवं उनके बेटे सहित 3 लोगों के विरुद्ध विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है पकड़ में तो अभी मात्र डॉक्टर अनिल राज आया हैं अभी और बहुत से डॉक्टरों के नाम सामने आने बाकी हैं जिला प्रशासन यदि गोपनीय रूप से मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों की जांच कराएं तो बहुत बड़ा स्कैम सामने आने की उम्मीद है


    फ़ैयाज़ उद्दीन 

    Initiate News Agency(INA), शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.