Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सम्भल। कोरोना महामारी के खौफ से फिर लगा बैंड बाजा कारोबार पर अंकुश

    सम्भल। कोराना महामारी के दूसरे वेब में लोग शादियों से परहेज कर रहे हैं। इसका असर बैंड बाजा कारोबार पर भी पड़ रहा है। बैंड बाजा कारोबारी भी चाहते हैं कि कोरोना का ख़ौफ लोगों में से कम हो और हमारा कारोबार सही चले। कारोबार सही ना होने के कारण बैड बाजा संचालक परेशान है।

    मेहंदी से लेकर संगीत तक कई रंग बिरंगे समारोह, दोस्तों और रिश्तेदारों के मजमे के बीच सात फेरे लेने का सपना कोरोना वायरस महामारी के चलते फिलहाल पूरा नहीं होता देख कई जोड़ों ने या तो शादी टाल दी है या बेहद सादे समारोह में परिणय सूत्र में बंधने का फैसला किया। कोरोना काल की इन शादियों में बैंड, बाजा, बारात की जगह मास्क, सेनिटाइजर्स और सामाजिक दूरी के नियमों ने ले ली है। कोरोना महामारी की दूसरी लहर के चलते बैंड बाजा कारोबारियों पर बहुत असर पड़ा है। 

    वसीम आज़ाद (नूर बैंड संचालक)

    कारोबारियों का कहना है कि यही हमारा सीजन का टाइम होता है। जिसमें हम पूरे साल का खर्च निकाल लेते हैं। मगर कोरोना महामारी के दूसरे वेब में लोग शादियों से परहेज़ कर रहे हैं। इसलिए हमारा कारोबार भी अच्छा नहीं चल रहा है। हमारे साथ लगभग 10 से 15 लोग जुड़े होते हैं। उनका जीवन गुजारा कैसे हो। जब हमें ही काम नहीं मिल रहा, तो हम अपनी लेबर को पैसे कहां से दे।


    उवैस दानिश

    Initiate News Agency (INA), सम्भल

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.