Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल। सोलर विलेज के रूप में पहचान बना चुके ग्राम बाचा ने फिर पेश की मिसाल/कोरोना से बचने के लिया ग्रामीणों ने लगाया जनता कर्फ्यू

    बैतूल। फिर आया सुर्खियों में बाचा,बना मिसाल,कोरोना से बचने ग्रामीणों लगाया जनता कर्फ्यू,मुख्य मंत्री शिवराज सिंह ने ट्वीट कर की सराहना, देश मे सोलर विलेज के रूप में बना चुका है पहचान,गांव में नही हुई कोराना की दस्तक।

    देश में सोलर विलेज के नाम से पहचान बना चुके मध्य प्रदेश के बैतूल के ग्राम बाचा में काेरोना संक्रमण को रोकने के लिए ग्रामीणों ने जनता कर्फ्यू लगाकर प्रवेश मार्ग पर नाकाबंदी कर दी। ग्रामीणों ने एकजुटता से निर्णय लेकर बाहरी लोगों के प्रवेश पर जहां पाबंदी लगा दी है । ग्रामीणों के इस प्रयास को मुख्य मंत्री शिवराज सिंह ने सराहा है और नाकाबंदी वाली फ़ोटो ट्वीट की है ।

    देवसु कबड़े ( स्थानीय ग्रामीण)

    बैतूल का बाचा गांव जागरूकता में अव्वल है यही कारण है कि इसे आदर्श ग्राम की उपाधि मिली है । इस गांव के ग्रामीणों ने कोरोना से बचने के लिए खुद ही जनता कर्फ्यू लगा दिया है और बाहरी लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी है । वहीं गांव के लोगों को भी बाहर अतिआवश्यक कार्य से ही बाहर निकलने दिया जा रहा है। ग्रामीणों को जरूरत की सामग्री उपलब्ध कराने के लिए युवाओं  की एक टीम बना दी गई है जो हर घर में पहुंचकर संपर्क कर रही है। बाजार से जरूरत का सामान लाने के लिए दो युवाओं काे जिम्मेदारी दी गई है और वे ही सब कुछ मुहैया करा रहे हैं। ग्रामीणों के इस प्रयास को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने भी सराहा और गांव के प्रवेश मार्ग पर की गई नाकाबंदी की फोटो ट्वीट की है।

    अनिल उइके ( स्थानीय ग्रामीण)

    घोड़ाडोंगरी विकासखंड के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत खदारा के बाचा गांव के 74 घरों में निवास करने वाले लोगों ने जिले में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए गांव को सुरक्षित रखने के लिए कड़ा निर्णय लिया है। ग्रामीणों ने 21 अप्रैल को आम सहमति बनाई और उसके बाद प्रवेश मार्ग पर नाकाबंदी कर दी गई।

    मोनिका विश्वकर्मा ( तहसीलदार )

    एक बैनर भी लगा दिया गया है जिस पर लिखा गया है कि गांव में बाहरी लोगों का प्रवेश बंद है। निगरानी करने के लिए गांव के ही युवाओं के द्वारा दिन और रात के वक्त की जिम्मेदारी भी ली गई है। ग्राम के देवसू कवड़े ने बताया कि इस पहल काे ग्राम पंचायत के द्वारा भी बेहद सराहा गया है। गांव में अब तक कोरोना की दस्तक नहीं हुई है और आने वाले समय में भी कोई इस बीमारी की चपेट में न आ सके इसके लिए बाहरी लोगों का प्रवेश पूरी तरह से बंद कर दिया गया है।

    ग्रामीण अनिल उइके ने बताया कि युवाओं की एक टीम बनाई गई है। इस टीम के द्वारा ग्रामीणों को जरूरत का सामान बाजार से लाकर प्रदान किया जा रहा है ताकि गांव से केवल दो लोग ही बाहर जाएं सभी को न जाना पड़े। प्रदेश के मुख्यमंत्री द्वारा की गई जनता कर्फ्यू की अपील पर ग्रामीणों ने निर्णय लिया है। हर गांव और नगर को यह निर्णय लेकर कोरोना का संक्रमण रोकने का प्रयास करना होगा। प्रशासन भी इन ग्रामीणों की सराहना कर रहा है ।


    शशांक सोनकपुरिया

    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, बैतूल  


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.