Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    शाहजहाँपुर। रहे अपनों से दूर जीती कोरोना से जंग – शशीबिंद कुमार शुक्ला

    शाहजहांपुर | जनपद के ब्लाक कलान के गाँव कुंडरी निवासी शशिबिंद कुमार शुक्ला स्वास्थ्य विभाग की सहयोगी संस्था यूएनडीपी में जिला वैक्सीन कोल्ड चेन मैनेजर के पद पर कार्यरत है वह स्वास्थ्य विभाग के साथ वर्ष 2014 से कार्य कर रहे है| वर्तमान में वह शाहजहांपुर में अपने परिवार के साथ रहते है| उन्होंने  बताया कि उनके दो बच्चे हैं एक बेटी और एक बेटा | शशिबिंद कुमार शुक्ला द्वारा स्वास्थ्य विभाग के साथ नियमित टीकाकरण को सफल बनाने के लिए ई-विन (इलेक्ट्रनिक वैक्सीन इंटेलीजेंट नेटवर्क ) पोर्टल के मध्याम से वैक्सीन को सुरक्षित रखने और वैक्सीन का ऑन लाइन मैनेजमेंट और कोल्ड चेन रखरखाव किया जाता है| जिसको टेक्निकल सपोर्ट और प्रबन्धन का कार्य यूएनडीपी के प्रतिनिधि के रूप में शुक्ल जी के द्वारा किया जाता है| 

    शशिबिंद कुमार शुक्ला जिला वैक्सीन कोल्ड चेन मैनेजर यूएनडीपी ने बताया कि भारत सरकार द्वारा ई-विन पोर्टल के आधार पर ही कोविड-19 टीकाकरण को शत प्रतिशत सफल बनाने के लिए कोविन पोर्टल तैयार किया गया| ई-विन पोर्टल के माध्यम से नियमित टीकाकरण वैक्सीन के साथ साथ कोविड-19 वैक्सीन को नियमित ऑन लाइन मैनेजमेंट और कोल्ड चेन रखरखाव के लिए टेक्निकल सपोर्ट देने की जिमीदारी भी यूएनडीपी के प्रतिनिधि के रूप में उन्हें दी गयी| अपनी जिमीदारी को ईमानदारी से निर्वाह करने के लिए शशिबिंद कुमार शुक्ला ने 24 घंटे में कभी कभी 24 घंटे काम किया जिसमें जूम मीटिंग के जरिये कोविड-19 टीकाकरण की प्लानिंग और बार बार उसमें बदलाव की स्थिति के समय बहुत मुश्किलों का सामना करना पड़ा जिसमे शुरुआत में बहुत ही मुश्किलों का सामना करना पड़ा फिर धीरे धीरे जब लोगों के समझ में आया फिर काम  थोडा हल्का हुआ लेकिन  आम जन के टीकाकरण में फिर से काम का दवाब अधिक हो गया जिससे वह घबराए नहीं बल्कि टीकाकरण को सफल बनाने के लिए दिन रात एक कर काम करने में जुट गए| न चेहरे पर कोई थकान और न ही कोई शिकन दिखाई देती है बस दिखाई देता है तो लोगो की जिन्दगी सुरक्षित करने का उद्देश्य| 

    शशिबिंद कुमार शुक्ला ने बताया कि गत वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते जब हालात ज्यादा  खराब हो गए और लोगों ने मास्क लगाना, दो गज दूरी बनाना आदि  कोविड-19 प्रोटोकाल्स को जन समुदाय द्वारा नजरंदाज किया गया| ऐसे में शासन द्वारा लॉकडाउन लगाया गया था| लॉकडाउन की स्थिति में जहाँ लोग घर से बहार नहीं निकल रहे थे| वहीँ शशिबिंद कुमार शुक्ला अपने कर्तव्यों को ईमानदारी से निभा रहे थे| उन्होंने ने  बताया कि जब स्थिति ज्यादा भयाभव हुई और मुश्किलें बढ़ी तब उन्होंने अपने को असुरक्षित समझकर अपने परिवार को सुरक्षित रखने के लिए परिवार को अपने से दूर रखने का फैसला किया और अपने परिवार को अपने पैतृक गाँव में भेज दिया| उसके बाद अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निर्वाह किया| उसी दौरान  वह कोरोना संक्रमित भी  हो गए लेकिन वह कोरोना से डटकर लड़ते रहे| उन्होंने उस समय में खुद खाना बनाकर खाया, कपड़े धुलकर पहने और उसके बाद अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निर्वाह किया| उन्होंने बिना किसी  घबराहट के साथ खुद को  संभाला और कोरोना की जंग जीतकर  पुनः अपने कार्यों को उसी गलन के साथ शुरू  कर दिया।


    फ़ैयाज़ उद्दीन 

    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, शाहजहाँपुर



    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.