Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    ध्वस्त विद्युत व्यवस्था से ग्रामीणों में रोष, घेराव करने की कही बात

    ध्वस्त विद्युत व्यवस्था से ग्रामीणों में रोष, घेराव करने की कही बात

    किसान कांग्रेस की किसान पँचायत में गूंजा किसानों का दर्द

    झांसी-उत्तर प्रदेश : ग्रामीण अंचलों में तैनात विद्युत कर्मचारियों की दबंगई गुंडई अवैध वसूली से परेशान ग्राम चुरारा की हरिजन बस्ती यहां पर विद्युत केबल के आए दिन जल जाने से ग्राम चुरारा की हरिजन आबादी अंधकार में रहने को मजबूर है और यहां पर तैनात विद्युत कर्मचारियों की उदासीनता संवेदनहीनता भ्रष्ट आचरण वाली कार्यशैली से यहां के ग्रामवासी मानसिक रूप से परेशान है और  यहां की हरिजन आबादी में लगभग 300 हैं और 15 दिन से अंधेरे में जीवन यापन करने को मजबूर है और क्योंकि यहां पर विद्युत केबल जल चुकी है जिसको बदलने के लिए यहां पर तैनात कर्मचारी को यहां के ग्रामवासियों के प्रति कोई संवेदनशीलता नहीं है व अपनी धुन में कार्य को करने में मस्त हैं यहां पर यह समस्या आज की नहीं है| इस समस्या को 8 से 10 बार से ज्यादा हो चुका है लेकिन यहां के तैनात विद्युत कर्मचारी को स्थाई समाधान आज तक नहीं कर पाए हैं जिसके कारण यहां पर आए दिन विद्युत केबल जल जाती है और ग्रामीणों को अंधकार में अपना जीवन यापन करने को मजबूर होना पड़ता है और यहां पर रात्रि में मच्छरों के के बीच में बिना लाइट के रात गुजारने को मजबूर है और यहां के हरिजन आबादी के बच्चे रात में अपनी पढ़ाई नहीं कर पाते हैं और शासन द्वारा मिट्टी का तेल बंद होने के बाद खाने के तेल से उजाला करने को मजबूर है| ये खाने के तेल से अपने बच्चों को खाना खिलाया या उजाला करें ?

    शासन द्वारा मिट्टी का तेल ग्रामीण अंचलों में बंद कर दिए जाने पर ग्रामीण अंचलों में रात के अंधेरे में खाने का तेल का दिया जलाकर उजाला करने को मजबूर हैं कि इतनी महंगाई में हम लोग कैसे   खाने का तेल जलाकर रात के अंधेरे में अपने घरों में उजाला कर रहे हैं ये हमई जान रहे हैं हम दुखियों की इस पीड़ा को कौन समझ सकें ? कैसे हम अपने बच्चों को का भरण-पोषण कर रहे हैं ये बात यहां पर तैनात विद्युत कर्मचारियों को समझ में नहीं आ रही है । ग्रामीण नंदराम ने बताया कि उसके घर के बगल में विद्युत खंभा लगा हुआ है और विद्युत केबल जलने से उससे निकली हुई चिंगारी उसके घर के अंदर तक पहुंची और घर में रखे कपड़े जल गए और साथ में मकान में करंट आने से बच्चों को बच्चों को तख्त पर खड़े रहकर अपनी जान बचानी पड़ी जबकि उनके पिता घर पर नहीं थे और बरसात का सीजन था ऐसी घटना है यहां के ग्रामीण झेलने को मजबूर है लेकिन उनकी सुनने वाला कोई नहीं है।

    ग्रामीण नंदकिशोर ने बताया कि विद्युत खंभे से विद्युत मीटर का कनेक्शन नहीं हुआ है और उनका बिजली का बिल पर लगभग ₹ हजारों का आ चुका है इसके अलावा यहां के किसान बंसी ,मुकेश ,कामता, काशीराम, पुक्खन , तारा देवी आदि ने बताया कि इनके घरों के विद्युत मीटर आग से जल चुके हैं लेकिन आग से जलने के बाद इनमें विद्युत आपूर्ति ना होने के बाद भी इनके पास विद्युत का बिल आ रहा है और ये कनेक्शन इनको सौभाग्य योजना के तहत दिए गए थे । यहां के ग्रामीण दयाराम सोनी ने बताया कि बिना लाइट के मच्छरों के बीच में यहां के ग्रामवासी अपनी रातें गुजारने को मजबूर है और मच्छरों का आतंक इतना है कि बीमार होने का खतरा बढ़ा रहा है वैसे ही कोविड की दूसरी लहर का खतरा बढ़ रहा है लेकिन जिम्मेदार जनप्रतिनिधि को इनकी इन समस्याओं के प्रति कोई हमदर्दी नहीं है।  यहां के ग्रामीणों ने बताया कि ग्राम चुरारा में 11,000 हाईटेंशन लाइन बस्ती के बीच से निकली हुई है और किसी भी समय अप्रिय घटना घटित होने की संभावना है इस को ध्यान में रखते हुए हाईटेंशन लाइन का मार्ग परिवर्तित कराया जाए । उत्तर प्रदेश किसान कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष शिव नारायण सिंह परिहार सरकार विद्युत विभाग की उदासीनता के चलते चुरारा गांव की हरिजन बस्ती जिसकी आबादी 300 है 15 दिनों से अंधेरे में जीवन यापन कर रही है कई जगह समस्या की सूचना देने के बाद आज तक इस गांव में इस मोहल्ले में बिजली नहीं आई अगर 24 घंटे के अंदर गांव की केबल जिसकी लंबाई 120 मीटर है नहीं बदली जाती और मोहल्ले में विद्युत नहीं आती है तो मजबूरन विद्युत विभाग का घेराव किया जाएगा|

    किसान शेखर राज बड़ौनियां ने कहा कि विद्युत विभाग के ग्रामीण अंचलों में तैनात कर्मचारियों द्वारा अपने शीर्ष अधिकारियों को समय से सही जानकारी ना देने के कारण यहां के ग्रामीण अंचलों में इस प्रकार की समस्याओं का बने रहने का क्रम जारी है जिसके कारण यहां के ग्रामवासी विद्युत समस्याओं के समय से समाधान न होने से काफी परेशान व मानसिक यातना झेलने को मजबूर है लेकिन विद्युत विभाग के शीर्ष अधिकारियों को अपने विभागीय कार्य शैली को सुधारने की अति आवश्यकता है जिस पर तत्काल ध्यान दिया जाना ग्रामीणों के हितों में अति आवश्यक है यदि विद्युत विभाग के स्थानीय कर्मचारियों की कार्य शैली में परिवर्तन नहीं होता है तो यहां के ग्रामवासी आने वाले समय में विद्युत विभाग के कर्मचारियों का घेराव करेंगे जिसकी समस्त जिम्मेदारी शासन प्रशासन की होगी । मौके पर दयाराम सोनी रामाधार निषाद किशोरी यादव बंसी देवीदयाल जगदीश पिन्नी नंदराम कामता गब्बू किशोरी मातादीन ढड़कोले भज्जू सुखलाल राहुल राकेश पंचम भूरे बबलू धनीराम हरिदास महेश भजनलाल धनीराम हरिश्चंद्र भुजबल जमुना नीरज दयाराम चंदन रामलाल मानिकचंद हरिश्चंद्र राकेश अम्मान चंद्र जयकरण बल्लू कुमार संदीप अमित जीतू गुलाब सिंह छत्रपाल इत्यादि ग्रामीण रहे|

    सुल्तान आब्दी
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, झांसी-उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.