Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देवबंद। रोजे की हालत में गुनाहों से बचेंः वाजदी

     देवबंद। अरबी के प्रसिद्ध विद्वान मौलाना नदीमुल वाजदी ने कहा कि रोजे़ की हालत में हर तरह के गुनाहों से बचना चाहिए, क्योंकि गुनाहों से रोजा मकरूह हो जाता हैै।

    शनिवार को मौलाना नदीमुल वाजदी ने कहा कि रोजेदारों को चाहिए की वह चुगल खोरी, झूठ बोलना, बेहयाई, लड़ाई और मारपीट आदि से अपने आपको महफूज रखें। क्योंकि अल्लाह ने इस महीने की बरकत से सवाब में बहुत इजाफा किया है तो बंदों को चाहिए कि वे अपने रब की खुशी  हासिल करने के लिए तमाम गुनाहों को छोड़कर रोजे रखें और ज्यादा से ज्यादा इबादत करें। उन्होंने कहा कि आदमी रोेजे की हालत में हर बुरे काम और बुरी बातों से खुद को महफूज रखे तो हदीस में अल्लाह का इरशाद है कि जिसने रमज़ान का रोज़ा रखा और बुरे कामों से महफूज़ रहा तो मैं उसके लिए जन्नत की जमानत देता हूं। मौलाना वाजदी ने कहा कि मुसलमानों को चाहिए कि वे रमजान के रोजे रखें, पांचों वक्त की नमाज और तरावीह  की पाबंदी करें। क्योंकि रमजान के महीने में अल्लाह जितना अपने बंदों को नवाजता है उसकी कल्पना साल के दूसरे महीनों में नहीं की जा सकती है।


    शिब्ली इक़बाल 

    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, देवबंद 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.