Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। श्री राम लला को पहनाया गया सोने का मुकुट

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की धर्मनगरी अयोध्या में  श्री राम जन्मोत्सव  धार्मिकता एवं सादगी के साथ मनाया जा रहा है। श्री राम नवमी पर राम लला को सोने का मुकुट पहनाया गया। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सौजन्य से श्री राम लला के विराजमान चारों भाइयों को पहनाया गया सोने का मुकुट। राम जन्मोत्सव के मौके पर रामलला ने धारण किए सोने का मुकुट।, मिली नई पोशाक।


    श्रीराम नवमी भगवान श्रीरामलला के पावन जन्मोत्सव) पर्व पर प्रातः ब्रह्म मुहूर्त में अयोध्या में श्रीरामलला सहित सभी विग्रह को वैदिक मंत्रोंचारण के साथ नई पोशाक पहनाई गई। इसके अलावा श्रीराम जन्मभूमि में विराजमान रामलला को सोने का मुकुट पहनाया गया।  श्री रामलला के साथ विराजमान चारों भाइयों को भी सोने का मुकुट पहनाया गया। राम जन्मोत्सव के मौके पर रामलला ने सोने का मुकुट धारण किया है।

     भगवान को छप्पन भोग प्रसाद लगवाकर देश व प्रदेश में लगातार बढ़ रहे कोरोना महामारी से मुक्ति तथा समाज के उत्तम स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना की। रामनवमी के मौके पर भगवान को अपनी श्रद्धा समर्पित की। राम जन्मोत्सव के अवसर पर कहा गया कि वर्तमान संकट शीघ्र समाप्त हो और राम भक्त प्रभु के चरणों में पुनः दर्शनार्थ उपस्थित हों। संकटों की काली छाया अधिक दिनों तक नही रहने वाली है। हम सभी अपने निवास स्थान पर रहकर प्रभु की स्तुति करें और सम्पूर्ण विश्व के स्वस्थ जीवन की मंगल कामनायें करें। 

    अयोध्या में सादगी से मनाई जा रही रामनवमी, बाहरी श्रद्धालुओं को नहीं मिल रहा प्रवेश, कोरोना संकट के चलते अयोध्या में रामनवमी पर्व सादगी से मनाया जा रहा है। भगवान राम के जन्म उत्सव का उल्लास देखने को नही मिल रहा। आम श्रद्धालु के लिए अयोध्या के सभी मंदिरों के कपाट बंद कर दिए गए हैं।अयोध्या धाम की सीमा सील कर दी गयी है।अयोध्या धाम में आम श्रद्धालु प्रवेश नही कर पा रहे हैं। अयोध्या आने पर  48 घंटे के अंदर कोविड की निगेटिव रिपोर्ट दिखाने की बाध्यता  है। 

    राम जन्मभूमि परिसर में भी रामलला का जन्मोत्सव  सादगी पूर्ण ढंग से मनाया जा रहा। कनक भवन समेत अन्य मंदिरों में भी सादगी पूर्ण से  भगवान राम का जन्म उत्सव। दोपहर 12 बजे  भगवान राम का जन्म हुआ। कोरोना संक्रमण के चलते अयोध्या में श्रद्धालुओं को प्रवेश न मिलने से सरयू तट पर सन्नाटा छाया  हुआ है। सरयू के घाटों पर स्नान करने वालों की भीड़ नहीं दिखाई पडी। यही हाल राम जन्मभूमि और कनक भवन समेत अन्य प्रमुख मंदिरों की ओर जाने वाले मार्गों का है। कहीं भी श्रद्धालुओं के जत्थे नहीं दिखाई दे रहे हैं। अयोध्या की बाहरी सीमा से ही  श्रद्धालुओं  वापस हो  रहे हैं।


    देव बक्श वर्मा 

    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, अयोध्या 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.