Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। पड़ोसियों ने किया शव को कंधा देने से मना, तो बेटियां आईं आगे, अर्थी को कंधा देकर पहुंचाया श्मशान

    अयोध्या। वाह क्या जमाना आ गया है। लोग अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं होना चाहते।  अब इस जमाने में  लोग नेगेटिव वाले को ज्यादा पसंद कर रहे हैं।  उसका साथ करने में और उसके साथ जाने में जरा सी भी हिचक नहीं करते। और पास्टिंव वाले के पास ना जाना चाहते हैं और ना ही आने देना चाहते हैं। घर का हो या रिश्तेदार टोला पड़ोस हो या गांव मोहल्ला का कोई भी व्यक्ति पास्टिंव वाले को देखना नहीं चाहता।

    धर्म नगरी अयोध्या में कुछ इस तरह का देखने को मिला जिसको देखकर आंसू आ जाते हैं। बेटियां किसी से कम नहीं हैं। पड़ोसियों ने शव को कंधा देने से मना किया तो महिलाएं खुद आगे आईं। किसी तरह से अंत्येष्टि हुई। वहीं दूसरी घटना में शव को बेटे द्वारा विक्रम से श्मशान घाट ले लाया गया।  देख वहां मौजूद लोगों के आंसू निकल पड़े।

    रामनगरी अयोध्या के सरयू तट स्थित श्मशान घाट पर ऐसे मामले सामने आए कि देखने वालों की आंखे नम हो गईं।मृतक की चार लड़कियां है, लड़के एक भी नहीं । परिवार में पिता की मौत हो गई, आसपास का कोई भी व्यक्ति शव उठाने को तैयार नही हुआ। जिसके बाद घर की महिलाओं ने कंधा देकर शव को श्मशान घाट पहुंचाया।

    वहीं दूसरी घटना मृतक पिता रामलोट के बेटे राकेश ने लोगों को पिता की मौत की सूचना दी। अगल-बगल कोई भी व्यक्ति इस लड़के के पिता के अंतिम संस्कार में जाने को तैयार नहीं हुए ना ही मदद करने को तो लड़का खुद ही अपने पिता की लाश को विक्रम पर लादकर श्मशान घाट अयोध्या पहुंचा। पिता का अंतिम संस्कार करवाया गया। बताया जाता है कि मौत के बाद अगल-बगल के लोगों से भी मदद नही मिली। जब श्मशान घाट लाश ले जाना हुआ तो कोई तैयार नहीं हुआ। क्या  जमाना  आ गया है।


    देव बक्श वर्मा 

    Initiate News Agency (INA), अयोध्या 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.