Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या। जान की परवाह किए बिना राजनीति का नशा जान तक ले रहा है

    अयोध्या। अयोध्या जनपद में विकास की बात को भूल कर लोग अब एक तरफ अपनी जान बचाने में लगे हैं। तो दूसरी तरफ राजनीति का नशा ऐसा छाया है कि उसी में व्यस्त हैं । उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव मे जो देखने को मिला उसका बखान बखूबी किया जा सकता है। एक तरफ कोरोना संक्रमण महामारी का प्रकोप चल रहा है। तो दूसरी तरफ लोग त्रिस्तरीय पंचायत में व्यस्त दिखाई पड़े। जिसका परिणाम 2 मई को सुनिश्चित हो गया कौन जीता कौन हारा यह अलग बात है। 

    किंतु कौन कोरोन संक्रमित हो गया और कौन बचा है यह सबसे महत्वपूर्ण बात है। जिसके घर के लोग संक्रमित हो गए हैं कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं उनके यहां तो लगता है कि ईश्वर ही रूठ गए हैं। किंतु इसमें ईश्वर की कहां गलती है। कोरोना संक्रमण काल चल रहा है। महामारी फैली है।आग मे कूदने की क्या जरूरत थी। चुनाव में प्रचार के लिए इस तरह से जी जान से जुटना कोई बहुत मायने नहीं रखता है। चुनाव जो जीत गया उसकी तो बल्ले-बल्ले है। जो हार गया वह पछता रहा है। 

    किंतु जो चुनाव नहीं लड़ा था वाहवाही में जिंदाबाद कर रहा था धूप  छात्र की परवाह किए बिना दूसरे के लिए रात दिन एक किए था। और संक्रमण फैल जाने के बाद अब उसका क्या होगा। ना चुनाव लड़ने वाले मदद करेंगे ना टोला मोहल्ला वाले मदद करेंगे। जहां जाओ अस्पताल में डॉक्टर भी छूने को तैयार नहीं है। आखिर इलाज कैसे होगा? ऑक्सीजन के लिए दर-दर भटकना पड़ेगा। दवा कैसे होगी। 

    यह कठिन बात है। किंतु जब स्वर्गवासी हो गए तो उस घर में तो मातम फैल जाएगा। और देखा जा रहा है कि हम अपने तमाम साथियों को गवाते चल रहे हैं। जिले में कई अधिकारी कई शिक्षक कई संभ्रांत व्यक्ति और आमजन हमें छोड़ कर चले गए। जिसको चुनाव की पड़ी थी वह चुनाव करा रहा था जिसको लड़ना था वह लड़ रहा था जिसको जितना था वह जीत गया। उस घर की अब क्या हालत है उसको कोई पूछने वाला नहीं है।


    देव बक्श वर्मा

    Initiate News Agency (INA), अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.