Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    प्रस्तावित सूची में आरक्षण के नियमों का उल्लंघन किए जाने का आरोप

    प्रस्तावित सूची में आरक्षण के नियमों का उल्लंघन किए जाने का आरोप

    सीतापुर। आगामी पंचायती चुनाव को लेकर प्रशासन द्वारा प्रस्तावित आरक्षण सूची के आंकड़े हवा में फैलते ही पूरे जिले में हड़कंप सा मच गया है। जनपद के प्रमुख किसान संगठन भारतीय किसान मंच ने आरक्षण सूची में गड़बड़ियों को देखते हुए प्रशासन के खिलाफ कमर कसने का आवाहन किया है। चुनावी तैयारियों के बीच में प्रस्तावित सूची में आरक्षण के नियमों का उल्लंघन किए जाने का आरोप लगाते हुए भारतीय किसान मंच के प्रदेश अध्यक्ष शिव प्रकाश सिंह ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर जिला प्रशासन से प्रस्तावित आरक्षण सूची को निरस्त कर आरक्षण कोटे के आधार पर नई सूची जारी करने की मांग की है। उन्होंने प्रशासन पर लालफीताशाही का आरोप लगाते हुए कहा कि जनपद में जिला पंचायत के कुल 79 पद हैं, जिनमें एससी कोटे के 21% आरक्षण के अनुसार कुल 17 पद आरक्षित होने चाहिए थे। जबकि प्रशासन ने प्रस्तावित सूची में 28 पदों को एससी कोटे में आरक्षित कर दिया है, जबकि अनारक्षित पदों में 40 सीटों की बजाए मात्र 30 सीटों को अनारक्षित किया गया है। भारतीय किसान मंच से जुड़े समाजसेवी शेख फारुक अहमद अध्यक्ष आम जन सामाजिक विकास संस्थान ने उक्त प्रकरण को संविधान विरोधी बताते हुए मामले को उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय तक ले जाने की बात कही। उन्होंने कहा यह केवल एक दो सीटों का मामला नहीं है|

    पूरे जनपद में बड़े पैमाने पर गड़बड़ियां की गई हैं और पूरा जनपद इस लड़ाई में कंधे से कंधा मिलाकर इस लड़ाई को लड़ेगा उन्होंने कहा नाम के पूरे जनपद में जहां भी लोगों को आपत्तियां हैं वह हमसे 7985749746 और 9005170849 एवं 9264987565 पर संपर्क कर अपनी आपत्तियां दर्ज करा सकता है । प्रदेश प्रवक्ता सचेन्द्र दीक्षित ने कहा कि सीतापुर जनपद में ब्लाक प्रमुख के पदों के आरक्षण में भी भारी गोलमाल किया गया है। उन्होंने कहा कि आरक्षण के नियमों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। मंडल संयोजक जितेंद्र मिश्रा ने सूची में हुई गड़बड़ियों का शीघ्र सुधार कर प्रशासन से नई सूची जारी करने की मांग की। उन्होंने कहा कि धनबल, बाहुबल और राजनीतिक संरक्षण प्राप्त लोग प्रशासन से मिलीभगत कर आरक्षण के नियमों को तार-तार करने में लगे हुए हैं। मंडल प्रवक्ता दिनेश शुक्ला ने जिला प्रशासन पर ग्राम प्रधानों के पदों के आरक्षण के मामले में भारी गड़बड़ी करने का आरोप लगाते हुए कहा कि राजनीतिक दबाव के चलते जिला प्रशासन द्वारा आरक्षण के नियमों को ताक पर रखकर जो सूची प्रस्तावित की गई है|

    उसका भारतीय किसान मंच हर स्तर पर विरोध करेगा। पंचायती चुनाव के संबंध में ग्राम प्रधान, क्षेत्र पंचायत सदस्य, जिला पंचायत सदस्य व क्षेत्र प्रमुख के पदों के लिए जारी की गई आरक्षण सूची का विरोध करने वालों में भारतीय किसान मंच के जिला अध्यक्ष अंबुज श्रीवास्तव, युवा प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष शिवम प्रताप सिंह, जिला कोषाध्यक्ष डॉक्टर इस्लामुद्दीन अंसारी, मासूम अली, राजू खान, लाडी सरदार, मोहित सिंह, मेराज सिद्दीकी, जसपाल सिंह, इस्खार खान, अमरदीप वर्मा, शिवपूजन यादव, त्रिपुरेश कुमार, आबिद अली अंसारी, आदित्य कुमार, नदीम खान, नीरज कुमार राज ,प्रदीप वर्मा, अजय सिंह, रुस्तम खान, महेश कश्यप, जगदीश भार्गव, प्रधान देशराज यादव, हुकुमचंद मौर्य, वरिष्ठ समाजसेवी कौशिक मिश्रा, डॉक्टर मुबारक अली, रमेश कुमार मौर्य, राजेंद्र विश्वकर्मा, उत्तम कुमार वर्मा, वरिष्ठ समाजसेवी विश्वपाल सिंह, बृजेश कुमार दीक्षित, रामू वर्मा, प्रधान टीटू भार्गव, शिवपाल सिंह बरबटा, कमला प्रसाद सुमन पतरासा, राजू सिंह मोईया, ललित सिंह सैदापुर, पंकज पांडे भैंसी, अतुल सिंह, टिंकू सिंह, रामस्वरूप निषाद, विनोद भार्गव, शान मोहम्मद, हफीज, शमसुद्दीन, इशरत मूड़ीखेरा, अनीस बिहारीगंज, रशीद प्रमुख रूप से शामिल रहे।

     शरद कपूर
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, सीतापुर  - उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.