Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    दोस्त ने दोस्त की हत्या कर डाली, पत्नी से अवैध संबंध का था शक

    दोस्त ने दोस्त की हत्या कर डाली, पत्नी से अवैध संबंध का था शक 

    अयोध्या। मामला धर्म नगरी अयोध्या का है, जहां दोस्त दोस्त न रहकर हैवान बन गया। पत्नी को आर्थिक मदद देने पर अवैध सम्बन्ध के शक पर हत्याकर शव को जमीन में गाड़ दिया। मुख्य आरोपी समेत 06 को गिरफ्तार कर पुलिस ने हत्याकांड का  खुलासा किया है। एसपी सिटी विजय पाल सिंह ने बताया कि पान मसाला के युवा व्यवसायी शुभम चौरसिया पुत्र करूणानिधान चौरसिया की हत्या के मामले में आरोपियों से गहन पूछताछ की गई है। मुख्य अभियुक्त सुशांत पांडे व दो सगे भाई समेत छह गिरफ्तार अभियुक्तों ने प्लान के तहत हत्या की। इसके पीछे मृतक शुभम चौरसिया की ओर से मुख्य अभियुक्त की पत्नी को आर्थिक मदद दिया जाना है। रुपये देने के चलते अवैध सम्बन्धों का शक हुआ। प्लान के तहत शुभम चौरसिया को बुलाया। शुभम को साथ लेने के बाद मुख्य अभियुक्त ने फोन कर सहयोगियों को बताया कि कब्र तैयार रखो। शुभम की हत्या कर रहा हूं। जिसके बाद गला दबाकर मार डाला। कार से शव ले जाकर महराजगंज थाना क्षेत्र की पुलिस चौकी पूरा बाजार के ऐमी आलापुर में दफन कर दिया। अभियुक्तों की गिरफ्तारी के साथ घटना में प्रयुक्त कार और मोटरसाइकिल भी बरामद कर ली गई है। 

    मृतक की फाइल फोटो

          अयोध्या कोतवाली क्षेत्र के उर्दू बाजार का रहने वाला शुभम चौरसिया 08 मार्च की शाम से ही लापता हो गया था। मुख्य आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ के बाद 10 मार्च को ऐमी आलापुर क्षेत्र से दफन लाश को बरामद किया गया। उर्दू बाजार का रहने वाले शुभम की श्रृंगार हॉट में पान मसाला की दुकान है।

    पुलिस हिरासत में हत्यारोपी|

       शुभम चौरसिया 08 मार्च दोपहर खरीदारी के लिए नगर कोतवाली क्षेत्र के फतेहगंज गया था। शाम 4 बजे उसका मोबाइल स्विच ऑफ हो गया था। जिसके बाद कहीं पता नहीं चला था। जिसके बाद पिता करूणानिधान चौरसिया ने अयोध्या कोतवाली पुलिस को प्रार्थना पत्र दिया। पुलिस ने प्रकरण में अज्ञात के खिलाफ अपहरण का मुकदमा पंजीकृत किया था। सीसीटीवी फुटेज को खंगालने के बाद पुलिस संदिग्धों से पूछताछ में जुटी थी। संदिग्धों से मिली जानकारी के आधार पर जनपद के क्राइम ब्रांच की स्वाट टीम, सर्विलांस सेल और अयोध्या कोतवाली पुलिस ने जानकारी हासिल कर आलापुर क्षेत्र में खुदाई कराई तो दफन की गई शुभम चौरसिया की लाश बरामद हो गई। परिवारीजनों ने शव की शिनाख्त कर ली। इसके बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

    हत्या में प्रयुक्त कार व बाइक बरामद

     करूणानिधान चौरसिया पुत्र स्व0 अर्जून प्रसाद निवासी रामबाग हाता, नयाघाट उर्दू बाजार थाना कोतवाली अयोध्या जनपद अयोध्या के द्वारा थाना स्थानीय पर सूचना दी गयी कि उनका पुत्र शुभम चौरसिया उम्र 25 वर्ष जो अपने दुकान से सामान खरीदने चौक गया था, वापस नहीं आया इस सूचना पर थाना स्थानीय पर  08.मार्च.2021 को मु0अ0सं0 120/21 धारा 364 भा0द0वि0 बनाम अज्ञात का अभियोग पंजीकृत होकर विवेचना प्रारम्भ की गयी । उक्त गुमशुदगी की बरामदगी व घटना का अनावरण  के लिए  पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक   के द्वारा निर्देश दिये गये। जिसके क्रम में  पुलिस अधीक्षक नगर  व क्षेत्राधिकारी अयोध्या   उक्त घटना की अनावरण हेतु थाना स्थानीय की पुलिस व सर्विलांस की टीम गठित की गयी। दिनांक 10.मार्च 2021 को उक्त गुमशुदा का शव थाना महराजगंज जनपद अयोध्या क्षेत्र में स्थित ऐमी घाट के पास बरामद हुआ, जिसकी अग्रिम कार्यवाही करते हुए  सर्विलांस व मुखबिर की मदद से उक्त घटना में शामिल  06 अभियुक्तगण . सुशांत पाण्डेय .मोहित दूबे .राहुल दूबे .रितिक गौरव .सुनील यादव उर्फ पेन्टर .सत्येन्द्र उर्फ गुड्डू दूबे को  गिरफ्तार किया गया तथा घटना में प्रयुक्त की गई कार स्विफ्ट डिजायर कार नं0 UP 32 KT 3128  व मोटरसाइकिल टीवीएस स्पोर्ट नं0 UP 42 BB 1363 को बरामद की गयी । पूछताछ करने पर अभियुक्तगणों ने बताया कि अभियुक्त सुशांत पाण्डेय मृतक सुभम चौरसिया का गहरा दोस्त है । मृतक की सुशांत पाण्डेय की पत्नी से बातचीत व मृतक के द्वारा उसकी पत्नी को आर्थिक सहायता देने के कारण अन्तरूनी रंजिश रखने लगा था तथा मृतक सुभम चौरसिया को रास्ते से हटाने की साजिश कर दिया । उसी साजिश के तहत सुशांत पाण्डेय ने अपने ननिहाल ग्राम ऐमी आलापुर के दोस्तों के साथ योजना बनाकर सम्मिलित एकराय होकर इस घटना को अंजाम दिया। अभियुक्तगण द्वारा पूर्व से ही शुभम चौसरिया की हत्या की योजना बनाई गयी थी, जिसके लिए सुशांत पाण्डेय ने एक मोबाइल नम्बर को प्रतीक गुप्ता बनकर कई दिनों से मृतक को फोन करता था, ताकि वह अकेले उसके बुलाने के स्थान पर आ जाये तथा घटना को अंजाम दे सके।  इसी क्रम में सुशांत पाण्डेय व उनके मित्र द्वारा  शाम तीन बजे  के आस-पास मृतक शुभम चौसरिया को देवकाली के पास बुलाया गया तथा वहाँ तुरन्त मृतक शुभम चौरसिया को उक्त स्विफ्ट डिजायर कार में बैठाकर   हाथ व मुँह पर टेप लगाकर गला दबाकर हत्या कर दी गयी तथा मृतक शुभम चौरसिया के शव को ऐमी घाट स्थित कब्रिस्तान में ले जाकर पूर्व से ही अभियुक्तगण द्वारा खोदे गये गड्ढे में छिपा दिया गया था । घटना को अंजाम देने के बाद अभियुक्तगण सुशांत पाण्डेय व मोहित दूबे मृतक शुभम चौरसिया के परिवारजनों के साथ शुभम चौरसिया को ढूंढने का नाटक कर रहे थे । तत्पश्चात उक्त अपहरण करने व हत्या कर शव को छिपाने व एक पूर्वयोजना के तहत एक राय होकर घटना कारित करने के सम्बन्ध में उक्त पंजीकृत  अभियोग में धारा 302/201/120बी/34 भा0द0वि0 की बढ़ोत्तरी की गयी। घटना में प्रयुक्त कार अभियुक्त मोहित दूबे के पिता के नाम से व प्रयुक्त मोटरसाइकिल अभियुक्त सुनील यादव उर्फ पेन्टर के नाम से है । इस प्रकार एक अज्ञात घटना का अनावरण कोतवाली अयोध्या की पुलिस टीम व सर्विलांस टीम के सम्मिलित प्रयास से किया गया।

    देव बक्श वर्मा
    आई एन ए न्यूज़ अयोध्या - उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.