Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    1 अप्रैल 2021 से शुरू होगी गेहूँ की खरीद, गेंहूॅ क्रय न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के अन्तर्गत रू0 1975/- प्रति कुंतल की दर से की जाएगी

    1 अप्रैल 2021 से शुरू होगी गेहूँ की खरीद, गेंहूॅ क्रय न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के अन्तर्गत रू0 1975/- प्रति कुंतल की दर से की जाएगी

    शाहजहाँपुर| 1 अप्रैल 2021 से गेहूँ की खरीद प्रारम्भ कर दी जायेगी। गेहूँ की खरीद का समय प्रातः 9ः00 बजे से सांय 6ः00 बजे तक रहेगा। यह बात जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह ने विकास भवन सभागार में गेहॅूं क्रय वर्ष 2021-22 के अन्तर्गत आयोजित बैठक के दौरान कही। उन्होंने कहा कि गेंहूॅ क्रय न्यूनतम समर्थन मूल्य योजना के अन्तर्गत रू0 1975/- प्रति कुंतल की दर से की जाएगी। सिंह ने कहा कि क्रय केन्द्र तहसील, ब्लाक, सहकारिता विभाग से सम्बद्ध साधन सहकारी समितियों के भवन, मण्डी स्थल एंव उपमण्डी स्थल, एग्रीकल्चरल मार्केटिंग हब, ग्रामीण अवस्थापना केन्द्र, इत्यादि पर स्थापित किये जायेंगे। इसके अतिरिक्त क्रय केन्द्र सरकारी भवन, पंचायत भवन, गन्ना समितियों के भवन, खाद एंव बीज विक्रय केन्द्र पर भी खोले जा सकते है। यदि सरकारी भवन उपलब्ध नहीं है तो अपरिहर्य स्थिति में किराये पर लिये गये भवन/क्रय केन्द्र मुख्य मार्ग पर स्थापित होंगे। उन्होंने कहा कि क्रय केन्द्रों की रिमोट सेन्सिग एप्लीकेशन सेन्टर के माध्यम से जियो टेगिंग की जायेगी।

    जिलाधिकारी ने कहा कि कृषक का गेंहू निर्धारित मानक के अनुरूप न होने पर गेंहू की छनाई व सफाई कराई जायेगी, उतराई/सफाई/छनाई कृषक स्वय कर सकेंगें, यदि उतराई, छनाई, सफाई का कार्य केन्द्र पर उपलब्ध श्रमिकों द्वारा कराया जाता है तो समझौते के अनुरूप अथवा अधिकतम 20/- प्रति कुन्तल की दर से भुगतान किया जायेगा। मण्डी स्थल के क्रय केन्द्र सम्बद्वीकरण से मुक्त होंगे। मण्डी के बाहर के क्रय केन्द्रो से राजस्व ग्रामों का संबद्धीकरण अनिवार्य रूप से किया जायेगा, सम्बद्ध ग्रामों का किसान ही सम्बन्धित क्रय केन्द्र पर अपना गेंहू बेज सकेगा। उन्होंने कहा कि गेंहू विक्रय हेतु कृषक का खाद्य विभाग के पोर्टल  पूर्णबण्नचण्हवअण्पद पर पंजीकरण कराना अनिवार्य होगा। कृषकों का पंजीकरण उनके आधार संख्या एवं पंजीकरण के समय कृषक द्वारा दर्ज मोबाईल संख्या पर प्रेषित ओ0टी0पी0 के आधार पर किया जायेगा। जिन कृषकों का पंजीकरण खरीफ विपणन वर्ष 2020-21 में धान खरीद में पंजीकरण करा चुके है, उन्हे गेंहू विक्रय हेतु पुनः लाॅक करना होगा। गेंहू बिक्री के समय क्रय केन्द्रों पर किसान के स्वयं उपस्थित न होने की दशा में किसान द्वारा पंजीकरण के समय अपने पंजीकरण प्रपत्र में परिवार के नामित सदस्य का विवरण एवं आधार संख्या फीड कराना अनिवार्य होगा। 

      इन्द्र विक्रम सिंह ने कहा कि किसी कृषक द्वारा यदि अधिकतम 100 कुन्तल गेहूँ क्रय केन्द्रों पर बेचना चाहता है तो वह अग्रेतर आदेश तक आॅनलाईन सत्यापन से मुक्त रहेगा। 100 कुन्तल से अधिक गेहूॅ विक्रय किये जाने की दशा में राजस्व विभाग व पी0एफ0एम0एस0 से सत्यापन कराते अए गेहूँ खरीद की जायेगी। बटाईदार एवं चकबन्दी के अन्तर्गत ग्रामों के किसानों का गेंहू चकबन्दी सम्बन्धी संगत अभिलेख के आधार पर सम्बन्धित उपजिलाअधिकारी द्वारा शत-प्रतिशत आॅनलाईन सत्यापन के उपरान्त ही क्रय किया जायेगा। खरीद के समय किसानों द्वारा खाद्य विभाग के पोर्टल पर पंजीकरण में जो भी विवरण दर्ज किया गया है, उनके सम्बन्ध में समस्त मूल अभिलेख तथा आधार एवं पहचान पत्र खरीद के समय क्रय केन्द्रों पर क्रय केन्द्र प्रभारी के समक्ष प्रस्तुत किये जायेगे, तथा उनकी स्वहस्ताक्षरित छायाप्रति भी क्रय केन्द्र प्रभारी को उपलब्ध कराया जाना अनिवार्य होगा। उन्होंने कहा कि  संयुक्त परिवार की स्थिति में कोई एक खाताधारक अन्य सह खाताधारकों की सहमति से उनकी तरफ से गेंहू विक्रय हेतु पंजीकरण करा सकेगा, एवं गेंहू बिक्री कर सकेगा। इस हेतु परिवार के सदस्य द्वारा सह खातेदार का प्रमाण-पत्र भी प्रस्तुत किया जायेगा। क्रय एजेन्सियो द्वारा गेंहू क्रय सम्बन्धी अभिलेख निर्धारित प्रारूप पर छपवाकर रखे जायेगे, यथा टोकन पंजिका, निरीक्षण पंजिका, शिकायत पंजिका, गेंहू रिजेक्शन पंजिका, क्रय टक पट्टी, क्रय पंजिका, स्टाॅक रजिस्टर, बोरा रजिस्टर, मूवमेन्ट चालान अनिवार्य रूप से रखे जायेगे। कृषक का गेंहू गीला अथवा गन्दा होने पर क्रय केन्द्र पर तत्काल अस्वीकृत न किया जाये, बल्कि उसे क्रय केन्द्र पर सुखाने व साफ करने का पर्याप्त मौका दिया जाये व मानक के अनुरूप आ जाने पर क्रय किया जाये। किन्ही विशिष्ट परिस्थितियों में कृषकों द्वारा लाया गया गेंहू यदि मानक के अनुरूप नही पाया जाता है तो गेंहू को अस्वीकृत किये जाने की प्रक्रिया आॅनलाईन पोर्टल पर की जायेगी तथा रिजेक्शन रजिस्टर में भी इसका विवरण अंकित किया जायेगा।

    गेहूँ केन्द्र पर अस्वीकृत होने पर यदि कृषक असन्तुष्ट है तो वह तहसील स्तर पर कार्यरत क्षेत्रीय विपणन अधिकारी के पास अपली कर सकता है। क्षेत्रीय विपणन अधिकारी के अध्यक्षता में गठित समिति उसी दिन कृषक के सम्मूख विश्लेषण कर निर्णय लेगी।


          उत्तर प्रदेश राजस्व संहिता (संशोधन) अधिनियम, 2019 के अनुक्रम में बटाईदार से भी गेंहू शतप्रतिशत सत्यापन के उपरान्त अधिकतम 100 कुन्तल क्रय किया जायेगा। बटाईदार भूस्वामी/कृषक के निवास के ग्राम अथवा सटे हुए गांव का तथा जहाॅ भूस्वामी/कृषक की जमीन है, उसी ग्राम अथवा सटे हुए गांव का अनिवार्य रूप से निवासी होना चाहिये। इस हेतु वोटर आई-डी, आधार कार्ड, अथवा लेखपाल के स्तर से निर्गत प्रमाण पत्र मान्य होगा, कृषक व बटाईदार के मध्य लिखित सहमति जो कि क्षेत्र के लेखपाल से सत्यापित हो, गेंहू का भुगतान विक्रय के समय क्रय केन्द्र प्रभारी को उपलब्ध करानी होगी, विक्रय किये गये गेंहू का भुगतान बटाईदार के खाते में किया जायेगा। 

    जिलाधिकारी इन्द्र विक्रम सिंह ने निर्देश दिये है कि प्रत्येक क्रय केन्द्र का नोडल दैनिक रिपोर्ट प्रेषित करेगा। गेहू विक्रय करने वाले प्रत्येक कृषक को पावती पत्र तत्काल उपलब्ध करायी जाये, जिस केन्द्र से पावती पत्र समय से न दिये जाने की शिकायत प्राप्त हुयी उस केन्द्र प्रभारी के विरूद्ध तत्काल कार्यवाही की जायेगी।  केन्द्र पर बोरो का विवरण की कितने बोरें प्राप्त हुये, कितने मे खरीद हुयी तथा कितना अवशेष है इसका विवरण अनिवार्य रूप से रखा जाये। केन्द्र पर पहुचने वाले कृषकों को टोकन तत्काल निर्गत किया जाये। टोकन प्रंजिका पूर्ण रूपेण भरी होनी चाहिए कोई लाईन नही छोड़ी जायेगी और न ही ओवर राईटिंग की जायेगी। प्रत्येक क्रय केन्द्र प्रभारी यह सुनिश्चित करेगा कि जब केन्द्र पर आगामी 03 दिवस के खरीद के समतुल्य बोरा रह जाये तो तत्काल अपने एजेन्सी के जिला प्रबंधक से सम्पर्क कर बोरें की आपूर्ति सुनिश्चित कर ले। समस्त जिला प्रबन्धक अपने क्रय केन्दों पर आवश्यक उपकरण बोरा आदि की व्यवस्था 25़.03.2021 तक अवश्य सुनिश्चित कर लें, खरीद अवधि के दौरान अपने केन्द्रों का नियमित निरीक्षण करते हुये बोरों की आपूर्ति सुनिश्चित करेंगें। जिस एजेन्सी के क्रय केन्द्र पर बोरों का आभाव मिला उस एजेन्सी के जिला प्रबंधक का भी उत्तरदायित्व निर्धारित किया जायेगा। बैठक मंे अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0)  गिरिजेश कुमार चैधरी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी कमलेश कुमार पाण्डेय, जिला कृषि अधिकारी सतीश पाठक आदि उपस्थित रहे।

    फ़ैयाज़ उद्दीन
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.