Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    घर मे घुसकर गोली मारकर हुई हत्या, देवर ही निकला विधवा भाभी का हत्यारा

    घर मे घुसकर गोली मारकर हुई हत्या, देवर ही निकला विधवा भाभी का हत्यारा

    जायदाद ने बना दिया दुश्मन, 7 वर्षीय भतीजे ने की शिनाख्त

    बैतूल| मध्यप्रदेश के बैतूल के अंतर्गत आमला थाना इलाके में एक विधवा की गोली मारकर की गई हत्या के मामले में आरोपी उसी का सगा देवर निकला। पुलिस ने मृतिका के देवर समेत एक महिला को इस हत्या के आरोप में गिरफ्तार कर वह पिस्टल बरामद कर ली है।जो महिला की हत्या में इस्तेमाल की गई थी। हत्या की वजह वह जमीन जायदाद बताई जा रही है जो मृतिका के पति ने उसके नाम की हुई थी। एसपी बैतूल शिमाला प्रसाद ने आज शाम इस अंधे हत्याकांड का खुलासा किया।


    दरअसल, मामला थाना इलाके के गांव कन्नौजिया का है, जहाँ 6 फरवरी की रात महिला वर्षा नागपूरे की अज्ञात व्यक्ति ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। देर रात हुए इस कत्ल का पुलिस को कोई सुराग नही मिल रहा था। क्योकि जिस समय यह कत्ल हुआ। महिला अपने सात साल के बेटे के साथ घर पर अकेली थी। पुलिस के मुताबिक हत्यारे ने उसे बेहद करीब से सिर में गोली मारी थी। पुलिस ने इस मामले में पड़ताल शुरू की और मौके पर मौजूद मृतका के सात साल के बेटे से घटना के समय आने जाने वालों का हुलिया पूछा तो पूरा प्रकरण खुलकर सामने आ गया। मृतका के बेटे के बताए हुलिए के आधार पर पुलिस ने जब पूछताछ और जांच का दायरा तय किया तो शक की सुई मृतका के भोपाल में रहने वाले देवर सोनू नागपुरे पर आ टिकी। पुलिस टीम ने भोपाल जाकर जब सोनू को हिरासत में लिया और पूछताछ शुरू की तो वह बहुत जल्दी टूट गया। पड़ताल में खुलासा हुआ कि मृतका वर्षा का पति ललित सेना के मोटर व्हीकल डिवीजन में तैनात था। 2012 में उसकी मौत हो गयी थी। जिसकी मौत के बाद करीब 20 लाख रुपये की रकम मृतका को मिली थी।

    इसके अलावा तीन चार प्लाट भी उसके नाम थे। इस जमीन और जायदाद को लेकर मृतका और देवर के बीच विवाद चल रहा था। यह मामला उत्तराधिकार को लेकर अदालत तक भी पहुचा था लेकिन इसमें आरोपी की हार हो गयी। यद्यपि मृतका वर्षा और उसके पति ललित ने साल 2011 में प्रेम विवाह किया था इसलिए भी उसका देवर व अन्य ससुराल वालों से मृतका की पटरी नही बैठती थी| उस पर जमीन जायदाद का यह मामला आग में घी का काम कर रहा था। मृतका शादी के एक साल बाद ही विधवा हो गयी थी। उसके पति के खाते में करीब 20 लाख रुपये जमा थे। जबकि उसके कई प्लाट भी थे। ससुराल पक्ष इस रकम और प्लाटों पर अपना हक चाहते थे। इसी रंजिश के चलते भोपाल में ओला कैब ola cab में नौकरी करने वाले सोनू ने अपनी भाभी को रास्ते से हटाने का तानाबाना बुना। उसने इसके लिए गांव की ही महिला कीर्ति पवार को अपना मोहरा बनाया और उससे वर्षा की पल पल की जानकारी लेता रहा। 6 फरवरी को वर्षा के अकेले होने की उसे जैसे ही कीर्ति से जानकारी मिली। वह वर्षा के घर के पिछले दरवाज़े से अंदर दाखिल हुआ और उसने घर मे बेटे के साथ अकेली वर्षा को गोली मार दी। हत्या के बाद वह वापस भोपाल पहुंच गया। पुलिस ने इस मामले में सोनू के अलावा सारे संदेहियों के मोबाइल लोकेशन रिकार्ड के अलावा हुलिए के तस्दीक की तो सोनू इस कसौटी पर जंच गया। जिसके बाद पुलिस ने इस हत्या के मामले में मृतिका के देवर सोनू उर्फ कृष्णशंकर और महिला कीर्ति पवार को गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले में आरोपी के खिलाफ धारा 302,460,25-27 आर्म्स एक्ट के तहत कार्रवाई की है। 

    बैतूल से शशांक सोनकपुरिया की खास रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.