Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जनसुनवाई से लौट रहे कलेक्टर का काफिला रोक सड़क पर ही धरने पर बैठ गयी छात्रा

    जनसुनवाई से लौट रहे कलेक्टर का काफिला रोक सड़क पर ही धरने पर बैठ गयी छात्रा

    (रेगुलर छात्राओं को प्राइवेट करने की बात सी नाराज थी छात्रा ,कलेक्टर के आश्वासन के बाद उठी छात्रा)

    बैतूल| मध्य प्रदेश के बैतूल के भैसदेही में मंगलवार को उस समय हंगामा मच गया जब एक छात्रा कलेक्टर की कार के सामने सड़क पर बैठ गई और कलेक्टर का काफिला रोक लिया। अपनी रेगुलर मार्कशीट न मिलने से नाराज छात्रा पूजा कलेक्टर की कार के सामने धरने पर बैठ गयी। वह तब तक कार के सामने से टस से मस नही हुई जब तक उसे कलेक्टर का संतुष्टिप्रद जवाब नही मिल गया।

    पूजा मालवीय नाम की यह छात्रा शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भैंसदेही की छात्रा है। उसने साल 2019 में इस स्कूल से कक्षा बारहवीं की परीक्षा दी थी।  वैशाली और उसके साथ की 33 छात्राएं यहा नियमित छात्र के तौर पर अध्ययनरत थी लेकिन जब उनकी मार्कशीट आयी तो उसमे छात्राओं को प्रायवेट परीक्षार्थी बताया गया था। छात्राओं ने इसकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन पर भी की थी लेकिन उन्हें वहां से भी कोई राहत नहीं मिली।उल्टे स्कूल की प्रिंसिपल उन्हें समझौते के लिए धमकी देते रहे। 

    जिससे  छात्राएं तंग हो गयी। आज कलेक्टर अमनबीर सिंह बैस ने भैसदेही में तहसील स्तरीय जनसुनवाई का आयोजन किया था। जहां छात्राएं अपनी समस्या लेकर शिविर में हाजिर हुई थी।लेकिन वहां भी उन्हें कोई संतुष्टिप्रद जवाब नहीं मिला जिससे वे नाराज हो गयी। जब यहां शिविर के बाद कलेक्टर वापस रवाना होने लगे तो छात्रा वैशाली कलेक्टर की कार के सामने धरने पर बैठ गयी। उसने मांग की कि जब तक उसकी मार्कशीट रेगुलर की नही मिलेगी वह कार के सामने से नही हटेगी। छात्रा ने यहां तक कह दिया कि उसकी समस्या हल नही हुई तो वह कुछ भी कदम उठा लेगी। यहां छात्रा की नाराजगी देख कलेक्टर खुद कार से उतरे और फिर उन्होंने छात्रा को अपना नम्बर देकर कहा कि । उनकी समस्या दस दिन में हल हो जाएगी। कलेक्टर का भरोसा मिलने के बाद छात्रा ने कलेक्टर का रास्ता रोका।

    बताया जा रहा है कि इस स्कूल की इन छात्राओं का यह मामला यहां पदस्थ तो शिक्षकों के कारण बिगड़ा है। आरोप है कि ट्यूशन के झगड़े में छात्राओं के फार्म भरने में की गई अनियमितता की वजह से छात्राओं को रेगुलर की जगह प्राइवेट कर दिया गया। कलेक्टर ने इस मामले में प्रिंसिपल को शो काज नोटिस देने के निर्देश दिए है।छात्रा का कहना है कि उसने 9 वी से 12 तक कन्या स्कूल में रेगुलर पढ़ाई की है। दो मैडम के यहां ट्यूशन जाने का झगड़ा था। दोनो ने कह रखा था कि अगर उनके पास कोचिंग नही आएंगे तो वे उन्हें प्राइवेट करवा देँगे।

    शशांक सोनकपुरिया
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी, बैतूल, मध्यप्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.