Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बेमौसम बारिश से फसल नुकसान पर टोल फ्री नंबर 1800-419-0344 में सूचित करें किसान

    बेमौसम बारिश से फसल नुकसान पर टोल फ्री नंबर 1800-419-0344 में सूचित करें किसान

    राजनांदगांव। जिले में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना मौसम रबी 2020-21 में कुल 120472.1878 हेक्टेयर अधिसूचित फसल का बीमा किसानों के द्वारा किया गया है जिसमें चना फसल में 112498 हेक्टेयर, गेहूं सिंचित- 5034.50, अलसी 2691 तथा गेहूं असिंचित में 44.53 हेक्टेयर फसल का बीमा हुआ है। जिले के कुछ क्षेत्रों में चना फसल की कटाई प्रारंभ हो रही है परन्तु चक्रवाती हवाओं के कारण मौसम खराब होने से बेमौसम बारिश की आंशका हो रही है।

    बेमौसम बारिश से फसलों को मुख्यरूप से चना फसलों को नुकसान होने की संभावना अधिक रहती है, जिसके लिये योजनांतर्गत बीमित किसानों की फसल खराब होती है तो तत्काल बीमा कंपनी को सूचना दे सकते है, ताकि बीमा कंपनी द्वारा सर्वे उपरांत क्षति के अनुपात में क्षतिपूर्ति राशि दी जा सकें। योजना के प्रावधानुसार फसल कटाई के उपरांत खेत में सुखाने के लिये रखी हुई अथवा छोटे बंडलों में रखे हुई अधिसूचित फसल को प्राकृतिक आपदा यथा ओला, चक्रवात, चक्रवाती वर्षा एवं बेमौसम वर्षा से अधिसूचित इकाई में 25 प्रतिशत से अधिक क्षेत्र में फसलों को क्षति होती है तो ऐसी अवस्था में नमूना जांचकर सभी बीमित किसानों को क्षति का भुगतान किया जाएगा। यदि अधिसूचित इकाई में 25 प्रतिशत के कम क्षेत्र में हानि होती है तो उन सभी प्रभावित बीमित किसानों के नुकसान की जांच कर नियमानुसार क्षतिपूर्ति के पात्र घोषित की जाएगी।

    ******

    नुकसान की सूचना...

    किसानों को फसल नुकसान की सूचना बीमा कंपनी की टोल फ्री नंबर 1800-419-0344 या लिखित रूप से स्थानीय राजस्व, कृषि अधिकारी, बैंकों को निर्धारित समय सीमा 72 घंटे के भीतर बीमित फसल के ब्यौरे, क्षति की मात्रा तथा क्षति के कारण सहित सूचित करना होगा या सीधे 'क्राप इंश्योरेंस एप' से भी सूचित कर सकते है। क्षति की सूचना मिलने के उपरांत बीमा कंपनी 48 घंटे के भीतर सर्वे कार्य पूर्ण कर दावा भुगतान की कार्रवाई की जाएगी। 

    किसानों से आग्रह है बीमित फसल में क्षति होने पर तत्काल टोल फ्री नंबर 1800-419-0344  से बीमा कंपनी को सूचित करें तथा योजनांतर्गत अधिसूचित ग्रामों में पटवारी एवं ग्रा.कृ.वि.अ. के द्वारा बीमा निर्धारण के लिए किये जा रहे फसल कटाई प्रयोग में शामिल होवे ताकि वास्तविक लाभ प्राप्त हो सके।

    हेमंत वर्मा
    आईएनए न्यूज़,
    राजनांदगांव, छत्तीसगढ़

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.