Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    देखिये कैसी शिक्षा दे रहा सरकारी स्कूल का शिक्षक, बच्चों को पढ़ा रहा नास्तिकता का पाठ

    देखिये कैसी शिक्षा दे रहा सरकारी स्कूल का शिक्षक, बच्चों को पढ़ा रहा नास्तिकता का पाठ

    हाथों से काटकर फेंक दिए कलावे और कहा मंदिर में है पत्थर की मूर्ति

    बैतूल| मध्यप्रदेश के बैतूल में एक सरकारी स्कूल के शिक्षक के द्वारा पढ़ाया जा रहा है बच्चों को नास्तिकता का पाठ कहा मंदिर जाने से कुछ नही होता है और बच्चों के हाथ से कटवा दिए कलावे और राखी मामला बैतूल से लगे  ग्राम बोरगांव के सरकारी स्कूल का है जहाँ एक शिक्षक ने स्कूली बच्चों को ऐसा पाठ पढ़ाने का प्रयास किया है|

     जिससे शिक्षा विभाग सहित ग्रामीणों में हड़कंप मच गया है इस शिक्षक ने बच्चों के हाथ से कलावे काट कर फेंक दिए और  मंदिर न जाने की शिक्षा दी और ईश्वर को न मानने का भी पाठ पढ़ाया जब गांव में यह खबर फैली तो जमकर हंगामा हुआ और ग्रामीण स्कूल पहुँच गए हंगामा होते देख शिक्षक वहाँ से निकल गया लेकिन विभाग ने उसके खिलाफ कार्यवाही  का प्रस्ताव तैयार कर उच्च अधिकारियों को भेज दिया।

    यहाँ बात यह  भी उठती है कि शिक्षक समाज का आईना होता है और बच्चों के भविष्य का निर्माता भी होता है पर शिक्षक ही जब ऐसी शिक्षा देगा तो देश का भविष्य कहाँ होगा और आने वाली पीढ़ी पर क्या असर होगा लेकिन बैतूल के बोरगांव में एक शिक्षक ने मासूम बच्चों को कुछ ऐसा पाठ पढ़ाने का प्रयास किया जो  बच्चो और समाज के लिए घातक है।

    अरविंद बालापूरे नाम के इस शिक्षक ने गांव के बच्चों की कलाईयों पर बंधे रक्षा सूत्र और कलावे काटकर फेंक दिए साथ ही बच्चों को क्या सिखाया आप खुद सुन लें । शिक्षक की सफाई है कि वह सब बच्चो को एक समान देखते है।इसलिए धागे कटवा डाले। जब जानकरी विभाग के पास पहुँची तो विभाग जांच के बाद कार्यवाही की बात कर रहा है ।

    बैतूल से शशांक सोनकपुरिया की खास रिपोर्ट 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.