Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मिर्जापुर ब्लाक की ग्राम पंचायत बसई में लाखो की सोलर लाइटे बनी शोपीस

    मिर्जापुर ब्लाक की ग्राम पंचायत बसई में लाखो की सोलर लाइटे बनी शोपीस
    शाहजहांपुर। विकास खण्ड मिर्जापुर के गांवों को सौर ऊर्जा के जरिए रोशन करने के लिए सरकार ने गांवों में सोलर लाइटें लगाने का निर्णय लिया था। लेकिन इसके तहत शुरू हुआ काम भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। लाइटों में घटिया किस्म के सामान लगाया गया। जिसके कारण ज्यादातर खराब हो गई। बिजली की बचत करने और सौर ऊर्जा से गांवों को रोशन करने के लिए सरकार ने ग्राम प्रधानों के माध्यम से सोलर लाइटें लगाने की योजना बनाई। लेकिन फिलहाल ये योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ चुकी है। एक तो प्रधानों और ग्राम पंचायत अधिकारियों ने अपने चहेतों के यहां इसे लगवाया। साथ ही लाइटों में दोयम दर्जे के सामान का प्रयोग किया गया। जिसके कारण सोलर लाइटें शोपीस बनकर रह गई हैं।
    मामला ग्राम पंचायत बसई जिसमें सुनहरा, बल्लिया, पलिहुरा माजरा का सामने आया है। जिसमें विकास के नाम पर करोड़ों की धनराशि निकालने के बावजूद गॉव की तस्वीर आज भी अठारहवीं सदी के यादें ताजा करा रही हैं। अगर विकास के आंकड़ों पर गौर किया जाय तो क्षेत्र का ऐसा कोई गांव या मंजरा नहीं बचा होगा जहां सुविधाओं का अभाव ना बना हो। 
    ग्राम पंचायत बसई में वर्ष 2016-17 में लगभग 7 सात लाख रुपये की सोलर लाइटें क्रय की गईं हैं। ग्राम पंचायतों में सोलर व स्ट्रीट लाइटों की पोल खुलने लगी है। ग्राम सभाओं में लगाए गए सोलर लाइट में ग्राम प्रधान और ग्राम पंचायत अधिकारी की द्वारा खूब मनमानी की गई है। लाइटों का क्रय यूपी नेडा या फिर अधिकृत एजेंसी से करना था। लेकिन इन नियमो को दरकिनार कर प्राइवेट दुकानों से लाइटों की खरीदारी की गई।

    फ़ैयाज़ उद्दीन, शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.