Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सीता माँ की नगरी में लिखा जा रहा नया अध्याय

    सीता माँ की नगरी में लिखा जा रहा नया अध्याय

    सबसे बड़ी हस्तलिखित रामचरित मानस को लिखकर विश्व रिकॉर्ड बनाने की तैयारी

    सीतापुर| "राम काज कीन्हे बिना मोहिं कहाँ विश्राम" इसी विचार को आत्मसात कर सीतापुर नगर का प्रसिद्ध माँ वैष्णों ग्रुप ने हमेशा ही लीक से हटकर कार्य किये हैं। राम मन्दिर प्रतिरूप का निर्माण कर माँ वैष्णों ग्रुप ने खूब वाहवाही बटोरी थी। ग्रुप के सदस्य धीरेन्द्र शुक्ला मोनू ने माँ वैष्णों की अनुकृति, बाबा अमरनाथ की अनुकृति, निधिवन की अनुकृति तथा हर की पौड़ी की अनुकृति बना कर सीतापुर के जन जन के दिलों में बस गए। ग्रुप द्वारा बनाये गए श्री राम मन्दिर की अनुकृति को श्री राम जन्म भूमि न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास ने स्वीकृति दी तथा इसका अनावरण प्रयागराज में माघ मेले के अवसर पर किया गया।

    इसी क्रम में माँ वैष्णों ग्रुप द्वारा बिहारी बड़ा मंदिर, माखूपुर, खैराबाद के सानिध्य में विश्व की सबसे बृहद हस्त लिखित श्री राम चरित मानस का निर्माण का गणेश किया जा रहा है। इस हस्तलिखित राम चरित मानस का आकार लगभग साढ़े तीन फिट चौड़ा व छः फिट लंबा होगा।पुस्तक के खुलने के उपरांत पुस्तक का आकार लगभग 6 फिट लम्बा व 6 फिट चौड़ा होगा। इस पुस्तक में कुल पृष्ठ 674 होंगे|

    जिनमें क्रमानुसार बालकाण्ड में 233, अयोध्या काण्ड में 168, अरण्य काण्ड में 39, किष्किन्धा काण्ड में 21, सुन्दर काण्ड में 39, लंका काण्ड में 86 व उत्तर काण्ड 91 पृष्ठ हैं। इस ग्रंथ को पूर्ण होने में लगभग 12 से 15 माह का समय लगेगा। पूर्ण होने पर पुस्तक को समस्त प्रबुद्ध जनों व पत्रकारों के सम्मुख दर्शन हेतु प्रस्तुत किया जाएगा। तत्पश्चात पुस्तक का विमोचन अयोध्या में किया जाएगा। इसके उपरांत प्रभु इच्छा के अनुसार मानस को विभिन्न जनपदों के तीर्थ स्थलों पर अखंड पाठ हेतु ले जाया जाएगा।

    शरद कपूर सीतापुर INA NEWS

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.