Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    महावीर ग्रुप ने हथियाई महिला की जमीन, सन सिटी की सड़क अवैध, राजस्‍व अमले पर पक्षपात का आरोप

    महावीर ग्रुप ने हथियाई महिला की जमीन, सन सिटी की सड़क अवैध, राजस्‍व अमले पर पक्षपात का आरोप

    ▶️ घुमका के नायाब तहसीलदार ने सीमांकन में की मनमानी, एसडीएम से हुई शिकायत

    ▶️ बगैर आवेदक की मौजूदगी के शुरु की कार्रवाई, कॉलोनाईज़र - राजस्‍व अमले पर मिलीभगत का आरोप

    राजनांदगांव। महावीर ग्रुप दूसरे की जमीन पर कब्‍जा करने को लेकर फिर से एक बार विवादों में है। आरोप है कि कॉलोनाईज़र महावीर ग्रुप ने कंचनबाग स्थित सन सिटी के लिए निर्मित सड़क को दूसरे की जमीन पर अवैध कब्‍जा कर बनाया है। जिसकी जमीन पर सड़क का निर्माण हुआ है वह राजस्‍व अमले से लगातार सीमांकन की गुहार लगा रही है। राजस्‍व अमले पर भी आरोप लग रहे हैं कि वह इस मसले पर कॉलोनाईजर के हित में एकपक्षीय कार्रवाई करने जुटा हुआ है। पिछले एक वर्ष से इस पूरे मसले पर बखेड़ा खड़ा हुआ है। हाल ही में विधायक दलेश्‍वर साहू ने संपन्‍न हुए विधानसभा सत्र में भी यह मामला उठाया था। 

    लखोली निवासी बैसाखिन साहू ने बताया है कि उनकी खसरा नंबर 241/5, 241/7, 241/8, 241/16 में उनकी स्‍वामित्‍व वाली 0-9860 हे जमीन, ग्राम लखोली के प.ह.नं.42 में मौजूद है। यह जमीन सनसिटी के अगले हिस्‍से पर मौजूद है। उन्‍होंने आरोप लगाया है कि उनकी ही जमीन पर अवैध रुप से सन सिटी के कॉलोनाईजर ने सड़क का निर्माण किया है जो कि कॉलोनी तक पहुंचने का एक मात्र मार्ग भी है। 

    उन्‍होंने आरोप लगाया है कि तकरीबन 24 डिसमिल की उनकी जमीन पर कॉलोनाईजर महावीर ग्रुप ने अवैध कब्‍जा कर लिया है। उन्‍होंने कहा कि उनकी गैर मौजूदगी में यह सब किया गया। उन्‍होंने यह भी आरोप लगाया है कि राजस्‍व अमला लगातार प्रभावशाली कॉलोनाईज़रों को फायदा पहुंचाने की कोशिशों में लगा हुआ है। इसके चलते ही सीमांकन के आवेदन पर पहले तो कार्रवाई नहीं की गई। बाद में इस मसले पर जिस टीम का गठन किया गया उसने नियम विरुद्ध तरीके से सीमांकन की कोशिश की। 

    ****************

    नोटिस जारी की, फिर कहा दस्‍तखत जाली थे....

    बैसाखिन बाई ने अपनी ही जमीन की असल मौजूदगी समझने का प्रयास एक वर्ष पूर्व शुरु किया था। उन्‍होंने इस संदर्भ में सीमांकन के लिए आवेदन दिया था। इस आवेदन पर पक्षकारों को नोटिस जारी होती रही लेकिन सीमांकन नहीं किया गया। जब सन सिटी कॉलोनी को लेकर विधानसभा में सवाल उठा तो राजस्‍व मंत्री ने यहां से मिले जवाब के आधार पर बताया कि आवेदन में आवेदक के दस्‍तखत जाली थे। 

    सवाल उठता है कि अगर आवेदन में दस्‍तखत को लेकर आपत्ति थी तो आखिर पक्षकारों को किस आधार पर सीमांकन के लिए नोटिस जारी होते रहे। इस मामले में राजस्‍व अमला खुद अपने जवाब को लेकर घिर गया। इसे लेकर भी राजस्‍व अमले पर आरोप लग रहे हैं कि वह नियम विरुद्ध तरीके से कॉलोनाईज़र को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर रहा है।

    ****************

    12 बजे शुरु किया सीमांकन, एक बजे भेजी नोटिस....

    भारी जद्दोजहद के बीच बैसाखीन बाई के आवेदन पर सीमांकन की कार्रवाई शुरु करने के आदेश 28 दिसंबर 2019 को जारी हुए। सीमांकन के लिए 6 सदस्‍यों की टीम बनाई गई थी। इसमें राजस्‍व निरीक्षक चैतराम कोड़प्‍पा, राममनोहर जोशी, महेश साहू, चितेंद्र सिंह राजपूत और पटवारी अनुपम बख्‍शी को शामिल किया गया था। 2 जनवरी से यह सीमांकन शुरु हुआ। पहले दिन लेटलतीफी के चलते सीमांकन संपन्‍न नहीं हो सका। 3 जनवरी को मेड़ से नाप न लेने के मसले पर विवाद के बाद राजस्‍व अमले ने सीमांकन न करने की बात कही और मामला अटक गया। 4 जनवरी को राजस्‍व की टीम ने बगैर सूचना दिए मौके पर 12 बजे सीमांकन शुरु कर दिया। जबकि इसकी नोटिस एक बजे आवेदक को दी गई। बगैर आवेदक के मौके पर पहुंचे ही नियम विरुद्ध कार्रवाई में हस्‍तक्षेप करते हुए घुमका क्षेत्र के नायाब तहसीलदार चितेश देवांगन की मौजूदगी में ही सीमांकन निपटाने की कोशिश की गई। इस दौरान आम मुख्‍तयार परवेज अहमद मौके पर पहुंचे और उन्‍होंने इस कार्रवाई का विरोध किया।

    ****************

    कॉलोनाईज़र के इशारे पर राजस्‍व अमले ने किया गुमराह....

    जमीन की स्‍वामी बैसाखिन बाई ने राजस्‍व अमले और कॉलोनाईज़र पर गंभीर आरोप लगाएं हैं। उन्‍होंने कहा कि पहले तो उनकी जमीन हड़प ली गई। अब नियमत: जब चीज़ें सामने आ रहीं हैं तो कॉलोनाईज़र के इशारे पर राजस्‍व अमला उन्‍हें गुमराह करने की कोशिश कर रहा है। इस जमीन के आम मुख्‍तयार परवेज़ अहमद ने कहा कि सीमांकन के लिए बनाई गई टीम मेड़ से नाप को लेकर तैयार नहीं है। दक्षिण दिशा में वे सन सिटी की बाऊंड्री को ही नाप बिंदु बता रहे हैं जो कि नियम विरुद्ध हैं। इस पर आपत्ति करने पर राजस्‍व अमले की टीम सीमांकन न करने की बात कह रही है जो कि सरासर गलत है। मौके पर मेड़ मौजूद है बावजूद वहां से नाप शुरु नहीं की जा रही है।

    ****************

    नायाब तहसीलदार देवांगन के खिलाफ हुई शिकायत....

    बैसाखीन बाई के आवेदन पर सीमांकन के लिए गठित टीम के अतिरिक्‍त सोमवार को मौके पर घुमका क्षेत्र के नायाब तहसीलदार चितेश देवांगन पहुंच गए। इसे लेकर आवेदक ने एसडीएम के समक्ष शिकायत की है। उन्‍होंने कहा कि सीमांकन करने वाली टीम का हिस्‍सा नायाब तहसीलदार देवांगन थे ही नहीं और न ही यह उनका कार्यक्षेत्र है। उन्‍होंने दबाव पूवर्क टीम से मनमाफिक सीमांकन करवाया वो भी तब जब आवेदक या आम मुख्‍तयार मौके पर मौजूद ही नहीं थे। इस मसले को लेकर एसडीएम के समक्ष बैसाखीन बाई ने शिकायत दर्ज कराई है। उन्‍होंने उक्‍त नायाब तसीलदार की भूमिका की जांच और उन पर कार्रवाई की मांग की है। वहीं उन्‍होंने सीमांकन के लिए गठित टीम को भी बदले जाने की मांग रखी है। 

    ****************

    पहले भी विवादों में रहा है महावीर ग्रुप....

    सन सिटी कॉलोनी के लिए निर्मित सड़क दूसरे की जमीन पर कब्‍जा कर बनाए जाने के आरोपों तो लगे ही हैं। इससे पहले भी कॉलोनाईज़र महावीर ग्रुप विवादों में रहा है। अपने रिद्धी-सिद्धी कॉलोनी प्रोजेक्‍ट के लिए भी उक्‍त कॉलोनाईज़र ने दूसरे की जमीन हड़पकर उस पर अवैध तरीके से सड़क निर्माण किया था। यह मामला हाईकोर्ट तक गया था। यहां से हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी प्रार्थी को उसका हक नहीं मिल सका है। प्रार्थी और उसका परिवार अब भी न्‍याय पाने जद्दोजहद कर रहे हैं।

    हेमंत वर्मा

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.