Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जिलाधिकारी द्वारा राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का किया गया शुभारम्भ

    जिलाधिकारी द्वारा राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का किया गया शुभारम्भ

    जिलाधिकारी ने सड़क सुरक्षा प्रचार रथ को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना

    पीलीभीत। राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का गांधी स्टेडियम में जिलाधिकारी पुलकित खरे एवं पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश द्वारा उद्घाटन किया गया। सड़क सुरक्षा  व यातायात नियमों के पालन की शपथ दिलाई गयी तथा सड़क सुरक्षा जागरूकता संदेष वाहनों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया गया, राश्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह दिनांक 18.01.2021 से 17.02.2021 के दौरान उक्त दो जागरूकता वाहन शहर के समस्त मार्गो, चौराहों, सभी तहसील, ब्लाकों, थानों में घूम-घूमकर जन-सामान्य को यातायात नियमों के पालन तथा कोविड-19 से बचाव को जागरूक करेगा। 

    इस अवसर पर गांधी प्रेक्षागृह में जिलाधिकारी एवं पुलिस अधीक्षक द्वारा दीप प्रज्जवलित कर राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह का उद्घाटन किया गया। जिलाधिकारी ने कहा कि ऐसा क्यों है कि पुलिस-प्रशासन के भरसक प्रयासों के बाद भी जनसामान्य के मध्य जागरूकता उत्पन्न कराने हेतु बार-बार सड़क सुरक्षा जागरूकता कार्यक्रमों को आयोजित करना पड़ता है, और उसके बाद भी सड़क दुर्घटनाओं में अपेक्षित कमी नही आ रही है, उन्होंने कहा कि अधिकांशतः मामलों में हमें कोई बीमारी होने पर उसका इलाज आदि कराने हेतु पर्याप्त समय मिल जाता है किन्तु सड़क दुघर्टना होने पर सुरक्षा उपकरण (हेल्मेट/सीटबैल्ट) न पहने होने पर लगने वाली गंभीर चोटों का परिणाम केवल मौत होती है जिसका इलाज करने का समय भी नही मिलता। अतः हमें मैने हेल्मेट/सीटबैल्ट लगाया होता या काश मैने यातयात नियमों का पालन कर लिया होता‘‘ की श्रेणी से बचकर हमें सड़क पर अपने बर्ताव में गंभीरता लाते हुए स्वंय पर नियंत्रण के साथ-साथ सामने वाले या सहयात्री वाहनों की गतिविधियों पर भी पर्याप्त नजर रखनी चाहिए। जिलाधिकारी द्वारा सभागार में आये सभी लोगों से आग्रह किया गया कि वे स्वंय के साथ अपने मित्रों, परिचितों, परिवारजनों को सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूक करें।

    पुलिस अधीक्षक ने कहा कि सड़क दुर्घटनायें हमारे निजी जीवन के साथ-साथ देष को आर्थिक, सामाजिक क्षति पंहुचाती है, अधिकांष सड़क दुर्घटनाओं में 20 से 40 वर्श की आयुवर्ग के व्यक्ति के ऐसे लोगों की जनक्षति होती है जोकि अपने परिवार के एकमात्र कमाऊ सदस्य थे, उनके बाद उनके परिवार की स्थिति दयनीय हो जाती है, इन दुर्घटनाओं के मुख्य कारण ओवरस्पीड, ड्रंकन ड्राइविंग, खराब रोड डिजाएनिंग, खराब मौसम होते हैं। आजकल वाहन स्वामी ऐसे वाहन दौडाते है कि न जाने कौन सी इमरजेन्सी है जबकि सड़क पर इमरजेन्सी केवल फायर सर्विस, एम्बूलंेस, पुलिस-प्रषासन को किसी आपात स्थिति में जान -मान हानि बचाव को होती है। हमें वाहन इस सावधानी से चलाना चाहिए कि दुर्घटना कभी भी-कहीं भी हो सकती है। पुलिस अधीक्षक द्वारा विगत दिनों में हुई सड़क दुर्घटनाओं के कारण जानने हेतु परिवहन, पुलिस व लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को संयुक्त निरीक्षण करने के निर्देष भी दिये।

    पी.टी.ओ. राकेश मोहन ने कहा कि सावधानी ही दुर्घटना से बचाव है। मानव जीवन व अंग अनमोल है। सड़क  दुर्घटनाओं से ग्रसित होकर हम अपने तथा अपने परिवार के निर्धारित लक्ष्यों को पूर्ण करने में अक्षम हो जाते हैं तथा अपने षरीर को विकृत कर लेते हैं अतः हमें पूरी सावधानी से सुरक्षा उपकरणों के साथ ही वाहन चलाना चाहिए। ए.सी.एम.ओ. डा0 आर0के0 सिंह ने कहा कि सड़क दुर्घटनाओं के घायलों में अधिकांश ऐसे लोग होते हैं, जिन्होंने वाहन चलाते हुए हेल्मेट/सीटबैल्ट का उपयोग नही किया तथा उससे सिर में लगने वाली गंभीर चोटों से उनकी जान तक चली जाती है। साथ ही उन्होंने लोगों को रास्ते में दुर्घटनाग्रस्त लोगों की मदद करने को जागरूक किया तथा बताया कि उच्चतम न्यायालय द्वारा जारी आदेश कि सड़क दुर्घटनाओं की मददकर्ताओं (गुड सेमेरिटन) को किसी भी पुलिस कार्यवाही में षामिल नही किया जायेगा। समारोह के अंत में आयोजक अमिताभ राय, ए.आर.टी.ओ. द्वारा समारोह में आने वाले समस्त उच्चाधिकारियों, जनसामान्य का अभिवादन करते हुए कहा कि राश्ट्रीय सड़क सुरक्षा माह के अन्र्तगत अधिकाधिक प्रचार प्रसार करते हुए सड़क दुर्घटनाओं में कमी लाने का हम सबको प्रयास करना चाहिए।  

    उक्त उद्घाटन समारोह में सड़क सुरक्षा सेे संबन्धित समस्त स्टेकहोल्डर विभागों के प्रतिनिधि यथा पुलिस विभाग के अपर पुलिस अधीक्षक  प्रवीण मोहन त्रिपाठी, क्षेत्राधिकारी  वीरेन्द्र विक्रम, यातायात पुलिस के प्रभारी निरीक्षक सुनील कुमार सिंह, स्वास्थ्य विभाग के ए.सी..एम.ओ. पी0के0मिश्रा, डा0 आर0के0सिंह, लोक निर्माण विभाग के अधिषासी अभियंता हरस्वरूप, शिक्षा विभाग के डीआईओएस.  संत प्रकाष अपने विभागीय टीम के साथ उपस्थित रहे, साथ ही व्यापार मंडल के अध्यक्ष  देवेश बंसल, राइस मिल एसोसिएषन के अध्यक्ष  अश्वनी अग्रवाल, मोटर वाहन डीलर्स, मोटर ड्राइंविंग ट्रेनिंग कालेज के प्रबन्ध व कर्मी, नवनियुक्त पुलिस ट्रेनीज का दल, परिवहन विभाग व यातायात पुलिस कर्मी, ट्रक, बस यूनियन के प्रतिनिधि, चालक, परिचालक, मोटर मैकेनिक, ढाबा संचालक उपस्थित रहे, इस मौके पर समारोह स्थल गांधी स्टेडियम विभिन्न दो-पहिया वाहन विक्रेताओं द्वारा अपने-अपने स्टाल (वाहन मेला) भी लगाया गया था, जिसका जिलाधिकारी, पुलिस अधीक्षक द्वारा निरीक्षण किया गया था वाहन विक्रेताओं को डीलरों के यहां आने वाले लोगों को सड़क सुरक्षा का प्रचार प्रसार करने को कहा गया।

    जनपद पीलीभीत से कुंवर निर्भय सिंह की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.