Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड धारी नेहा सिंह की सात पुस्तकों का कुलपति ने किया विमोचन

    गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड धारी नेहा सिंह की सात पुस्तकों का कुलपति ने किया विमोचन
    बलिया। एक सौ चार वर्ष के बी०एच०यू० के इतिहास में पहली बार "गिनीज़ वर्ल्ड रिकॉर्ड" में अपना नाम दर्ज कराने वाली, जनपद निवासी वैदिक विज्ञान केन्द्र की छात्रा नेहा सिंह के गिनीज़ सर्टिफिकेट के अनावरण के साथ साथ लॉकडाउन के दौरान नेहा सिंह द्वारा लिखी गयी सात किताबों का विमोचन कुलपति ने अपने कर कमलों द्वारा किया।
    इस अवसर पर वैदिक विज्ञान केन्द्र के समन्वयक प्रो. उपेन्द्र कुमार त्रिपाठी भी मौजूद रहे। बलिया के मूल की रहने वाली  नेहा सिंह जो काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के वैदिक विज्ञान केन्द्र की छात्रा हैं ।हाल ही में जनपद  के इतिहास में पहली बार एवं काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के इतिहास में पहली बार भगवद्गीता पर आधारित "मोक्ष का पेड़" नामक सबसे बड़ा पेंटिंग बनाकर अपना नाम गिनीज़ बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज करा चुकी हैं।जिन्हें बलिया के डीएम हरि प्रताप शाही  ने  नेहा सिंह के घर जाकर उन्हें  सर्टिफिकेट दिया था।इस अवसर पर कुलपति  ने कहा यदि एक सौ चार वर्ष के काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के इतिहास में बी०एच०यू० के किसी विद्यार्थी ने ऐसा कार्य किया है तो ये मेरा भी सौभाग्य है कि मेरे कुलपति रहते हुए काशी हिन्दूविश्वविद्यालय का नाम विश्व पटल पर रौशन करने वाले इस ऐतिहसिक पल का साक्षी बनने का अवसरमुझे मिला।
    कुलपति  ने सुश्री नेहा सिंह की  तारीफ के साथ ही कुलपति  ने कहा इतने कम उम्र में भारत के संस्कृति एवं संस्कार के ऊपर इतना कुछ अध्ययन कर पाना और ललित कला, अध्यात्म एवं संस्कृति को जोड़कर ऐसे कार्य करने में रुचि रखने वाली  नेहा सिंह एक विलक्ष्ण एवं अति प्रतिभावान विद्यार्थी है। नेहा ने अब तक इतने कार्य कर चुके हैं।
    जो अनेकों नव युवक-युवतियों एवं विद्यार्थियों के लिए अति प्रेरणात्मक एवं प्रेरणात्मक एवं सराहनीय एवं सराहनीय है।
    कुलपति ने कहा कि मालवीय जी की आत्मा बस इस  बगिया में उनके आदर्श अनुसरण एवं पद चिन्हों पर चलने वाली नेहा सिंह जैसी मेधावी एवं प्रतिभावान विद्यार्थियों को ढूंढ निकालने की जरूरत है नेहा सिंह को अनेकों विश्वविद्यालय में आमंत्रित किया जा रहा है।
     नेहा सिंह मूलतःरसडा कसबे कि निवासी एवं सीमा सुरक्षा बल में कार्यरत पिता बुटन सिंह और उनकी  मां मधु सिंह है।

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.