Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    जि.पं सदस्य राजेश श्यामकर ने धान खरीदी केंद्र का किया निरीक्षण, उपरवाह व पदुमतरा सोसाइटी में किसानों से हुए रूबरू

    जि.पं सदस्य राजेश श्यामकर ने धान खरीदी केंद्र का किया निरीक्षण, उपरवाह व पदुमतरा सोसाइटी में किसानों से हुए रूबरू

    राजनांदगांव। छत्तीसगढ़ सरकार को 1 नवंबर 2020 से सोसाइटी के माध्यम से धान खरीदी किया जाना था लेकिन छत्तीसगढ़ में  कांग्रेसी सरकार की लापरवाही से धान खरीदी समय पर नहीं होने के कारण किसानों की परेशानी दिन पर दिन बढ़ते जा रहे हैं। क्योंकि 1 नवंबर 2020 के पूर्व  छत्तीसगढ़ सरकार को धान खरीदी के लिए पूरी व्यवस्था मुस्तैदी के साथ तैयारी कर लेना था किंतु अव्यवस्था गैर जिम्मेदारी होने के कारण छत्तीसगढ़ में 1 नवंबर 2020 से धान खरीदी नहीं होने के कारण किसानों को धान खरीदी में भारी परेशानी हो रहे हैं । छत्तीसगढ़ सरकार को आड़े हाथ लेते हुए जिला पंचायत सदस्य व आबकारी विभाग के  सलाहकार राजेश श्यामकर धान खरीदी के पूर्व किसानों को पंजीयन बरदाना व अन्य सुविधाओं को छत्तीसगढ़ सरकार किसी भी तरह से गंभीरता नहीं दिखाने के कारण किसान अब विवश होकर कम समय व बेमौसम बारिश होने के डर से धान खरीदी में भारी परेशानी का सामना कर रहे हैं ।

    श्यामकर ने बतलाया कि सोसाइटी में जिला प्रशासन व राज्य सरकार की कोई नियंत्रण दबाव नहीं होने के कारण किसानों की मेहनत की कमाई को अच्छे क्वालिटी धान होने के बावजूद भी रिजेक्ट करने का बहाना करते हुए पैसे की भी मांग कर रहे हैं जिससे कई किसानों की परेशानी बढ़ गए हैं तथा जिला प्रशासन भी सोसाइटीयो में कोई निगरानी समिति के लिए कोई ठोस पहल नहीं किए गए हैं सिर्फ फाइलों में ही निगरानी समिति बनाकर ठंडे बस्ते में बांध दिए हैं। जबकि जिला प्रशासन सभी  सोसाइटीयो में फ्लेक्स में लिखकर एक प्रचार प्रचार करना चाहिए धान खरीदी केंद्रों में किसानों को किसी भी समस्या व  पैसे की मांग करने पर डायरेक्ट जिला प्रशासन को मोबाइल नंबर सहित अवगत कराने की व्यवस्था करना था किंतु जिला प्रशासन भी धान खरीदी केंद्रों में फॉर्मेलिटी के लिए निरीक्षण करते हैं इसी प्रकार केंद्र सरकार में कृषि बिल विधेयक 2020 के संबंध किसानों की होने वाले फायदे के बारे में विस्तार से किसानों को बदलाया तथा कांग्रेस की कूटनीति से किसानों को बचने की  समझाइश दिया गया।

    श्यामकर ने आगे बतलाया कि आज भी किसानों को पर्याप्त मात्रा में बारदाना उपलब्ध नहीं होने के कारण किसान धान बेचने में बहुत परेशानी कठिनाई का सामना कर रहे हैं तथा बेमौसम हालातों को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन भी धान को सुरक्षा के लिए कोई ध्यान नहीं दिए जा रहे हैं जिससे लाखों करोड़ों रुपए की धान खरीदी को नुकसान का सामना करना पड़ सकता है सोसाइटीयो में भारी असुविधा के चलते किसान अपने धान मंडी में बेचने पर मजबूर हैं छत्तीसगढ़ सरकार धान खरीदी में एक एक बिंदु पर गहन विचार विमर्श करते हुए किसी प्रकार से किसानों को असुविधा ना हो इसका विशेष ध्यान देना था जो नहीं दिए और उनकी खामियां छत्तीसगढ़ के किसान भुगत रहे हैं। इसी प्रकार पदुमतरा और उपरवाह सोसायटी धान खरीदी केंद्र के निरीक्षण करने के दौरान उपरवाह सोसाइटी मैं पीने की पानी की समस्या किसानों को हो रहा है जिसे लेकर वहां के सरपंच व उपसरपंच ने सोसाइटी में बोर खनन की मांग की है जिससे धान बेचने वाले किसानों पीने के पानी के लिए भटकना पड़े। इस अवसर पर घुमका मंडल अध्यक्ष जागेश्वर साहू, राकेश साहू, परदेसी सोनबोईर, महेश यादव, नागेश्वर साहू, कृपाल साहू, गेमन साहू, चुन्नी सिन्हा, ईश्वर साहू, संतराम साहू, टोकेश साहू, गोपाल धनकर चंद्रेश साहू सहित किसान उपस्थित थे|

    हेमंत वर्मा

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.