Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल: कर्मचारी चला रहे पोस्ट कार्ड अभियान, नई पेंशन स्कीम का हो रहा विरोध

    बैतूल: कर्मचारी चला रहे पोस्ट कार्ड अभियान, नई पेंशन स्कीम का हो रहा विरोध

    सरकार ने छीन लिया बुढ़ापे का चैन, एनपीएस ने कर दिया कर्मचारियों को बेसहारा

    होगा बड़ा आंदोलन, नई पेंशन स्कीम बन्द कर पुरानी बहाली की मांग

    (काम बंद,कलम बन्द कर देंगे कर्मचारी, नई स्कीम से महज 500 रुपये बन रही पेंशन)

    बैतूल. सरकार की नई पेंशन स्कीम ने रिटायरमेंट के बाद कर्मचारियों और उनके परिवारो के सामने आर्थिक संकट खड़ा कर दिया है। अब हालात ये है कि कर्मचारी अपना बुढापा सुरक्षित करने सड़को पर उतर आए है। बैतूल में शिक्षकों से लेकर पैरामेडिकल स्टाफ और स्वास्थ्यकर्मी इन दिनों एनपीएस भारत छोड़ो आंदोलन चला रहे है। वे सरकार से पुरानी पेंशन बहाली की मांग करते हुए पोस्ट कार्ड अभियान चला रहे है। जिसके तहत वे प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को पोस्ट कार्ड भेजकर  पेंशन बहाली की मांग कर रहे है। कर्मचारियों की मांग है कि सरकार उनकी पुरानी पेंशन स्कीम चालू करे ताकि उनका बुढापा सुरक्षित हो सके। पुरानी स्कीम बहाल ने करने पर कर्मचारियों ने कलम बन्द ,काम बंद करने का एलान किया है।

    आपको बता दे कि सरकार ने 1 जनवरी 2005 से प्रदेश में नई पेंशन स्कीम लागू कर दी है। जिसके चलते कर्मचारियों को मिलने वाले वेतन से दस प्रतिशत की राशि काटकर उतनी ही रकम सरकार अपने पास से मिलाकर रकम निजी कंपनियों को दे देती है।  जिसे शेयर मार्केट में इन्वेस्ट कर दिया जाता है। जिसके अंशदान से कर्मचारियों के रिटायरमेंट के बाद पेंशन दी जाती है। यह रकम इतनी कम होती है कि रिटायर कर्मचारियों का परिवार चलाना मुश्किल है। हाल ही रिटायर्ड हुए कई कर्मचारियों को महज 500 से डेढ़ हजार रुपये मासिक की पेंशन मिल रही है।

    कर्मचारी नेता रवि सरनेकर ने बताया कि अगर सरकार ने हमारे इस आंदोलन की सुध नही ली तो सभी संगठन मिलकर कलम बन्द ,काम बंद आंदोलन शुरू करेंगे। उन्होंने बताया कि नई स्कीम से उनके पारिवारिक ताने बाने में भी बिगड़ाव आ रहा है।अब रिश्ता करने से पहले लोग पूछते है कि पेंशन मिलती है कि नही। गौरतलब है कि एक दिन के एमएलए और एमपी को आज भी पूरी पेंशन मिलती है।

     जबकि कई नेता तो ऐसे है जिन्हें लोकसभा,राज्यसभा और विधानसभा के सदस्य के तौर पर तीनों ही पेंशन मिलती है। कर्मचारी अधिकारियों के विरोध को लेकर जिला शिक्षा अधिकारी लखन लाल सुनारिया का कहना है कि केंद्र सरकार ने नई पेंशन स्कीम लागू की है 2005 के बाद जो भी अधिकारी कर्मचारी की पदस्थापना होगी उन्हें नई पेंशन स्कीम के हिसाब से पेंशन मिलेगी कर्मचारी के वेतन से जो पैसा कटेगा उतना पैसा सरकार मिलाकर उसे इस इस स्कीम में लगा कर पेंशन देगी इसको लेकर कर्मचारियों के ज्ञापन आये है उन्हें हम सरकार के पास भेज देंगे ।

    कर्मचारी नेता रवि सरनेकर का कहना है कि अगर सरकार ने हमारे इस आंदोलन की सुध नही ली तो सभी संगठन मिलकर कलम बन्द ,काम बंद आंदोलन शुरू करेंगे। उन्होंने बताया कि नई स्कीम से उनके पारिवारिक ताने बाने में भी बिगड़ाव आ रहा है।अब रिश्ता करने से पहले लोग पूछते है कि पेंशन मिलती है कि नही.

    जिला शिक्षा अधिकारी लखन लाल सुनारिया का कहना है कि केंद्र सरकार ने नई पेंशन स्कीम लागू की है 2005 के बाद जो भी अधिकारी कर्मचारी की पदस्थापना होगी उन्हें नई पेंशन स्कीम के हिसाब से पेंशन मिलेगी कर्मचारी के वेतन से जो पैसा कटेगा उतना पैसा सरकार मिलाकर उसे इस इस स्कीम में लगा कर पेंशन देगी इसको लेकर कर्मचारियों के ज्ञापन आये है उन्हें हम सरकार के पास भेज देंगे.

    बैतुल से शशांक सोनकपुरिया की खास रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.