Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    उद्धव ठाकरे सरकार पत्रकारों का उत्पीड़न कर रही हैं- प्रमोद त्यागी

    उद्धव ठाकरे सरकार पत्रकारों का उत्पीड़न कर रही हैं- प्रमोद त्यागी

    उत्तरप्रदेश. राष्ट्रीय पत्रकार महासंघ के उत्तर प्रदेश अध्यक्ष एवं नेशनल कोर्डिनेटर प्रमोद कुमार त्यागी ने एक न्यूज़ चैनल के मुख्य संपादक अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी पर रोष व्यक्त करते हुए कहा कि एसओजी कमांडो और मुंबई पुलिस ने गैर कानूनी तरीके से उनके घर से उनके मुंबई स्थित घर से उस केस में गिरफ्तार किया. जिसमें 2 साल पहले क्लोजर रिपोर्ट दाखिल हो चुकी थी. इस चैनल ने सबसे पहले पालघर में साधुओं की हत्या, दिशा सालियन और सुशांत सिंह राजपूत का मामला और फिर मुंबई ड्रग मामले का खुलासा किया. जिसमें मुंबई की सरकार और मुंबई पुलिस मिलकर बदले की भावना से 1000 एफआईआर इस चैनल के स्टाफ पर दर्ज कराई. जब कोर्ट द्वारा मुम्बई पुलिस को फटकार लगाई गई.

     


    फिर उसके बाद मुंबई पुलिस ने टीआरपी मामले को लेकर उसे लपेटने की कोशिश की लेकिन उसमें भी नाकाम रही. एक के बाद एक गैर कानूनी तरीके से मुंबई पुलिस हथकंडे अपना रही है. मीडिया की आवाज को दबाने के लिए यह उस समय के दमनकारी नीति है. जब इंदिरा के समय पर इमरजेंसी लगी थी. जिस समय जनसत्ता के मुख्य संपादक डी गोयनका के साथ अन्य कई पत्रकारों को जेल में बंद कर दिया गया था. वही दमनकारी नीति आज मुंबई में शरद पवार की एनसीपी उद्धव ठाकरे की शिवसेना और कांग्रेस मिलकर चौथा स्तंभ की आवाज और उसकी आजादी को दबाने का पूरा प्रयास कर रही है. अर्नब गोस्वामी की गिरफ्तारी को पुलिस की गुंडागर्दी और महाराष्ट्र सरकार की दमनकारी नीति कि आज पूरे देश में घोर निंदा की जा रही है. सभी राज्यों के मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री मुंबई पुलिस और मुंबई सरकार के खिलाफ तथा रिपब्लिक भारत और रिपब्लिक वर्ल्ड न्यूज़ चैनल के संपादक के अलावा देश के चौथे स्तंभ के साथ खड़े हैं. आपको यहां यह बता देना चाहता हूं कि मुंबई पुलिस कमिश्नर परमवीर सिंह, यह वही पुलिस कमिश्नर है, जिन्होंने एटीएस प्रमुख करकरे के समय पर ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर से जिन्होंने साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को गिरफ्तार कर उन पर असहनीय अत्याचार और अभद्र शब्दों का इस्तेमाल करते हुए प्रताड़ित किया था. आज पूरा देश और देश की जनता समाज सेवक समाज से जुड़ी संस्थाएं मीडिया संस्थाएं सभी महाराष्ट्र सरकार जो गठबंधन की सरकार है के खिलाफ एकजुट हैं. श्री त्यागी ने कहा कि
    बाला साहब ठाकरे की शिवसेना का मुख्य उद्देश्य था सनातन धर्म की रक्षा करना हिंदुत्व के साथ खड़े होना और देश के प्रति अपनी आस्था रखना गरीब असहाय लोगों को शरण देना सुरक्षा देना और उन्हें प्रोत्साहित करना शिवसेना का नाम बालासाहेब ठाकरे ने छत्रपति शिवाजी के विचारधाराओं से जोड़ते हुए शिवसेना पार्टी का गठन किया था परंतु आज उद्धव ठाकरे अपने स्वर्गीय पिता के आदर्शों को भूल गए और दमनकारी नीति वाले पार्टियों से गठबंधन कर महाराष्ट्र में एक बार फिर स्वतंत्रता और अभिव्यक्ति की आजादी पर आघात पहुंचाने का काम कर रहे हैं.

    विजय लक्ष्मी सिंह
    एडिटर इन चीफ
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी  

     

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.