Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या में 14 कोसी परिक्रमा, पंचकोसी परिक्रमा, कार्तिक पूर्णिमा स्नान को लेकर रामनगरी की सीमा सील

    अयोध्या  में  14 कोसी परिक्रमा,  पंचकोसी परिक्रमा, कार्तिक पूर्णिमा स्नान  को लेकर  रामनगरी की सीमा सील

    (आसपास के जिलों में लागू होगा रूट डायवर्जन,14 कोसी परिक्रमा 23 नवंबर, पंचकोसी परिक्रमा 25 नवंबर तथा कार्तिक पूर्णिमा स्नान मेला पूर्णिमा को)

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम  की धर्म नगरी अयोध्या में  इन दिनों  काफी चहल-पहल और भीड़ दिखाई पड़ रही है. बाहर से आने वाले  तमाम लोग  बिना किसी तिथि के ही  परिक्रमा करते देखे गए हैं. वहीं पर 14 कोसी परिक्रमा 23 नवंबर को शुरू होगा जो 24 नवंबर को पूर्ण होगा उसके बाद पंचकोसी परिक्रमा 25 नवंबर को शुरू होगा जो 26 की सुबह तक चलेगा इसी प्रकार कार्तिक पूर्णिमा मेला व स्नान 30 नवंबर व 1 दिसंबर को होगा जिसमें लाखों लाख लोग शामिल होते हैं. किंतु इस बार कोरोना संक्रमण के चलते गैर जिले और गैर राज्य से आने वाले श्रद्धालुओं पर रोक है! प्रशासन द्वारा अयोध्या जनपद की सीमा सील की जा रही है गैर जनपद के लोगों को गैर राज्य के लोगों को परिक्रमा करने की अनुमति नहीं है फिर भी बहुतेरे लोग ऐसे हैं जो अयोध्या पहुंच चुके हैं.

     कोरोनावायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जनपद पुलिस सक्रिय हो गई है। राम नगरी के ऐतिहासिक परिक्रमा मेले में श्रद्धालुओं का जमावड़ा न होने पाए इसको लेकर राम नगरी अयोध्या की सीमाएं सील कर दी गई है और शहर में रूट डायवर्जन लागू किया गया है। आसपास के जनपदों में रूट डायवर्जन को लागू किया जाएगा। अयोध्या में परिक्षेत्र की कानून व्यवस्था की समीक्षा की गई बैठक में आईजी डॉ संजीव गुप्ता की ओर से संबंधित जिलों के पुलिस प्रमुखों को इस बाबत आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं।



    राम नगरी का ऐतिहासिक परिक्रमा मेला कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष की  नवमी तिथि से शुरू होता है और पूर्णिमा स्नान के साथ संपन्न होता है। मेले के दौरान नवमी तिथि पर 14 कोसी परिक्रमा और एकादशी तिथि पर पंचकोसी परिक्रमा  पर श्रद्धालु  परिक्रमा करते हैं। परिक्रमा करने के लिए जनपद समेत आसपास के जनपदों ही नहीं दूरदराज के क्षेत्रों से भी श्रद्धालु राम नगरी अयोध्या आते रहे हैं। इस बार परिक्रमा मेला 23 नवंबर से शुरू हो रहा है। नोबेल कोरोनावायरस के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए शासन प्रशासन की ओर से भीड़ के एकत्र होने पर रोक लगाई गई है। जिसके चलते पुलिस और प्रशासन की ओर से परिक्रमा में केवल राम नगरी के साधु संतो और स्थानीय लोगों को ही भाग लेने की छूट दी गई है।  समीक्षा बैठक में शासन की ओर से जारी दिशा-निर्देशों पर विस्तार से चर्चा हुई। 

       मंडलायुक्त एमपी अग्रवाल और आईजी रेंज डॉक्टर संजीव गुप्ता की ओर से जिला पुलिस प्रमुखों को हिदायत दी गई कि कोविड-19 प्रोटोकॉल का कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। भीड़ भाड़ ना एकत्र होने पाए इसको लेकर सभी एहतियाती उपाय किए जाएं। बाहर से आ रहे श्रद्धालुओं को रोकने के लिए राम नगरी अयोध्या की सीमा को सील किया जाए तथा अयोध्या की ओर जाने वाले मार्गो पर रूट डायवर्जन की व्यवस्था सुनिश्चित कराई जाए। इसके साथ ही अन्य जनपदों से आने वाले वाहनों को वैकल्पिक मार्गों के सहारे आगे को रवाना कराया जाए। इस कार्य में सभी जिला पुलिस प्रमुख समन्वय बनाकर काम करें।

         परिक्रमा मेले में बाहरी श्रद्धालुओं की भीड़ को रोकने के लिए राम नगरी की अयोध्या की सीमा को सील किया जा रहा है। अयोध्या की ओर जाने वाले मार्गों पर रूट डायवर्जन की व्यवस्था लागू कर दी गई है। शुक्रवार को आसपास के जनपदों से रूट डायवर्जन लागू हो जाएगा। कोविड को लेकर बाहरी श्रद्धालु के अयोध्या आगमन पर रोक है। इसका कड़ाई से अनुपालन कराने का निर्देश दिया गया है। स्थानीय लोग पहचान पत्र दिखाकर आवागमन कर सकते हैं। 

    देव बक्श वर्मा अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.