Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल: आत्म निर्भर भारत की तस्वीर, गांव के बच्चों ने बना दिया देशी टिकटॉक

    बैतूल: आत्म निर्भर भारत की तस्वीर, गांव के बच्चों ने बना दिया देशी टिकटॉक

    (चाइना के टिक टॉक से भी बेहतर शाहपुर ग़ांव में 12 वी के छात्र ने बना दिया, उसका स्वदेशी वी शॉट्स एप कर देगा चाइना के एप की छुट्टी, धूम मचाएगा देशी टिकटॉक)

    बैतूल. मध्य प्रदेश के बैतूल में गांव के बच्चों ने कमाल कर दिया. इन्होंने देशी टिकटॉक बना दिया, जिसका नाम वी शॉट्स रखा है । आत्म निर्भर भारत की ऐसी तश्वीर बैतूल में देखने को मिल रही है जिसमे मात्र 12 वी कक्षा के छात्र और उनके रिश्ते के भाई ने टिकटॉक यूजरों को निराश नही होने दिया । चीन के एप टिकटॉक बन्द होने के बाद हजारो लाखो लोग निराश थे। उनके लिए सोशल मीडिया पर टिकटॉक से बेहतर विकल्प उपलब्ध नही था।


    लॉक डाउन के दौर में यह चाइनीज ऐप का बैन हो जाने के बाद इसका विकल्प तलाश करने के लिए प्रयास शुरू हो गए । इन विकल्प की तलाश में बैतूल जैसे आदिवासी बाहुल्य जिले बैतूल  के शाहपुर जैसे कस्बे में टिकटॉक से भी बेहतर एप ईजाद किया गया। इस एप को 12 वी के छात्र ने अपने कजिन की मदद से डेवलप किया। इसको पब्लिक के लिए दशहरे पर लॉन्च किया जाएगा। यह गूगल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध होगा। इसे डेवलप करने वाले वेदांश जैन और हरदा निवासी उनके बुआ के बेटे अनुराग पंचोली ने इस ऐप का नाम  वी शॉट्स रखा है। उनके मुताबिक इसे आपरेट करना टिक टॉक से भी आसान है। 

    इंस्ट्राग्राम, फेसबुक, टिवटर ,गूगल, ईमेल के माध्यम से इस एप पर जा सकते है। इस का यूज करने वालो की प्रोफाइल होना जरूरी है। वेदांश जैन ने बताया कि इसमे कई नए फीचर भी है जो टिक टॉक में भी नही है। उनका कहना है कि यह पूरी तरह से स्वदेशी है इससे जो भी आय होगी वह देश मे ही रहेगी । वही यूजर भी इससे कमाई कर सकते है। अनुराग के मुताबक यूट्यूब पर मुस्कान एक अहसास नामक एप बना चुके है जिसके करीब 5 लाख फालोअर है। 

    जहां वेदांश कक्षा 12 वी का छात्र है और पूरा आइडिया ओर क्रिएशन उसका है वही अनुराग ने अपने आईटी अनुभव से उसका मार्गदर्शन किया है। इस एप को बनाने में करीब 5 लाख खर्च हो चुके है। वेदांश के इस कार्य से स्कूल प्रबंधन भी खुश है । वेदांश के स्कूल की डायरेक्टर ऋतु खंडेलवाल का कहना है कि हमारे स्कूल के छात्र वेदांश जैन और उनके परिजन आदित्य पंचोली एक बेहतरीन ऐप तैयार किया है जो चाइना के टिक टॉक एप का बहुत अच्छा विकल्प उभर कर आ सकता है हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है हमे हमारे स्वदेशी विकल्प तैयार करना है हमारे लिए गर्व की बात है हमारे स्कूल के लिए गर्व की बात है उनको अच्छी सफलता मिले इसका वी शॉट्स रखा है इसके फीचर यूजर फ्रेंडली है ।

    अनुराग पंचोली (छात्र वी शॉट्स बनाने वाला) का कहना है कि सेंट्रल गवर्नमेंट ने चाइना एप बेन किया तो ऐसा लगा कि एक एप्लीकेशन तैयार करना चाहिए हमने ऐसा ऐप तैयार किया है जिससे यूजर खुद वीडियो अपलोड कर सकते हैं इससे सेलिब्रिटी भी जुड़ने वाले हैं कुछ वीडियो अपलोड किए हैं यह ऐप गूगल प्ले स्टोर पर भी उपलब्ध होगा आत्मनिर्भर भारत को लेकर यह प्रयास किया है कि इस एप से जो भी इनकम होगी वह देश में ही रहेगी.

    वेदांश जैन (एप्प बनाने वाला) का कहना है कि हमारे ऐप का नाम वी शॉर्ट्स है. इसमें बहुत सारे फीचर है. कई यूनिक फीचर है जिसमें मोनेटाइजेशन फीचर शॉट वीडियो ऑडियो अपलोड फीचर कैटेगरी फीचर कैटेगरी में अपने मूड के हिसाब से वीडियो देखे जा सकते हैं.

    ऋतु खंडेलवाल ( डायरेक्टर निजी स्कूल) का कहना है कि हमारे स्कूल के छात्र वेदांश जैन और उनके परिजन आदित्य पंचोली एक बेहतरीन ऐप तैयार किया है जो चाइना के टिक टॉक एप का बहुत अच्छा विकल्प उभर कर आ सकता है हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है हमे हमारे स्वदेशी विकल्प तैयार करना है हमारे लिए गर्व की बात है हमारे स्कूल के लिए गर्व की बात है उनको अच्छी सफलता मिले इसका वी शॉट्स रखा है इसके फीचर यूजर फ्रेंडली है.

    बैतुल से शशांक सोनकपुरिया की खास रिपोर्ट


    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.