Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अब शुरू हो चुका है मिशन शक्ति, मनचलों और छींटाकशी करने वालों की अब खैर नहीं

    अब शुरू हो चुका है मिशन शक्ति, मनचलों और छींटाकशी करने वालों की अब खैर नहीं

    (हरदोई के पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स की सोंच को मिला नया जमीनी स्वरूप)

    (मुख्य विकास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स ने फीता काटकर महिला हेल्प डेस्क का किया शुभारंभ)

    हरदोई/लखनऊ। हम बात कर रहे हैं हाल ही में शुरू हो चुके मिशन शक्ति की, जिसका प्रमुख उद्देश्य महिलाओं की सुरक्षा व सम्मान को बनाए रखना है। इसके अलावा अब देश में महिलाओं व बच्चियों के साथ बदसलूकी, छींटाकशी व रेप की बढ़ रही घटनाओं पर लगाम लगाना भी इस 'मिशन शक्ति' का एक प्रथम उद्देश्य है। महिलाओं के सम्मान के साथ लगातार हो रहे खिलवाड़ पर गहन चिंता व्यक्त करते हुए पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स ने एक मिशन के बारे में सोंचा था, जिसे शासन द्वारा अब पूरे प्रदेश के हर जिले में लागू कर जमीनी रूप देने की मुहिम जोरों पर है। इसी क्रम में हरदोई जिले के कई थानों में 17 अक्टूबर से 25 अक्टूबर तक संचालित एक साथ 'मिशन शक्ति' के तहत 'महिला डेस्क' का गठन कर उसका शुभारंभ किया गया।

    कोतवाली देहात में महिला हेल्प डेस्क कार्यालय का
    फीता काटकर शुभारंभ करतीं मुख्य विकास अधिकारी
    निधि गुप्ता वत्स व अन्य महिलाएं.

    कोतवाली देहात में जिलाधिकारी अविनाश कुमार व पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स की उपस्थिति में मुख्य विकास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स द्वारा 'महिला डेस्क' का शुभारंभ फीता काटकर किया गया। इसके साथ ही महिलाओं के सम्मान को सुरक्षित रखने की इस मुहिम को एक नया आयाम दे दिया गया। महिला डेस्क में गठित टीम के द्वारा अब मनचलों, शोहदों, मजनू टाइप अराजक तत्वों पर कड़ी कार्यवाही की जाने की तैयारी हो गई है। अब महिलाओं की सुरक्षा व सम्मान को ठेस पहुंचाने का मतलब है सीधे पुलिस चैलेंज कर देना और इसका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए महिला डेस्क पूरी तरह से तैयार है।

    महिला हेल्प डेस्क के शुभारंभ के दौरान आसीन मुख्य व
    कास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स(बाएं), जिलाधिकारी अविनाश
    कुमार(मध्य में) व पुलिस अधीक्षक अनुराग वत्स(दाएं).

    इसकी खास बात यह है कि किसी महिला या बच्ची के साथ कोई दुर्व्यवहार होता है तो वह महिला या बच्ची संबंधित महिला डेस्क को इसकी पूरी जानकारी देगी। इसके बाद महिला डेस्क द्वारा उस महिला या बच्ची की पहचान को गुप्त रखकर दोषी के विरुद्ध तत्काल कड़ी कार्यवाही की जाएगी। 'महिला-डेस्क' के शुभारंभ के समय शहर व क्षेत्र की कई महिलाओं ने उपस्थित रहकर प्रशासन की इस मुहिम की जमकर सराहना की और इसे महिलाओं के हित में बताया।

    महिला हेल्प डेस्क के शुभारंभ कार्यक्रम में उपस्थित महिला समाजसेविकाएं.

    कार्यक्रम में उपस्थित महिलाओं व बच्चियों को भरोसा दिलाते हुए मुख्य विकास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स ने कहा कि महिलाओं के साथ कोई भी अपराध(जैसे घरेलू हिंसा, छेड़छाड़, मारपीट, गाली-गलौज आदि) होता है तो वह महिला तुरंत ही 'महिला हेल्प डेस्क' में आकर अपनी शिकायत दर्ज करवाए। उसकी इस शिकायत पर की जा रही कार्रवाई के अपडेट्स निरंतर लिए जाते रहेंगे और इस बीच उस महिला की पहचान गुप्त रखी जाएगी। उन्होंने महिलाओं से अपील की, उनके साथ यदि कोई भी क्राइम हो रहा हो तो वे चुप न बैठें, बिना देरी किए इसकी सूचना महिला हेल्प डेस्क में दें। फिर क्राइम चाहें छोटा हो या बड़ा। महिलाओं को किसी के सामने झुकने या चुप रहने की जरूरत नहीं है। उन्होंने समाज की सजग महिलाओं से भी आवाहन किया कि वे विभिन्न क्षेत्रों में जाकर अन्य महिलाओं को इसके प्रति जागरूक करें और अपने साथ हो रहे क्राइम के विरुद्ध उठ खड़े होने का जज्बा होने भरें। उन्होंने आश्वस्त किया कि महिला हेल्प डेस्क के माध्यम से उनकी हर समस्या का शत-प्रतिशत निदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि नारी सम्मान, सुरक्षा और स्वावलंबन को मजबूती देने के उद्देश्य से इस मिशन-शक्ति की शुरुआत की गई है। जिसमें महिलाओं की सुरक्षा प्राथमिक तौर पर की जाएगी।

    कार्यक्रम में बोलती स्कूली बच्ची

    बात अगर नारी सशक्तिकरण की करें तो जिले में ही कई महिलाएं ऐसी हैं, जो प्रशासनिक ओहदे पर आसीन हैं और वे अपने कर्तव्य का निर्वहन भलीभांति कर रही हैं। मुख्य विकास अधिकारी निधि गुप्ता वत्स द्वारा अब तक महिलाओं के सम्मान की सुरक्षा व नारी-सशक्तिकरण मिशन को लेकर कई कार्य किये जा चुके हैं। ऐसे में यह कहना ठीक ही होगा कि वे कमजोर महिलाओं के लिए एक प्रेरणास्त्रोत हैं। वहीं आईजी लक्ष्मी सिंह भी प्रशासनिक सेवाएं देते हुए महिलाओं के हित में कई कार्य कर रही हैं। प्रशासनिक विभाग के दायित्वों का निर्वहन के साथ-साथ महिलाओं के हित में कार्य करने वाली ऐसी महिलाएं समाज को प्रेरणा देने की मुहिम भी चला रही हैं।

    महिला हेल्प डेस्क के शुभारंभ के दौरान मौजूद
    शोभना सिंह, चेतना शुक्ला व अन्य महिलाएं.

    जिलाधिकारी अविनाश कुमार ने महिला हेल्प डेस्क के बारे में विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि अब महिलाओं को किसी भी प्रकार का उत्पीड़न सहने की जरूरत नहीं है। किसी भी महिला या बच्ची के साथ दुर्व्यवहार किए जाने की स्थिति में वह महिला हेल्प डेस्क को अवगत कराए या महिला हेल्पलाइन 1090, 112, 181 पर अपने साथ हुए क्राइम की सूचना दे। महिलाओं के सम्मान के साथ खिलवाड़ करने वाला किसी भी दशा में पुलिस से बच नहीं पाएगा। इस दौरान कार्यक्रम में एसआई सुधा सिंह, समाजसेवी शोभना सिंह, चेतना शुक्ला, अंजली, प्रतिभा गुप्ता, प्रियंका पाण्डे, अनीता सिंह आदि महिलाएं उपस्थित रहीं.

    विजय लक्ष्मी सिंह

    एडिटर इन चीफ

    आई एन ए न्यूज़ एजेंसी

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.