Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    मास्टर माइंड पंचायत सचिव व रोजगार सेवक को ग्राम पंचायत से हटाये जाने की मांग उठी

    मास्टर माइंड पंचायत सचिव व रोजगार सेवक को ग्राम पंचायत से हटाये जाने की मांग उठी

    सीतापुर. विकास खंड सकरन की ग्राम पंचायत रेवान में हुए लाखो रुपयों घोटाले का विवाद थमने का नाम नही ले रहा है ।ग्राम पंचायत व ब्लाक के जिम्मेदारों के बीच रार थमने का नाम नही ले रही है। मास्टर माइंड पंचायत सचिव व रोजगार सेवक को ग्राम पंचायत से हटाये जाने की मांग आठ पंचायत सदस्यों ने नोटरी शपथ पत्र के जरिये जिला पंचायत राज अधिकारी सीतापुर से की गई है।बता दे कि मीडिया ने यह खबर प्रकाशित की थी. खबर प्रकाशन के बाद खंड विकास अधिकारी ने पूरे लाव लश्कर के साथ पंचायत का दौरा भी किया ।गौरतलब हो ग्राम पंचायत  की  मुखिया कनकलता के प्रतिनिधि दिनेश चंद्र गौड़ ने ब्लाक में कार्यरत छैलविहारी,तकनीकी सहायक,आदित्य ,मनरेगा सुपरवाइजर,आत्माराम गौड़ ,रोजगार सेवक के द्वारा किये गए घोटाले की शिकायत प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री सहित उच्च अधिकारी से की थी ।



    गांवो के विकास के लिए आये लाखो रुपयों को जुम्मेदरो ने मनमानी तरीके से फर्जी विल बाउचर लगाकर अपनी तिजोरी भर ली ,पंचायत मुखिया को इसकी भनक तक नही लगने दी ।बकौल मुखिया व ग्राम पंचायत सदस्यों की बात सच मानी जाय तो आरोप खंड विकास अधिकारी पर भी है।कि प्रधानप्रतिनिधि दिनेश चंद्र गौड़ द्वारा की गई शिकायत पर कोई बात उन्होंने गांव आने पर नही की उनके द्वारा शौचालय व अन्य मदो से गांवो में विकास कार्यो की जांच कर अपने कर्तव्यों की इतिश्री कर चलते बने।जिससे पंचायत सदस्यों व ग्रामीणों में आक्रोश देखने को मिल रहा है।


    सूत्रों से मिली जानकारी से यह बात स्प्ष्ट है ,कि उक्त तिकड़ी द्वारा किये गए गोलमाल पर कही न कही जुम्मेदार लीपा पोती में जी जान से लगे है ।इसकी भनक लगते ही आठ पंचायत सदस्यों ने जिला पंचायत राज अधिकारी को नोटरी शपथ पत्र  लिख कर भेजा है,कि ग्राम सभा के पंचायत  मित्र आत्माराम गौड़ व ग्राम विकास अधिकारी विकास तिवारी,(सचिव) मिलकर मनमाने ढंग से फर्जी लिखा पढ़ी करके झूठे बिल बाउचर बनाकर विकास कार्य दिखाए जा रहे है।सदस्यों का कहना कि इसकी शिकायत जब हम लोगो ने प्रधान से की तो प्रधान ने कहा हमको भी इन लोगो द्वारा कुछ भी जानकारी नही दी जा रही है।फिलहाल कुछ भी हो ग्राम पंचायत में लगभग 10 लाख रुपयों के घोटाले का आरोप उक्त तीनों जुम्मेदारो पर लगने के बाद इसका सही जांच व जुम्मेदरो पर कठोर करवाई कराये जाने को लेकर पंचायत सदस्य व ग्रामीणों में गुस्सा है वही अब देखना यह भी है कि आठ पंचायत सदस्यों द्वारा शपथ पत्र पर आखिर जिला पंचायत राज अधिकारी क्या कार्यवाही की जाएगी ।जो आगे देखने को मिलेगी , पंचायत व ब्लाक कर्मचारियों के बीच जारी रार पर पौनी नजर बनाए हुए है ।

    शरद कपूर/ हरीशंकर गुप्ता

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.