Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या: नगर निगम अयोध्या, गोंडा और बस्ती का बढ़ेगा दायरा, 8 किलोमीटर रेंज के कुछ गांव नगरीय परिधि में हो सकते हैं शामिल

    अयोध्या: नगर निगम अयोध्या, गोंडा और बस्ती का बढ़ेगा दायरा, 8 किलोमीटर रेंज के कुछ गांव नगरीय परिधि में हो सकते हैं शामिल

    अयोध्या। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम की धर्म नगरी अयोध्या के दिन अब बहुरने लग गए हैं। जिधर देखो उधर विकास की गंगा बह रही है। बहुत जल्द ही अयोध्या जनपद, अयोध्या नगर निगम का मानचित्र भी बदल सकता है । कहीं एयरपोर्ट, तो कहीं रेलवे स्टेशन, तो एक तरफ अयोध्या में जन्मभूमि पर बृहद मंदिर अंतरराष्ट्रीय स्तर का बन रहा है। अअयोध्या  का विस्तार हो रहा है। कहीं नगर निगम का विस्तार  तो कहीं नई अयोध्या  बसाने  की बात  तेजी से चल रही है। ऐसे में  योगी सरकार  अयोध्या के चौमुखी विकास के लिए  प्रयासरत है।  इसी क्रम में   अयोध्या ,बस्ती , गोंडा  के कुछ गांवों को मिलाकर  नगर निगम अयोध्या का दायरा  8 किलोमीटर  बढ़ाया जा रहा है। जिसके चलते  अयोध्या नगर निगम  विश्व के मानचित्र पर  स्थापित हो सकता है ।अयोध्या में राम मंदिर  निर्माण के साथ ही जिले को भव्यता देने के लिए अयोध्या नगर निगम  सीमा का विस्तार किया जाएगा। इसी क्रम में अयोध्या नगर निगम में अयोध्या के साथ ही गोंडा और बस्ती जिले के गांव शामिल किए जाएंगे. बताया गया कि इसमे अयोध्या जनपद के 154 गांव, गोंडा के 63 गांव और बस्ती के 126 गांव अयोध्या नगर निगम में शामिल किए जा सकते है। जिसके लिए कैबिनेट की मंजूरी का इंतजार है।

    अयोध्या जनपद की सीमा से 8 किलोमीटर की परिधि में गोंडा और बस्ती के गांव अयोध्या नगर निगम में समायोजित किए जाने की योजना है। बताया जाता है कि अयोध्या विकास प्राधिकरण ने यह प्रस्ताव उत्तर प्रदेश शासन को भेज दिया है। प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट  में रखा जाएगा। कैबिनेट में मंजूरी मिलने के बाद अयोध्या विकास प्राधिकरण अयोध्या के डेवलपमेंट के प्रक्रिया शुरू करेगा।

     श्रीराम के मंदिर निर्माण के लिए भूमि पूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व्यक्तिगत तौर पर शामिल होकर अयोध्या को सांस्कृतिक व आर्थिक रूप से विकसित की जाने की मंशा जाहिर की थी। प्राचीन अयोध्या के सुंदरीकरण के साथ ही आसपास के क्षेत्र को विकसित करने करके अयोध्या नगर निगम गोंडा में नवाबगंज, बस्ती के विक्रमजोत ब्लॉक के गांव शामिल करके विकास की गंगा  बहाई जा सकेगी।सूत्रो से मिली जानकारी के अनुसार सरयू नदी से लगे हुए 8 किमी की परिधि में जुड़ने वाले गांव को पर्यटन हब बनाये जाने की योजना है। इसके साथ ही प्राइवेट क्षेत्र में भी इन जमीनों को दिया जाएगा ताकि अयोध्या को पर्यटन की दृष्टि से और विकसित किया जा सके। अयोध्या, बस्ती व गोंडा के 343 गांवों को अयोध्या नगर निगम में शामिल करने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा गया है। कुछ त्रुटियां थीं, उन्हें भी सही करके फिर शासन को भेज दिया गया है। कैबिनेट में मंजूरी मिलने के बाद प्राधिकरण डेवलपमेंट पर काम करना शुरू कर देगा।

      अगर बस्ती और गोंडा के ये गांव अयोध्या नगर निगम में शामिल होते हैं तो सरयू नदी पूर्ण रूप से अयोध्या में होगी। अयोध्या सरयू नदी के दोनों तरफ डेवलपमेंट होने से पौराणिक सरयू नदी अयोध्या के बीचों-बीच से गुजरती नजर आएगी। ऐसे में अयोध्या जनपद का इन योजनाओं के साथ मानचित्र भी बदल जाएगा । 

    देव बक्श वर्मा 

    आईएनए न्यूज़ 

    अयोध्या, उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.