Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    31 अक्टूबर को दिखाई देगा दुर्लभ ब्लू मून डा0 इरफ़ान

    31 अक्टूबर को दिखाई देगा दुर्लभ ब्लू मून डा0 इरफ़ान
    शाहजहांपुर। 31 अक्टूबर को रात के आकाश में नील चन्द्र यानी ब्लू मून को देखा जा सकेगा। 
    साइंस एक्टिविस्ट डाॅ. इरफान ह्यूमन ने बताया कि इस बार जैसा आखिरी ब्लू मून हैलोवीन के दिन यानी 31 अक्टूबर 1944 में देखा गया था। अब 2020 हैलोवीन पूर्णिमा द्वितीय विश्व युद्ध के बाद पहली बार 31 अक्टूबर को पूरी दुनिया को दिखाई देगी। यदि इस बार आप इस खगोलीय घटना को देखने से चूक गये तो अगली बार आपको इसे देखने के लिए 22 अगस्त, 2021 का इंतेज़ार करना पड़ेगा।
    उन्होंने बताया कि अधिकतर लोग यही मानते हैं इस घटना के समय चांद का रंग नीला हो जाएगा, जबकि ऐसा बिलकुल नहीं है। शब्द ब्लू मून का संबंध चंद्रमा के नीले रंग से नहीं है, बल्कि अलग-अलग स्थानों के वातावरण के अनुसार चांद सफेेेद हलका लाल, नारंगी या पीले रंग का ही दिखाई देगा। उन्होंने ब्लू मून की व्याख्या करते हुए बताया कि यदि कलेंडर में एक महीने में दो पूर्णिमाएँ हों तो दूसरी पूर्णिमा के चंद्रमा को ब्लू मून कहा जाता है। इस बार 1 अक्टूबर को पूणिॅमा थी और इसी महीने फिर से 31 अक्टूबर को पूर्णिमा का चन्द्रमा दिखने वाला है यानी एक महीने में दो पूर्ण चन्द्रमा।
    डाॅ. इरफान ह्यूमन ने बताया कि ब्लू मून की पूर्णिमा को परंपरागत रूप से अतिरिक्त पूर्णिमा कहा जाता है, जब एक वर्ष में आमतौर पर 12 की बजाय 13 पूर्णिमाएँ होती हैं। ब्लू मून की घटना प्रत्येक 2 या 3 साल में, मेटोनिक चक्र के हर 19 सालों में 7 बार होती है या यू कहें कि ब्लू मून औसतन हर 2.7 साल में एक बार होता है।

    फ़ैयाज़ उद्दीन, शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.