Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बैतूल: डीएसपी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर ठगी,डीएसपी का परिचित ठगा गया,एकाउंट में करा दिए रुपये ट्रांसफर

    बैतूल: डीएसपी की फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर ठगी,डीएसपी का परिचित ठगा गया,एकाउंट में करा दिए रुपये ट्रांसफर

    साइबर सेल को सौंपी जांच ,यूपी से संचालित हो रहा फर्जी एकाउंट





    डीएसपी
    बैतूल.
    साइबर क्राइम का शिकार अब खुद पुलिस वाले ही होने लगे है। मध्य प्रदेश के बैतूल में एक नए नवेले डीएसपी के नाम से फेंक फेसबुक आईडी बनाकर लोगो से रुपये उगाहने का  मामला सामने आया है। डीएसपी संतोष पटेल की फेंक आईडी बनाकर यहां डीएसपी के एक परिचित से 15 हजार रुपये भी ऐंठ लिए गए। मामला सामने आने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की है।

    दरअसल बैतूल में पन्ना निवासी डीएसपी संतोष पटेल महिला सेल में तैनात है। प्रोबेशन खत्म होने के बाद उन्हें यही पोस्टिंग दे दी गयी है। कल उन्हें उनके सीनियर अधिकारी ने फोन कॉल कर बताया कि उनकी फेक फेसबुक आईडी बना ली गयी है। जिससे मैसेज और काल कर परिचितों से रुपये की जरूरत बताकर रुपयों की मांग की जा रही है। संतोष पटेल ने जब अपनी आईडी चेक की तो उनके एकाउंट से मिलता जुलता नया एकाउंट बनाया गया था।जिसमे प्रोफ़ाइल फोटो से लेकर अन्य जानकारी हूबहू डालकर नया एकाउंट बना लिया गया था।  इसी बीच डीएसपी को उनके गांव से काल आयी कि अतिथि शिक्षक सत्येंद्र ने उस फर्जी आईडी के चक्कर मे फंसकर 15 हजार की रकम फेक काल मे बताये गए एकाउण्ट में डाल दी है। यह एकाउंट आईसीआईसीआई बैंक में संचालित होना बताया जा रहा है। डीएसपी ने अब पूरे मामले को साइबर क्राइम में देकर जांच शुरू करवा दी है। बताया जा रहा है कि फेक आईडी और एकाउंट उत्तरप्रदेश से संचालित किया जा रहा है। डीएसपी ने लोगो से इस झांसे में न आने की अपील की है।


    ठगा गया युवक
    डीएसपी बैतूल संतोष पटेल का कहना है कि मेरे सहयोगी डीएसपी ने मुझे बताया कि किसी ने मेरे नाम से फर्जी फेसबुक आईडी बना लिया है. मैंने सर्च किया तो मेरी प्रोफाइल जैसी प्रोफाइल बनाकर फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर मेरे परिचितों से रुपए मांगने के लिए मैसेंजर पर मैसेज किए गए इस दौरान मेरे गांव के एक अतिथि शिक्षक जो मेरे परिचित हैं उन्हें भी मैसेज किया गया था और उन्होंने पंद्रह हजार रुपये एकाउंट में ट्रांसफर कर दिया मुझे तब पता चला जब उन्होंने मुझे फोन किया और पूछा कि पैसे मिल गए तब मैंने बैंक एकाउंट चेक कराया गया जिस एकाउंट में पैसे ट्रांसफर हुए थे उससे पैसे भी निकाल लिए मामले की जांच साइबर सेल को दी गई है.
    सत्येंद्र सिंह का कहना है कि मेरे दोस्त संतोष पटेल जो डीएसपी है उनके मैसेंजर से मैसेज आया कि मुझे पैसों की जरूरत है और कल वापस कर दूंगा. मैंने पंद्रह हजार रुपये ट्रांसफर कर दिए बाद में पता चला कि यह आईडी उनके नाम से किसी ने बनाई है. मेरे से गलती हुई जो मैंने उनसे बिना कंफर्म किए पैसे ट्रांसफर कर दिए.


     बैतुल से शशांक सोनकपुरिया की खास रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.