Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    भ्रष्टाचार की शिकायत पर डीएमओ लखनऊ अटैच

    भ्रष्टाचार की शिकायत पर डीएमओ लखनऊ अटैच

    डीएमओ और लिपिक के भ्रष्टाचार की जाँच अधिकारी विशेष सचिव डीएस उपाध्याय नामित

    कुशीनगर।
    जिले के अल्पसंख्यक विभाग में बीते वर्षों से भ्रष्टाचार की जड़े इतनी मजबूत हो गई है कि पूरे सिस्टम को अपने अनुरूप चला रही हैं। यहा बैठे-बैठे मदसरे की मान्यता दिलवाने और देने की रकम तय की जाती हैं भले ही जमीन पर मदरसा संचालित हो या नही, आज भी जनपद में सैकड़ो फर्जी मानकविहीन मदरसों की भरमार लगी हैं इन मदरसों से विभागीय बाबुओं और अधिकारियों का अच्छा खासा जेब भरता है।



    लगातार शिकायत के बाद भ्रष्टाचार के आरोप में घिरे कुशीनगर के जिला अल्पसंख्यक कल्याण अधिकारी देवेन्द्र राम व वरिष्ठ लिपिक ईश मोहम्मद के विरुद्ध अल्पसंख्यक आयोग के सदस्य बक्शीस अहमद वारसी ने 4 नवम्बर व 21 नवम्बर 2019 को शासन को पत्र लिखते हुए उक्त अल्पसंख्यक अधिकारी तथा लिपिक ईश मोहम्मद के विरुद्ध भ्रष्टाचार की जाँच करने की सिफारिश किया था। जिसके उपरांत 17 सितंबर 2020 को उप सचिव रवि शंकर मिश्र ने अल्पसंख्यक कल्याण एवं वक्फ विभाग के विशेष सचिव डीएस उपाध्याय को जाँच अधिकारी नामित करते हुए अल्पसंख्यक अधिकारी देवेंन्द्र राम को लखनऊ से संबंध कर दिया है। उप सचिव ने जाँच अधिकारी से शीघ्र जाँच रिपोर्ट देने का निर्देश दिया हैं साथ ही आदेश की प्रति डीएम कुशीनगर को भेजा है।

    ************

    भ्रष्टाचार की मुख्य जड़ वरिष्ठ लिपिक

    अल्पसंख्यक विभाग में बिना भवन, एक ही मदरसे में पूरे परिवार को विज्ञान अध्यापक नियुक्ति करा कर मानदेय भुगतान कराने जैसा शासन के मंशा के विपरीत सभी कार्यो को करने और कराने का ठेका लेने वाला अल्पसंख्यक कार्यालय में कार्यत वरिष्ठ लिपिक ईश मोहम्मद अपने सगे रिश्तेदारों को भी शासन के शासनादेश को ताख पर रखकर मदरसे का मान्यता दिलवा रखा है। तमाम शिकायतों के बाद भी इसके विरुद्ध कार्यवाई तो दूर जिला अल्पसंख्यक अधिकारी शिकायत भी सुनना जरूरी नही समझते हैं अल्पसंख्यक विभाग में फैली भ्रष्टाचार का मुख्य जड़ लिपिक हैं।

    अमित कुमार सिंह
    INA News कुशीनगर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.