Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला - बाबरी मस्जिद विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था; आडवाणी, जोशी, उमा सहित सभी आरोपी बरी

    बाबरी मस्जिद पर कोर्ट का फैसला - बाबरी मस्जिद विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था; आडवाणी, जोशी, उमा सहित सभी आरोपी बरी 

    लखनऊ/राज्य मुख्यालय.

    छह दिसंबर, 1992 को अयोध्या में विवादित ढांचा ढहाए जाने के आपराधिक मामले में 28 साल बाद जज सुरेंद्र कुमार यादव की विशेष अदालत अपना फैसला सुना दिया है। जज ने फैसला पढ़ते हुए कहा है कि यह विध्वंस पूर्व नियोजित नहीं था बल्कि आकस्मिक घटना थी। विशेष अदालत ने  लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी व कल्याण सिंह सभी अभियुक्तों को बरी कर दिया है। 

    इस मामले में 49 लोगों को अभियुक्त बनाया गया था। इसमें से 17 की मौत हो चुकी है। सीबीआई व अभियुक्तों के वकीलों ने करीब आठ सौ पन्ने की लिखित बहस दाखिल की है। इससे पहले सीबीआई ने 351 गवाह व करीब 600 से अधिक दस्तावेजी साक्ष्य पेश किए हैं। 30 सितंबर, 2019 को सुरेंद्र कुमार यादव जिला जज, लखनऊ के पद से सेवानिवृत्त हुए थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इन्हें फैसला सुनाने तक सेवा विस्तार दिया था। विशेष जज सुरेंद्र कुमार यादव के कार्यकाल का अंतिम फैसला 30 सितंबर को होगा। सीबीआई के वकील ललित सिंह के मुताबिक कि यह उनके न्यायिक जीवन में किसी मुकदमे का सबसे लंबा विचारण है। वह इस मामले में वर्ष 2015 से सुनवाई कर रहे हैं।

    *******

    कोर्ट के फैसले पर सीबीआई के वकील बोले- अपील का फैसला जजमेंट की कॉपी पढ़ने के बाद

    फैसले के बाद सीबीआई अधिवक्ता ललित सिंह ने कहा कि जजमेंट की प्रति मिलने के बाद सीबीआई हेडक्वार्टर भेजा जाएगा। जिसके बाद लॉ सेक्शन उसका अध्ययन करने के बाद जो परामर्श देगा, उसी अनुसार अपील करने का निर्णय लिया जाएगा। 


    *******

    लालकृष्ण आडवाणी बोले- फैसला मेरे और BJP के राम जन्मभूमि आंदोलन के प्रति प्रतिबद्धता को साबित करता है।




    भारतीय जानता पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में सीबीआई की विशेष अदालत के फैसले का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि मैं विशेष अदालत द्वारा दिए गए निर्णय का तहे दिल से स्वागत करता हूं। इस फैसले से राम जन्मभूमि आंदोलन के प्रति मेरे व्यक्तिगत और भाजपा के विश्वास और प्रतिबद्धता का पता चलता है।


    **********

    न्याय के मंदिर में सत्य की जीत होती है: नरेंद्र गिरि

    अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने विवादित ढांचे के मामले पर आए न्यायालय के फैसले का स्वागत किया है। परिषद अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि ने बयान दिया है कि छह दिसंबर 1992 को जो घटना हुई थी वो पूर्व नियोजित नहीं थी। मामले को लेकर न्यायालय ने आज अपना आदेश सुना दिया है। महंत नरेंद्र गिरि ने आम जं मानस से अपील की है कि वो कोर्ट के आदेश को माने। उन्होंने कहा कि इस फैसले को लेकर सभी को बधाई दी। कहा कि न्याय के मंदिर में हमेशा सत्य की जीत होती है।


    ********

    राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया - देर से ही सही मगर न्याय की जीत हुई

    रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया :लखनऊ की विशेष अदालत द्वारा बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में श्री लालकृष्ण आडवाणी, श्री कल्याण सिंह, डा. मुरली मनोहर जोशी, उमाजी समेत 32 लोगों के किसी भी षड्यंत्र में शामिल न होने के निर्णय का मैं स्वागत करता हूँ। इस निर्णय से यह साबित हुआ है कि देर से ही सही मगर न्याय की जीत हुई है।


    ********

    फैसले के बाद आडवाणी के घर जा कर मिले कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद

    अयोध्या में बाबरी मस्जिद विध्वंस केस में बरी होने के बाद कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद लालकृष्ण आडवाणी से घर जाकर मुलाकात की। 

    ********

    CBI कोर्ट के फैसले पर बोले- कल्याण सिंह, पूरा देश खुश है

    बाबरी मस्जिद विध्वंस केस पर सीबीआई अदालत का फैसला आने के बाद यशोदा हॉस्पिटल गाजियाबाद में भर्ती पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह ने खुशी जताई। उनके बेटे एटा सांसद ने पूर्व सीएम का बयान हिन्दुस्तान को बताया। उन्होंने कहा इस फैसले से सिर्फ हम ही नहीं आज पूरा देश खुश है। 

    *******

    मुस्लिम पक्ष हाईकोर्ट जाएगा.. 

    मुस्लिम पक्ष की तरफ से जफरयाब जीलानी ने कहा कि ये फैसला कानून और हाईकोर्ट दोनों के खिलाफ है। विध्वंस मामले में जो मुस्लिम पक्ष के लोग रहे हैं उनकी तरफ से हाईकोर्ट में अपील की जाएगी।


    *******

    अदालत ने सुनाया फैसला...

    6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में जो हुआ उस पर सीबीआई की विशेष अदालत ने बुधवार को अपना फैसला सुनाया। विशेष अदालत ने पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह,  उमा भारती, विनय कटियार समेत कुल 32 आरोपियों को बरी कर दिया है। 

    *******

    घटना पूर्व नियोजित नही थी...

    जज ने जब फैसला पढ़ना शुरू किया...

    सूत्रों के मुताबिक जज ने कहा कि पूर्व नियोजित नहीं था विध्वंस, यह आकस्मिक थी घटना


    ********

    लखनऊ के कैसरबाग बस अड्डे से परिचालन पर रोक..

    अयोध्या बाबरी विध्वंस केस में फैसले को देखते हुए लखनऊ के कैसरबाग बस अड्डे से बसों का आवागमन बंद किया गया है। सीतापुर रूट की बसें मडियांव में रोकी जा रही है। अयोध्या रूट की बसें कमता चौराहे के अवध बस अड्डे पर ठहराव किया गया। शहर के भीतर बसों के संचालन पर पूरी तरह से रोक लगी। यात्री बस अड्डे के वेटिंग हाल में कैद। स्टेशन इंचार्ज शशीकांत ने बताया कि अधिकारियों के आदेश पर कुछ समय के लिए बसों का संचालन रोका गया है। बस अड्डे पर मौजूद यात्रियों में दहशत का माहौल।

    ********

    कोर्ट के बाहर हलचल बढ़ी

    फैसले से पहले कोर्ट के बाहर हलचल बढ़ी। पुलिस ने मीडिया के लिए मेज लगाई। माना जा रहा है कि कोर्ट के फैसले के बाद अफरातफरी का माहौल ना बने इसलिए प्रेस ब्रीफिंग के तौर पर सबको जानकारी दी जाए। 


    *********

    कोर्ट में हाजिरी माफी की अर्जी दी

    एलके आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, उमा भारती, कल्याण सिंह, नृत्य गोपाल दास और सतीश प्रधान ने कोर्ट में हाजिरी माफी की अर्जी दी है। ज्यादातर ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया।


    *********

    जज ने पेशकार से मांंगी जानकरी..

    विशेष जज एसके यादव ने सभी अभियुक्तों के हाजिर होने की जानकारी पेशकार से मांगी। बचाव पक्ष के वकीलों ने पेशकार को बताया कि आने वाले अभियुक्तों में दो अभी आने वाले हैं। जज फिलहाल अपने चैंबर में ही मौजूद

    *********

    जानिए कौन कौन पहुंचा कोर्ट रूम

    चंपत राय ,धर्मदास, पवन पांडे, ओम प्रकाश पांडे, विजय बहादुर सिंह, धर्मेंद्र देव,  विनय कुमार राय ,रामजी गुप्ता ,गांधी यादव ,नवीन भाई शुक्ल कोर्ट रूम में थे। 


    *********

    आडवाणी, जाेशी और उमा ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फैसला सुना...

    बाबरी विध्वसं केस मामले में फैसला सुनने के लिए पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी, पूर्व केंद्रीय मंत्री मुरली मनोहर जोशी, पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह,पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती कोर्ट में मौजूद नहीं रहीं। सभी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फैसला सुना। विनय कटियार, राम विलास वेदांती, साध्वी ऋतंभरा कोर्ट पहुंचीं थीं।


    *********

    फैसले से पहले बोलीं थीं उमा भारती : भगवान राम के लिए हर सजा भुगतने को तैयार

    पूर्व केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा था कि जो भी न्यायालय का फैसला होगा, उसे मैं भुगतने के लिए तैयार हूं। फैसले के दौरान सीबीआई की विशेष अदालत में उपस्थित होना था, लेकिन स्वास्थ्य ठीक ना होने के कारण मैं उपस्थित नहीं हो पा रही हूं। उमा ने पत्र में लिखा है कि न्यायालय द्वारा जो भी सजा मुझे दी जाएगी वह मैं भुगतने के लिए तैयार हूं। राम मंदिर के लिए मुझे जो भी सजा मिलेगी में तैयार हूं।


    *********

    अयोध्या, मथुरा और काशी में बढ़ाई गई सुरक्षा

    एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि अयोध्या में पहले से ही पर्याप्त सुरक्षा प्रबंध हैं। मथुरा, वाराणसी तथा अन्य जिलों में भी पूरी सतर्कता बरती जा रही है। पुलिस अफसरों को लगातार भ्रमणशील रहकर शांति व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए गए हैं। सोशल मीडिया की भी सघन निगरानी कराई जा रही है। जिलों के अलावा डीजीपी मुख्यालय के स्तर से भी सोशल मीडिया को मॉनीटर किया जा रहा है। छोटी-छोटी घटनाओं को बेहद गंभीरता से लेने और हर सूचना पर तत्काल कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए हैं। 

    अयोध्या के डीआईजी/एसएसपी दीपक कुमार ने बताया कि बुधवार को जिले में किसी भी तरह के जुलूस आदि पर पूरी तरह प्रतिबंध रहेगा। कोविड-19 के प्रोटोकॉल के तहत सोशल डिस्टेंसिंग का भी सख्ती से पालन कराया जाएगा। जिले में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। 


    *******

    जानिए इस केस में कौन थे 32 अभियुक्त...

    लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण  सिंह, उमा भारती, विनय कटियार, साध्वी ऋतंभरा, महंत नृत्य गोपाल दास, डॉ. राम विलास वेदांती, चंपत राय, महंत धर्मदास, सतीश प्रधान, पवन कुमार पांडेय, लल्लू सिंह, प्रकाश वर्मा, विजय बहादुर सिंह, संतोष  दुबे, गांधी यादव, रामजी गुप्ता, ब्रज भूषण सिंह, कमलेश्वर त्रिपाठी, रामचंद्र, जय भगवान गोयल, ओम प्रकाश पांडेय, अमरनाथ गोयल, जयभान सिंह पवैया, स्वामी साक्षी महाराज, विनय कुमार राय, नवीन भाई शुक्ला, आरएन श्रीवास्तव, आचार्य धर्मेंद्र देव, सुधीर कुमार कक्कड़ व धर्मेंद्र सिंह गुर्जर।

    अतुल कपूर
     आई एन ए न्यूज़   लखनऊ यूपी हेड 

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.