Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    ... और अब विश्व के बड़े पर्यटक स्थलों में शामिल होगा अयोध्या धर्म नगरी का नाम

    ... और अब विश्व के बड़े पर्यटक स्थलों में शामिल होगा अयोध्या धर्म नगरी का नाम

    अयोध्या मे श्री राम एयरपोर्ट से 2021 के अंत तक अंतरराष्ट्रीय विमान की लैंडिंग कराने की योजना

    अयोध्या।
    मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम के मंदिर निर्माण के साथ धर्म नगरी अयोध्या के 204 पौराणिक स्थलों को भी विकसित किया जाएगा। जिसकी कार्ययोजना  पर्यटक विभाग तैयार कर रहा है । योजना की लागत  करीब 200 करोड़ रुपए आंकी  जा रही है। इसका  प्रोजेक्ट तैयार हो चुका है।  इसी प्रकार अयोध्या में श्रीराम अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने की कयादत चल रही है। जिसके बन जाने के बाद  अंतरराष्ट्रीय उड़ाने यहां से भी  होने लगेंगी।  और अयोध्या  विश्व से आवागमन के लिए जुड़ जाएगा। श्री राम एयरपोर्ट से 2021 के अंत तक अंतर्राष्ट्रीय लैंडिंग कराने की योजना। भगवान श्री राम का मंदिर बनने के बाद विश्व के बड़े पर्यटक स्थलों में अयोध्या शामिल हो जाएगा। अनुमान के अनुसार रोज 20 हजार पर्यटकों की आमद अयोध्या में होगी । विदेशों से भी  श्रद्धालु  बाई एयर आएंगे। उनके रुकने और दर्शन करने पर मंथन हो  रहा है। गाइड को प्रशिक्षण भी होने वाला है। क्योंकि पर्यटकों की आमद बढ़ने से अयोध्या के साथ-साथ प्रदेश सरकार की आमदनी भी बढ़ेगी।
           धर्म नगरी अयोध्या में तमाम पौराणिक मंदिर ऐसे हैं जो अपने में काफी इतिहास समेटे हैं । लेकिन इसकी जानकारी आम जनमानस को नहीं है। पर्यटक विभाग इनकी प्रमाणिकता को स्थिर करते हुए नए सिरे से विकास करेगा। जानकारी के अनुसार राम मंदिर के साथ अयोध्या के 204 पौराणिक स्थलों को विकसित किया जाएगा। प्रथम चरण में कुडों का विकास होगा। कई कुंड ऐसे हैं जिनका अस्तित्व खतरे में है। और अस्तित्व विहीन हो गए हैं। दूसरे चरण में अति प्राचीन मंदिर का विकास होगा। तीसरे चरण में पौराणिक से जुड़े रास्तों का विकास किया जाएगा। जिसकी कार्ययोजना  पर्यटक विभाग तैयार कर रहा है। राम का मंदिर बनने के बाद अयोध्या विश्व के मानचित्र पर ही नहीं विश्व के बड़े पर्यटक स्थलों में भी शामिल हो जाएगा। और एक अनुमान के अनुसार प्रतिदिन 20 हजार पर्यटक की आमद धर्म नगरी अयोध्या में होगी। किस प्रकार पर्यटकों को अयोध्या में रोका जाएगा इससे प्रदेश की आर्थिक स्थिति मजबूत होगी। अनुमान है कि अयोध्या में राम जी का दर्शन पूजन तमाम श्रद्धालु करके वापस चले जाएंगे। लेकिन बाहर से आने वाले पर्यटक 1 सप्ताह या 1 पक्ष तक रुकना चाहे तो इसके लिए व्यवस्था करना होगा। और इससे अयोध्या और प्रदेश दोनों का लाभ होगा। जिसके लिए नई योजना तैयार की जा रही है। अयोध्या में 2 दर्जन से अधिक ऐसे कुंड जिनका  विकास किया जाना है। इसमें कई ऐसे हैं जो भूतल पर दिखाई ही नहीं पड़ रहे हैं। मात्र कागजों तक ही सीमित है । इसी प्रकार पौराणिक होते होने के साथ अपने में काफी इतिहास समेटे हुए कई मंदिर ऐसे हैं जिनकी जानकारी आम जनमानस को नहीं है। पर्यटक विभाग को चिन्हित करके प्रमाणिकता को स्थिर करते हुए नए सिरे से विकास करेगा। और उसके बाद पौराणिक रास्तों का भी विकास होगा। अयोध्या में कई ऐसे पौराणिक मार्ग हैं जिन का विकास किया जाना अति आवश्यक है । क्योंकि साल में एक बार परिक्रमा होती है। इसमें पंचकोसी परिक्रमा, 14 कोसी परिक्रमा, और 84 कोसी परिक्रमा मार्ग प्रमुखता से शामिल है।

     जानकारी के अनुसार इन योजनाओं में करीब 200 करोड़ रुपए की लागत आंकी जा रही है। इसी प्रकार अयोध्या में पर्यटक हब के रूप में भी विकसित किया जाएगा। उत्तर प्रदेश  योगी सरकार भगवान राम की लगने वाली प्रस्तावित मूति  को माझा बरहटा में लगना है । उस इलाके में करीब 80 हेक्टेयर यानी 200 एकड़ भूमि अधिग्रहण होना है। जहां पर भगवान राम की आदम कद मूर्ति स्थापित होगी। शेष जो जमीन बचेगी उसमें भगवान राम से जुड़े स्थलों को हब के रूप में विकसित किया जाएगा। इस प्रकार अयोध्या के चतुर्दिक विकास के लिए कार्य चल रहे हैं।
               वहीं पर अयोध्या में श्री राम जी के नाम से अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट  बनने  और 2021  मैं अंतर्राष्ट्रीय विमानों की लैंडिंग कराये जाने की योजना है जिसके लिए भूमि अधिग्रहण के साथ रनवे बनाये जाने का कार्य तेजी शुरू किया जाने की तैयारी है। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की भव्य मंदिर निर्माण के साथ देश विदेश अयोध्या आने वाले पर्यटकों की संख्या में भारी वृद्धि होगी। जिसको देखते हुए अब उत्तर प्रदेश सरकार ने अयोध्या में पर्यटकों की सुविधाओं को भी बढ़ाए जाने की तैयारी तेज कर दी है आने वाले पर्यटक हवाई मार्ग से भी पहुँच  सकेगे। इसके लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर तक के विमानों की लैंडिंग कराए जाने के लिए श्री राम एयरपोर्ट का निर्माण की गति को तेज करते हुए 2021 तक रनवे को तैयार करने की योजना है। जिसके लिए सरकार द्वारा दिये गए 525 करोड़ का बजट दिया गया है।
              बताया जा रहा है कि एक से डेढ़ साल मे बनकर यह एयरपोर्ट तैयार हो जाएगा। अयोध्या श्री राम एयरपोर्ट को अभी अंतरराष्ट्रीय मान्यता नहीं है। लेकिन माना जा रहा है कि जब बनकर तैयार  हो जाएगा तो अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रूप में मान्यता लेने में कठिनाई नहीं होगी।


     देव बक्श वर्मा, अयोध्या

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.