Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    वाल्मीकि समाज में हाथरस कांड को लेकर आक्रोश, पूरे देश में सफाई व्यवस्था ठप्प करने की चेतावनी

    वाल्मीकि समाज में हाथरस कांड को लेकर आक्रोश, पूरे देश में सफाई व्यवस्था ठप्प करने की चेतावनी

    बड़ी खबर..
    भारत बंद- 1अक्टूबर
    कैंडल मार्च - उसी दिन शाम 7 बजे
    देश में सफाई व्यवस्था ठप्प- 2 से 8 अक्टूबर 2020 तक

    हाथरस में देश की बेटी के साथ दिल दहलाने वाली घटित हुई घटना से पूरे देश के लोगों में आक्रोश देखने को मिल रहा है, विशेष कर इस लोहमर्षक गैंगरेप हत्या कांड में पुलिस की भूमिका की जितनी भी निंदा की जाए वह कम ही होगी, एक मासूम बच्ची के साथ वहशी दरिंदो ने हैवानियत का जो नंगा खेल खेला है, उसने दिल्ली कांड को भी पीछे छोड़ दिया है |
               
    पिछली 14 सितम्बर को बहन मनीषा वाल्मीकि के साथ हाथरस में गैंग रेप हुआ था, यूपी पुलिस ने आरोपियों को बचाने के भरसक प्रयास किए, दबाकर झूठ बोला, जूठे ट्वीट किए।
    लेकिन हमारे समाज के बुद्धिजीवी, नौजवान साथियों ने ट्विटर सहित सोशल मीडिया पर यूपी पुलिस की हर जगह पोल खोली और बहन मनीषा को न्याय दिलाने की हरसंभव कोशिश की।
    देश में वाल्मीकि समाज पर अत्याचार लगातार बढ़ते जा रहे है, जिसमें हाल के उदाहरण आपके समक्ष है

    - करनाल के निसिंग में राजपूतों ने रात्रि 2 बजे वाल्मीकि महिला का अपहरण कर रेप किया, पुलिस ने कोई कार्यवाही नहीं की।
    - रमन वाल्मीकि का जुडिशल कस्टडी में मर्डर हुआ, कुछ नहीं बना।
    - 22 वर्षीय सीमा सरपंच पर झूठे  मुकदमे दर्ज करवाए गए।
    - दिल्ली में मकान तोड़े गए, कुछ नहीं हुआ।
    - यमुनानगर में स्वर्णों ने वाल्मीकि समाज के परिवारों पर जानलेवा हथियारों से हमला किया।
    - फरीदाबाद में वाल्मीकि परिवार पर गुर्जरों ने हमला किया, कुछ नहीं बना।
    - बहादुरगढ़ में सीवर के अंदर डूबकर एक सफाई कर्मी मारा गया, कुछ नहीं हुआ।
    - राजस्थान में सरपंच उम्मीदवार ने हमारे लोगों को जहरीली शराब पिलाकर मार दिया।
    - सफाई कर्मियों की कोई सुनावाई नहीं हो रही।
    - कोराना काल में कई सफाई सैनिक मारे गए, कोई मुआवजा नहीं मिला।
    ऐसे कई हादसे जो पिछले 1-2 महीने से लगातार होते आ रहे है, जिन्हे हम लिखने बैठे तो कम पड़ जाए।

    इसके विरोध में हम 1 अक्टूबर 2020 को भारत बंद व उसी दिन शाम 7 बजे कैंडल मार्च का आह्वान करते है।

    इसके साथ ही हम 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर तक देश में सफाई व्यवस्था ठप की घोषणा करते है।
    आपको भी पता लगना चाहिए कि कितने स्वर्ण/बहुजन आपके पक्ष में है, कितने खिलाफ।

    *******************

    हाथरस कांड में पुलिस का घिनौना चेहरा सामने आया

     “परिवार को शव देखने को नहीं मिला। जिले के अधिकारियों द्वारा क्षेत्र में तैनात 150 से अधिक पुलिसकर्मियों के साथ 20 वर्षीय लड़की का अंतिम संस्कार किया गया।  अंतिम संस्कार के समय परिवार का कोई सदस्य मौजूद नहीं था।"
    इस कांड में शुरू से लेकर बेटी के अंतिम संस्कार तक पुलिस ने किसी सोची समझी साजिश के तहत काम किया है, पुलिस की यह कार्यशैली अपने आप में सैकड़ों प्रश्न खड़े कर रही है |


    शरद कपूर
     सीतापुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.