Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पलवल - रजवाहा बंद होने से किसान दुखी, अतिक्रमण और गंदगी से रजवाहा लबालब भरा, फसलों को भी नुकसान

    पलवल - रजवाहा बंद होने से किसान दुखी, अतिक्रमण और गंदगी से रजवाहा लबालब भरा, फसलों को भी नुकसान

    पलवल.
    शहर के बीचो-बीच से निकलने वाले भंगूरी रजवाहा आसपास के अतिक्रमण और गंदगी के चलते नाले का रूप ले चुका है। रजवाहे में पॉलीथिन और अन्य कूड़ा कर्कट रजवाहा लबालब है. जिसके चलते किसानों को फसलों के लिए दूषित पानी मिल रहा है जिससे किसानों में रोष है उनका कहना है इस पानी से खेतों की सिंचाई करने पर फसलों में नुक्सान हो रहा है। किसानों की मांग है की भंगूरी रजवाहे को साफ़ किया जाये ताकि किसानों को उनकी फसलों के लिए साफ़ पानी मिल सके।
    रजवाहा किसानो को सिंचाई का पानी उपलब्ध करवाने के लिए बनाये गए थे आज से करीब बीस वर्ष पहले पलवल के भंगूरी रजवाहे में बिलकुल साफ पानी बहता नज़र आता था अब रजवाहों के किनारों  पर बसे लोगों द्वारा गंदगी व घरो का गंदा पानी, फैक्ट्रियों से निकलने वाला केमिकल इस रजवाहे में निरंतर कई वर्षो से डाला जा रहा है जिसके चलते यह एक बड़े नाले में तब्दील हो चुका है।  रजवाहे में इतनी गंदगी भरी होती है कि इसके किनारे से निकलने के लिये बदबूदार माहौल से निकलना मुश्किल हो जाता है। यह रजवाहा उत्तरप्रदेश सिंचाई विभाग के अधीन आता है.

    जिसके चलते हरियाणा सिंचाई विभाग पर इसकी सफाई की जिम्मेवारी है। पलवल निवासी किसान भूपेंद्र ने बताया की इस रजवाहे से सैकड़ों गांवों के लोगों को खेतों की सिंचाई के लिए पानी मिलता है लेकिन इससे मिलने वाला पानी किसानों के लिए फायदे की जगह नुकसानदायक साबित हो रहा है। इस रजवाहे से किसानों को मिलने वाला पानी पूरी तरह दूषित है.

    इसकी मुख्य वजह यह रजवाहा सहर के बीचों बीच से होकर जाता है और सहर के निवासी घरों का सभी कूड़ा कर्कट दुकानों की वेस्टेज इत्यादि इसी रजवाहे में डाले जाते हैं जिससे रजवाहे से बहकर वाला पानी दूषित हो जाता है यहां तक की रजवाहे की सफाई भी समय पर नहीं होती जिससे पानी भी सभी किसानों तक नहीं पहुँच पता और मजबूरी में किसानों को अपने खेतों में इसी दूषित पानी से सिंचाई करनी पड़ती है। किसानों ने बताया की इस रजवाहे से मिलने वाले गंदे पानी के कारण फसल भी दूषित होती है और जिन दर्जनों गांवों के लिए इस रजवाहे का निर्माण हुआ था.

    वहां इससे अलग कोई पानी का जरिया नहीं है। किसानों की मांग है की इस रजवाहे की सफाई करवाई जाये ताकि किसानों को साफ़ शुद्ध पानी मिल सके। वहीं इस बारे में लोगो की इस समस्या कुलदीप फागना से बात की तो उन्होंने बताया कि सिंचाई विभाग द्वारा इस रजवाहे की पिछले एक सप्ताह से सफाई की जा रही है जिसका लाभ आसपास रहने वाले लोगो को मिलेगा उन्होंने कहा की स्थानीय निवासियों को कोई परेशानी नहीं होने दी जाएगी इसलिए वह भी विशेष ध्यान रखेंगे।
    उत्तरप्रदेश सिंचाई विभाग के कैनाल पटवारी विनोद कुमार ने बताया कि इस रजवाहे का मुख्य उद्देश्य किसानो को सिंचाई के लिए पानी पहुँचाना है लेकिन आसपास के रहने वाले लोगो द्वारा न केवल रजवाहे के किनारे पर अतिक्रमण किया गया है बल्कि इसमें गंदगी भी डाली जा रही है उन्होंने कहा जल्द ही इन पर क़ानूनी कार्यवाही की जाएगी। लोगो की किनारे लगे पोधो के तोड़े जाने के जवाब में उन्होंने बताया कि रजवाहे के तल या किनारे पर पौधे लगा ासदपास मिटटी डाल जगह को उपयोग में लेने के प्रयास किये जाते है इसे हरगिज बर्दास्त नहीं किया जायेगा।

    पलवल से ऋषि भारद्वाज की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.