Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या को राममय बनाने के लिए सात प्रमुख स्थानों पर लगाई जाएगी श्री राम के जीवन से जुड़ी प्रतिमाएं

    अयोध्या को राममय बनाने के लिए सात प्रमुख स्थानों पर लगाई जाएगी श्री राम के जीवन से जुड़ी प्रतिमाएं

    अयोध्या।
    अब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन नगरी अयोध्या में हर तरफ राममय दिखाई देगी। जिसके लिए तैयारियां जोर-शोर से चल रही है । अयोध्या में एयरपोर्ट , फोर लेन, सिक्स लेन मार्ग,  नई अयोध्या  बनाने, का स्वरूप , अयोध्या को अपने मूल रूप में स्थापित करके  विश्व के मानचित्र पर  प्रदर्शित करने की योजना  प्रदेश की योगी सरकार द्वारा चल रही है। जो पूरी तरह से फलीभूत हो रही है सबसे पहले प्रदेश की योगी सरकार  द्वारा दीपोत्सव से शुरू हुआ कार्यक्रम,  भगवान राम के जन्म भूमि पर मंदिर बनने,  और अब अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण किए जाने के साथ ही नगर के सात स्थानों पर भगवान श्री राम के विभिन्न स्वरूप में प्रतिमा लगाए जाने की योजना है। जिसके लिए अयोध्या के विकास प्राधिकरण ने शासन को 1 करोड़ 67 लाख का प्रस्ताव भी भेज दिया है।

     उत्तर प्रदेश योगी सरकार द्वारा अयोध्या में विश्व की सबसे ऊंची भगवान श्री राम की प्रतिमा लगाए जाने की योजना है जो कि काफी समय से लंबित है। अयोध्या में आने वाले लोगों को स्थान स्थान पर भगवान श्री राम के भव्य दर्शन हो इसके लिए नगर के सात  प्रमुख स्थानों पर भगवान श्री राम के अकादमिक स्वरूप की प्रतिमा लगाए जाने की योजना तैयार की है। यह सभी मूर्ति कांस्य की होगी।

    जिनकी आयु करीब एक हजार वर्ष होगी। जिसके तहत सरयू के पावनतट यानी राम की पैड़ी पर 12 फीट की हनुमान व आठ फीट की बाल रूप राम की मूर्ति, रेलवे पुल के पास 12 फीट की धनुषधारी भगवान राम की मूर्ति, नयाघाट पर राम, लक्ष्मण व सीता की आठ-आठ फीट की तीन मूर्ति, गुप्तारघाट पर आठ-आठ फीट की राम, भरत व शत्रुहन की तीन मूर्ति, रामघाट पर 12 फीट की राजाराम की मूर्ति, राम की पैड़ी पर 12 फीट की हनुमान की 8 फीट की रामलला की मूर्ति लगाई जानी है। इसके लिए अयोध्या विकास प्राधिकरण ने प्रस्ताव तैयार करके शासन को भेज दिया है।

          अयोध्या विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के मुताबिक अयोध्या में सात प्रमुख स्थानों पर मूर्ति लगाए जाने के लिए 1 करोड़ 67 लाख की योजना का प्रस्ताव शासन को प्रेषित कर दिया गया है। स्वीकृति मिलते ही इस योजना  पर कार्य शुरू कर दिया जाएगा।

     सात प्रमुख स्थानों पर प्रतिमा लगाए जाने के बाद अन्य स्थानों पर भी विभिन्न प्रकार की योजनाओं के तहत सौंदर्यीकरण व सुविधाजनक योजना बनाई जाएगी। जिससे आने वाले पर्यटकों को किसी भी प्रकार से असुविधा ना हो कम समय में अधिक से अधिक स्थानों पर दर्शन कराया जा सके। इसके लिए विशेष वाहन भी चलाया जाएगा।

      शासन जिस पर मेहरबान हो वह कार्य पूरा क्यों नहीं होगा। अयोध्या में अब बड़े पैमाने पर रामलीला का मंचन भी होगा। दीपोत्सव भी होगा। राम मंदिर के निर्माण के लिए मानचित्र विकास प्राधिकरण में प्रस्तुत कर दिया गया है। जो शीघ्र ही पास होकर मंदिर निर्माण शुरू हो जाएगा। जो एक ऐतिहासिक धार्मिक और पौराणिक कार्य है। पर्यटक की दृष्टि से भी अयोध्या का महत्व बढ़ता जा रहा है देश विदेश के श्रद्धालु अयोध्या आकर दर्शन करेंगे, सरयू में स्नान करेंगे और अयोध्या नगरी का नजारा देखेंगे। ऐसे कार्य की जितनी सराहना की जाए, वह कम है।


    देव बक्श वर्मा 
    आई एन ए न्यूज़  
    अयोध्या उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.