Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या: वाणिज्य कर विभाग में बिना रजिस्ट्रेशन ही चल रही आढ़तियों की दुकानें

    अयोध्या: वाणिज्य कर विभाग में बिना रजिस्ट्रेशन ही चल रही आढ़तियों की दुकानें

    (आढ़ती से रसीद मांगो तो होता है विवाद, बिना रजिस्ट्रेशन दुकानों का चलना, यह भी है अपवाद)

    अयोध्या. किसानों की गाढ़ी कमाई  को आढ़ती,मंडी वाले  या अन्य सब्जी के थोक व्यापार करने वाले  किसानों से  सस्ते भाव में ले लेते हैं  किंतु जब  ग्रामीण पुनः उसी को खरीदने  आढ़ती के पास जाता है  तो उसे उसके कई गुना महंगे भाव में  आढ़ती देते हैं!   और यदि    ग्राहक  रसीद मांगता है  तो उसके ऊपर  धौश दिखाते हैं  और रसीद नहीं देते हैं  यह मामला किसी एक जगह का नहीं है  जहां देखो वहीं पर यह बात  सामने आ ही जाती है  कुछ ही आढ़ती ऐसे हैं  जिनका  वाणिज्य विभाग में रजिस्ट्रेशन है वह भी रसीद मांगने के बाद बड़ी मुश्किल से देते हैं.

    अयोध्या जनपद के कुमारगंज थाना क्षेत्र स्थित कुमारगंज कस्बे मे वाणिज्य कर विभाग में बिना रजिस्ट्रेशन के दर्जनों आढ़तियों द्वारा क्षेत्र के भोले-भाले ग्रामीणों को सरे आम ठगे जाने का सिलसिला जारी है। ग्रामीणों ने आढ़तियों  की करतूतों से थक हार कर वाणिज्य कर विभाग के अधिकारियों से शिकायत कर कार्यवाही की मांग की है।

    अयोध्या जनपद  मैं प्रमुख बाजार कुमारगंज में आलू एवं प्याज के व्यापारियों ने दर्जनों की संख्या में अपनी आढ़तें खोल रखी है। उक्त व्यापारियों द्वारा विगत कई वर्षों से आलू एवं प्याज का व्यापार बिना वाणिज्य कर विभाग में रजिस्ट्रेशन कराए अनाधिकृत रूप से किया जा रहा है  व्यापारियों द्वारा क्षेत्र के भोले-भाले ग्रामीणों को आलू एवं प्याज की खरीद पर न तो आदत से संबंधित कोई रसीद ही दी जाती है और न ही उन्हें कोई खरीद का प्रमाण पत्र ही।

    कुमारगंज बाजार में साप्ताहिक बाजार के दिन उस वक्त हंगामा हो गया जब तेंधा निवासी  अपने मित्र  के साथ आलू और प्याज खरीदने पहुंचे। उन्होंने  एक आढ़ती की दुकान से आलू एवं प्याज खरीदा जब दोनों लोगों ने आढ़ती से रसीद मांगा तो वह आपे से बाहर हो गया दोनों में काफी विवाद हो गया  बाता कहानी के दौरान आरती ने  कहा कि जहां शिकायत करना हो कर दो हम लोग कई वर्षों से दुकान चलाते चले आ रहे हैं।आज तक किसी भी व्यक्ति ने रसीद और पर्ची नहीं मांगा आप कौन हो तो रसीद और प्रति मांगने वाले। इसी बात को लेकर व्यापारी और ग्रामीण में काफी देर तक  तू तू मैं मैं होती रही भारी संख्या में मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने आक्रोशित एवं उग्र ग्रामीणों को समझा-बुझाकर मामला शांत कराया। नाराज ग्रामीणों ने इसकी शिकायत अयोध्या जनपद के  वाणिज्य कर आयुक्त से करते हुए  सरकार को लाखों की चपत लगा रहे अबैध आरोपियों के खिलाफ तत्काल कार्यवाही की मांग की है। यह बात सही है कि आरती जब व्यापार कर रहे हैं तो वाणिज्य कर विभाग में उन्हें अपना रजिस्ट्रेशन करा कर रसीद ग्राहकों को देना ही चाहिए!

    देव बक्श वर्मा
    आई एन ए न्यूज़ अयोध्या - उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.