Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    प्रदेश के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा गोमती उद्भव स्थल

    प्रदेश के पर्यटन स्थल के रूप में विकसित होगा गोमती उद्भव स्थल

    लखनऊ/राज्य मुख्यालय।
    प्रदेश के जनपद पीलीभीत के  माधव टांडा क्षेत्र के पास स्थित गोमती नदी के उद्भव स्थल का को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा। इस क्रम में पीलीभीत के जिला प्रशासन ने कवायद शुरू कर दी है।
    इस मुहिम को अंजाम देने के लिये बुधवार को गोमती उद्गम तीर्थ स्थल पर जिला अधिकारी पीलीभीत पुलकित खरे  निरीक्षण करने के लिए पहुंचे। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से गोमती नदी की वास्तविक स्थिति के बारे में जाना और स्थानीय लोगों से गोमती उद्गम की जानकारी ली। प्राकृतिक सौंदर्य एवं पौराणिक नदी का उद्गम  स्थल होने के कारण पर्यटन के रूप में विकसित करने की योजना पर विचार-विमर्श किया। उन्होंने वहां पर मौजूद संबंधित विभागीय अधिकारियों से एवं ट्रस्ट के पदाधिकारी एवं सदस्यों से गोमती नदी उद्गम स्थल के बारे में जानकारी हासिल की। उद्गम तीर्थ स्थल से बहने वाली नदी के स्वरूप को किस तरह से विकसित किया जा सकता है, इसके लिए जनपद सीमा में नदी के बहाव क्षेत्र का मैप संबंधित अधिकारियों से तलब किया। नदी के बहाव क्षेत्र जहां कहीं भी  अतिक्रमण है, उसको हटावने के लिए भी कहा।
    -------------------

    फोटो- डीएम पुलकित खरे को
    'शब्द सत्ता' की प्रति भेंट करते
    कुवँर निर्भय सिंह(आईएनए)


    स्वयंसेवी संस्थाएं भी करेंगी सहयोग

     डीएम ने कहा कि गोमती स्थल बहुत पवित्र स्थल है इसलिए हम सब यह जिम्मेदारी बनती है संबंधित विभागों से और स्थानीय लोगों एवं अन्य स्वयंसेवी संस्थाओं से सहयोग लेकर नदी के वास्तविक स्वरूप को प्रदान करने का प्रयास करेंगे। उद्गम तीर्थ स्थल पर पर्यटन की असीम संभावनाएं हैं पर्यटक अधिक से अधिक प्राकृतिक, धार्मिक और पौराणिक स्थल के बारे में जानकारी लेकर आनंदित हों और चूका पिकनिक स्पॉट पर जाने  से पहले एक रात गोमती उद्गम तीर्थ स्थल जरूर ठहरे व गोमती के वास्तविक सौंदर्य का आनंद उठाएं। 

    -------------

    पर्यटक स्थल के रूप में  विकसित करने का बना रोडमैप

    पीलीभीत के शारदा सागर के अधिशासी अभियंता हरिश्चंद्र यादव से डीएम पुलकित खरे ने पूछा कि गोमती नदी में पानी किस तरह से पहुंचेगा। मौके पर ही ड्राइंग दिखाकर समझाने की बात कही, जिस पर अधिशासी अभियंता ने सिंचाई विभाग से बने गोमती ड्रेन के बारे में बताया। स्थानीय लोगों ने कहा कि उसमे कस्बा का गंदा पानी जाता है। जिला अधिकारी ने कहा कस्बे का गंदा पानी कहीं और डाइवर्ट किया जाए और गोमती उद्गम स्थल के लिए स्वच्छ जल ही मिले, ऐसी रणनीति तैयार की जाए इसके लिए उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिशासी अभियंता को आदेशित भी किया। तीर्थ स्थल के तीनों सरोवरों  पर पथवे तैयार कराने की बात भी कही और झील के चारों ओर लाइटिंग को लगाकर उसकी सुंदरता बढ़ाये जाने की बात भी कही। सामाजिक वानिकी के  डीएफओ संजीव कुमार को भी आदेशित किया कि झील के किनारे बने हुए पार्क का सौंदर्यीकरण कराया जाए। मनरेगा के तहत झील में  मौजूद गंदगी की सफाई कराई जाए। गोमती के वास्तविक स्रोतों को भी ढूंढा जाए। इसके लिए भूगर्भ वैज्ञानिकों की सहायता ली जाएगी। गोमती उद्गम स्थल ट्रस्ट एवं उसकी संपत्ति के बारे में भी जानकारी ली। ट्रस्ट की भूमि का भी निरीक्षण किया। पंचवटी और मेला बाग का स्थलीय निरीक्षण भी किया।
    ----------------------

    गौशाला व कछुआ संरक्षण केंद्र भी बनेगा

     गोमती नदी के एक झील के किनारे गौशाला और दूसरी  झील के किनारे कछुआ संरक्षण केंद्र बनाए जाने की भी बात कही। उन्होंने कछुआ संरक्षण केंद्र के लिए गत वर्षो में जो सरकारी प्रयास किए गए उसकी फाइल संबंधित अधिकारियों से तलब की उद्गम तीर्थ स्थल पर बनी दो पेड़ों पर 14 फुट ऊंची ट्री हट को और विकसित करने की बात कही ट्री हट पर सैलानी जिससे रुक सके और ट्रस्ट की आमदनी भी बढे। डीएम ने उद्गम तीर्थ स्थल पर बने पौराणिक मंदिरों का निरीक्षण किया  और पूजा-अर्चना भी की। लगभग 2 घंटे उद्गम तीर्थ स्थल पर लगातार घूम घूम कर निरीक्षण कर संबंधित अधिकारियों और ट्रस्ट के संबंधित पदाधिकारी एवं सदस्यों से जानकारी लेते रहे। हर हाल में उद्गम तीर्थ स्थल विकसित हो और पर्यटन विभाग से जो भी विकास की योजनाएं प्रस्तावित हुई उनकी वास्तविक स्थिति मौजूदा समय में कैसी है इसकी जानकारी संबंधित अधिकारियों से लेने की बात की  बात भी कही। जिससे शीघ्र ही उनको स्वीकृत कराकर उद्गम उद्गम तीर्थ स्थल पर कार्य कराया जा सके। इस अवसर रामस्वरूप एसडीएम कलीनगर, राकेश कुमार मौर्य तहसीलदार कलीनगर, हरिश्चंद्र यादव अधिशासी अभियंता शारदा सागर, संजीव कुमार डीएफओ सामाजिक वानिकी, नीरज दुबे विकास खंड अधिकारी पूरनपुर, दीनदयाल कानूनगो तहसील कलीनगर, योगेश्वर सिंह प्रधान पति माधोटांडा, पूर्व प्रधान धनीराम कश्यप, निर्भय सिंह, फुलहर प्रधान लालाराम, महिपाल सिंह, पराग सिंह, विमलेश सिंह गोविंदा, आदि लोग मौजूद रहे
    --------------

    अवध की लाइफ लाइन आदि गंगा मां गोमती नदी से संबंधित लखनऊ से प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका शब्द सत्ता में प्रकाशित "मैं तुम्हारी गोमती" सीरीज की गोमती सेवा के लिए  पीलीभीत कलेक्ट्रेट क्राउन से नवाजे गए एवं शब्द सत्ता त्रैमासिक पत्रिका के बरेली मंडल के ब्यूरो चीफ माधोटांडा निवासी कुंवर निर्भय सिंह ने गोमती सीरीज की पत्रिकाएं डीएम पुलकित खरे को भेंट की। 

    अतुल कपूर
    यूपी हेड
    आईएनए न्यूज़ एजेंसी

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.