Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बदलते मौसम के खाँसी बुखार को कोविड 19 का संक्रमण समझ कर न घबरायें- एडवोकेट गुलिस्तां खाँन

    बदलते मौसम के खाँसी बुखार को कोविड 19 का संक्रमण समझ कर न घबरायें- एडवोकेट गुलिस्तां खाँन 

    शाहजहाँपुर.
    पिछले महीने 10 तारीख को कचहरी से आने के बाद हल्का बुखार महसूस हुआ। रात तक तेज बुखार व सर्दी सर दर्द बढ़ गया। घर‌ में मौजूद गिलोय, (गुर्च) कच्ची हल्दी,अदरक, दालचीनी, लौंग, सफेद इलायची, तुलसी पत्ती को उबाल कर काढ़ा बनाकर लगातार पिया साथ ही स्टीम और गर्म पानी लगातार लेती रही। अदरक को शहद के साथ लेती रही। अगले ही दिन काफी सुधार हुआ और तीन दिन में पूरी तरह स्वस्थ हो गई। डॉक्टर ने बताया साधारण वायरल था फिर भी सुरक्षा के तहत दस दिन तक घर में ही रही। ख़ुदा का शुक्र है पूरी तरह ठीक हूँ।
    मौसम बदल रहा है साधारण बुखार आम बात है वायरल भी हो सकता है‌।

    खांसी जुकाम बुखार होने पर दवा लें,आयुर्वेद के अनुसार या डॉक्टर की सलाह से। एसी में रहने से बचें। गिलोय आदि का सेवन काफी फायदेमंद है। इधर कई लोगों की Heart attack से मृत्यु हुई है उनमें काफी लोगों को साधारण खांसी बुखार की शिकायत थी। हर बुखार को कोविड 19 का संक्रमण समझ कर परेशान न हों। न ही घबराएं। आवश्यकता महसूस हो तो जांच अवश्य करवा लें। सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखें ।सुरक्षित रहें।
    नोट- निगोही में हमारे आवास पर गिलोय निशुल्क उपलब्ध है

    फ़ैयाज़ उद्दीन शाहजहाँपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.