Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    अयोध्या : श्रीराम मंदिर व श्रीराम एयरपोर्ट के विकास के साथ अयोध्या के दिन बहुरने वाले हैं

    अयोध्या : श्रीराम मंदिर व श्रीराम एयरपोर्ट के विकास के  साथ  अयोध्या के दिन बहुरने वाले हैं
     श्रीराम एयरपोर्ट से उड़ान भर सकेंगे दो सौ सीट वाले विमान
    अयोध्या।
     मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम की पावन नगरी अयोध्या  के चतुर्दिक विकास  की कड़ियां जुड़ती जा रही है। केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार, दोनों सरकारें इस प्रयास में हैं कि अयोध्या को अंतरराष्ट्रीय पटल पर स्थापित कर दिया जाए। जिसके लिए विकास की गंगा बहाई जा रही है।  एक तरफ भगवान श्रीराम के पावन  मंदिर  के निर्माण के सारे रास्ते साफ होकर  भूमि पूजन हो गया है।  अब बहुत जल्द ही मंदिर निर्माण  तेजी पकड़ लेगा। अयोध्या मे सरयू नदी के घाटों का सुंदरीकरण बड़ी तेजी के साथ चल रहा है। गुप्तार घाट, ऋण मोचन घाट, नया घाट आदि घाटों का सुंदरीकरण हो रहा है ।

    वहीं दूसरी तरफ श्रीराम एयरपोर्ट का रनवे बढ़ाने की तैयारी शुरू हो गई। जिस की गति तेजी से चल रही है ।और जल्द ही श्री राम एयरपोर्ट को नजदीक और दूरी के लिए उड़ान भरने की व्यवस्था किया जा रहा है। अब तक फैजाबाद हवाई अड्डा मात्र कहने के लिए ही था। बाहर से आने वाले छोटी जहाजे वह हेलीकॉप्टर ही उतर पाते थे। जिस कारण अयोध्या नगर वासियों को तथा बाहर से अयोध्या आने वाले लोगों व  श्रद्धालुओं को कठिनाई का सामना करना पड़ता था। यद्यपि अयोध्या सड़क मार्ग, रेल मार्ग, वायु मार्ग से जुड़ा है। जल मार्ग, से अभी तक नहीं जुड़ पाया है। जल्द ही वायु मार्ग श्री राम एयरपोर्ट जब कार्य करना शुरू कर देगा तो देश विदेश के लोग आसानी से हवाई मार्ग से अयोध्या आ सकेंगे। जिसके लिए पूरा प्रयास किया जा रहा है।
     श्रीराम एयरपोर्ट से 180 से लेकर 200 सीट तक वाले विमान उड़ान भर सकेंगे। लंबी उड़ान के वायुयानों के लिए भी एयरपोर्ट अथॉरिटी रनवे तैयार करेगा। करीब 601 एकड़ भूमि की जरूरत इसके लिए होगी। पहले से एयरपोर्ट के विकास के लिए प्रस्तावित 263 एकड़ भूमि भी इसमें शामिल है। लगभग दो सौ एकड़ भूमि खरीदी जा चुकी है। खरीदी गई दो सौ एकड़ भूमि के अलावा उसमें से बची 63 एकड़ को शामिल करने पर लगभग चार सौ एकड़ भूमि और खरीदी जाएगी।

         शासन के पत्र के बाद जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने एसडीएम सदर ज्योति सिंह व विशेष भूमि अध्याप्ति अधिकारी जेपी सिंह के साथ  बैठक की। बैठक में तहसीलदार, राजस्व निरीक्षक व लेखपाल तक शामिल रहे। अगले सप्ताह भूमि क्रय समिति की बैठक बुलाए जाने की संभावना है। उसी के बाद प्रस्तावित भूमि का ब्योरा शासन भेजा जाएगा। एसडीएम सदर ने बताया कि एयरपोर्ट के लिए भूमि खरीदने की प्रक्रिया पहले से शुरू है, जो भी निर्देश होगा,अनुपालन कराएंगे।
           सूत्रों के अनुसार 0.48 मिलियन यात्री प्रति वर्ष (एमपीपीए) घरेलू यातायात का आकलन एयरपोर्ट अथॉरिटी का पहले रहा। भविष्य में रामनगरी में यात्रियों की संभावित वृद्धि के लिहाज से प्रदेश सरकार ने भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण से बड़े वायुयानों की उड़ान के लिए एयरपोर्ट को विकसित करने का अनुरोध किया है। शासन का पत्र एयरपोर्ट के वास्ते और जमीन लेने के लिए आया है। प्रस्तावित भूमि हवाई पट्टी के तीन किमी के दायरे में ली जानी है। इसमें 15 एकड़ भूमि परिचालन व सुरक्षा कर्मियों की आवासीय व्यवस्था के लिए होगी। प्रस्तावित भूमि दो चरणों में ली जाएगी। पहले चरण में ए 321 प्रकार के विमानों के संचालन व अन्य प्रावधानों के लिए 463.10 एकड़ भूमि की आवश्यकता होगी। दूसरे चरण में बी 777-300 प्रकार के विमानों के संचालन के लिए 122.87 एकड़ की जरूरत होगी। प्रदेश सरकार पहले ही करीब सवा पांच अरब रुपये भूमि खरीदने के लिए जिला प्रशासन को उपलब्ध करा चुकी है। जनौरा, गंजा व धर्मपुर सआदत के किसानों से सहमति के आधार पर खरीदी जा रही है। ऐसे में अब अयोध्या के दिन बहुर ने वाले हैं ।


       देव बक्श वर्मा
       आई एन ए न्यूज़ 
    अयोध्या उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.