Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    सार्वजनिक शौचालय एवं पंचायत भवन का निर्माण कराएं

    सार्वजनिक शौचालय एवं पंचायत भवन  का निर्माण कराएं
     निर्माण कार्यों पर लगे बंदिशों से तिलमिलाए ग्राम प्रधान
    अयोध्या।
    ग्राम पंचायतों का कार्यकाल इसी वर्ष 2020 में पूरा हो रहा है।और अभी चुनाव होता  दिखाई नहीं पड़ रहा है। क्योंकि कोई तैयारी ही नहीं हुई है। ऐसे में या तो प्रशासक नियुक्त किए जाएं या प्रधानों के कार्यकाल बढ़ाई जाए। कोरोना संक्रमण के चलते बेरोजगारों को रोजगार के लिए मुख्य विकास अधिकारी द्वारा ग्राम पंचायतों में सार्वजनिक शौचालय एवं पंचायत भवन बनवाने के जो फरमान जारी किए गए हैं। उससे अन्य कार्य रुकते दिखाई पड़ रहे हैं। जबकि प्रधान लोग अपने मंशा के अनुरूप कार्य कराना चाहते हैं। सबसे बड़ा सवाल है ग्राम प्रधानों द्वारा 5 साल में ग्राम पंचायतों का विकास नहीं करा सकते हैं  तो 3 महीने में कौन सा विकास करेंगे। अयोध्या जनपद में ग्राम पंचायतों पर  लगी बंदिशों से ग्राम प्रधान तिलमिला उठे हैं। उनका कहना है कि ग्राम पंचायत निर्वाचित संस्था है। दो लाख रुपये तक निर्माण कार्य स्वीकृत करने का अधिकार है। फिर उनके क्षेत्राधिकार पर अतिक्रमण कर निर्माण कार्यों पर प्रतिबंध क्यों लगाया गया।

    मुख्य विकास अधिकारी प्रथमेश कुमार का एक आदेश 15 अगस्त है। यह आदेश पंचायत सचिव से संबोधित है। आदेश में स्पष्ट है कि सबसे पहले ग्राम पंचायतों को 14वें वित्त की व राज्य वित्त की अवशेष धनराशि  एवं 15 वे वित्त व पंचम राज वित्त की धनराशि सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवन के निर्माण पर खर्च करनी होगी। इसके बाद धनराशि अध्यक्ष कार्य के लिए खर्च होगी।उल्लंघन करने पर पंचायत सचिव के खिलाफ कार्रवाई प्रस्तावित की जाएगी।

    मुख्य विकास अधिकारी का यही आदेश ग्राम प्रधानों को रास नहीं आ रहा है। उनका कहना है यह सरासर ज्यादती है। खराब हैंडपंप की मरम्मत कराने की जिम्मेदारी ग्राम पंचायत की है।चुनावी वर्ष है, हैंडपंप खराब होने पर मरम्मत न कराने पर गांव के लोग नाराज होने से उनका चुनाव प्रभावित होगा। यही नहीं कायाकल्प योजना में सरकारी भवनों की जो मरम्मत रंगाई पुताई कराई गई थी,उसमें से कई ग्राम प्रधान अभी तक भुगतान नहीं कर पाए। जिस वेबसाइट प्रिया साफ्ट से भुगतान करना था, वह दो-तीन महीने से बंद रही। भुगतान की नौबत आई तो नई वेबसाइट ई- स्वराज आ गई।उसके बाद सीडीओ का नया फरमान सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवन में धनराशि खर्च करने का आ गया।
    वहीं पंचायत सचिव का कहना है की मनमानी खर्च करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई हो जाएगी। ग्राम प्रधान सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवन निर्माण को लेकर उत्साहित नहीं है। चंद महीने बाद होने वाले पंचायत चुनाव के हिसाब से वे ग्राम पंचायतों में निर्माण कार्य कराना चाहते हैं। अधिकारी चाहते हैं कि पहले सामुदायिक शौचालय व पंचायत भवन का निर्माण पूरा हो जाए जिससे जॉब कार्ड धारकों का प्रवासी मजदूरों को रोजगार ग्राम पंचायतों में उपलब्ध कराया जा सके।

       देव बक्श वर्मा 
       आई एन ए न्यूज़
     अयोध्या उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.