Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    संस्कार के लिए संवाद जरुरी है- मनोज जैन

    संस्कार के लिए संवाद जरुरी है- मनोज जैन

    आगरा.
    ब्राह्मण प्रोफेशनल एसोसिएशन ने "रोड मैप फॉर ब्राह्मण प्रोफेशनल्स इन दा नेक्स्ट 10 यीअर्स " के तहत दूसरा वेबिनर " आज के समय में संस्कार, महत्व और भविष्य पर प्रभाव" आयोजित किया. इस में मुख्य वक्ता  आगरा के जानेमाने सामाजिक नेता और भारतीय जैन संगठन के राष्ट्रीय कार्यकारी समिति के सदस्य एवं उत्तर प्रदेश के संयोजक मनोज जैन थे.

    मनोज जैन ने कहा के हम भारतीयों के खून में संस्कार होते है. पुराने समय में संयुक्त परिवार होते थे और बच्चे, पैदा होते ही संस्कार सीखते थे और कॉलेज में आते आते संस्कार जीवन का अंग हो जाते थे.

    परिवर्तन सब जगह हो रहा है. समाज में भी बहुत तेजी से  हो रहा है. आज एकल परिवार हो गए हैं,टेक्नोलॉजी का भी महत्व जीवन में बढ़ गया है. सब अपने अपने में व्यस्त रहेते हैं. जो एक समस्या है और चुनौती भी है. समाज के लीडर्स को समय के साथ और अनुरूप अच्छे संस्कार देने पड़ेंगे. आज कहानी सुनाने वाले दादा दादी,नाना नानी,संयुक्त परिवार कि रसोई, ड्राइंग रूम आदि नहीं हैं. इसलिए संवाद की कमी आई है. बच्चे माँ बाप से, माँ बाप बच्चों से संवाद नहीं करते. संवाद विहीन परिवार समस्या आने पर डिप्रेशन, दिशा विहीन और आत्महत्या तक कर लेते है. समाज को एक नया माहौल बना कर आगे आने वाली पीढी को संस्कार देने होंगे. संस्कारी पीढी अपना और देश को प्रगति की रहा पर अग्रसर करेगी.

    इन सब का गहन अध्ययन करने के बाद बीजेएस ने 13 से 21 साल के बच्चों के लिए विभिन्न प्रोग्राम बनाये है. इन का संचालन पूरे देश में हो रहा है. जैसे "स्मार्ट गर्ल" , बच्चों में करियर पर काउंसलिंग, दोस्तों को पहचान  और शादी के लिए नए अंदाज़ में परिचय सम्मेलन आदि  भी शामिल है. प्रशिक्षित ट्रेनर, ट्रेनिंग देकर युवाओं को प्रशिक्षित कर रहे है. साथ ही माँ बाप को भी ट्रेनिंग दी जाती है.

    ब्राह्मण प्रोफेशनल एसोसिएशन कि अध्यक्षा डॉ मधु भारद्वाज ने कहा के “हम सब को मिलकर संस्कारी समाज बनाने में योगदान देना चाहिए. आज के वेबिनर में श्री मनोज जैन ने कई पहलुओं पर चर्चा की. जो युवाओं को अपने प्रोफेशनल लाइफ में काफी मदद गार होगी. हम इस सीख को ब्राह्मण समाज में ले कर जायेंगे.

    सचिव- डॉ पंकज नगायीच ने कहा के बदलते भारतीय परिवेश में हम को नए नए ट्रेनिंग प्रोग्राम बनाने होंगे. माँ बाप को भी आगे आ कर सहयोग करना होगा. आज कैरियर के नए आयाम हैं, हम स्थापित ब्राह्मण प्रोफेशनल्स की मदद से कैरियर काउंसिलिंग जल्दी ही शुरू करेंगे.


    सह सचिव- अनिल शर्मा ने कहा के हम को भारत और विदेश में हो रही प्रगति को ध्यान रखते हुए सब से पहले आगरा में ट्रेनिंग शुरू करनी होगी. हम को बीजेएस से मद्द ले कर अपने ट्रेनर तैयार करने परेशानी नहीं है. हम समग्र समाज का विकास चाहते हैं. कर्म से भी समाज में ब्राह्मण हैं जो ज्ञान बाट रहे हैं.

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.