Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    पद्मविभूषण गुलाम मुस्तफा खान की सरज़मी से उभरता हुआ एक और सितारा

    पद्मविभूषण गुलाम मुस्तफा खान की सरज़मी से उभरता हुआ एक और सितारा

    बदायूं.
    मशहूर गीतकार स्व. शकील बदायूँ जी के शहर बदायूँ के जलंधरी सराय मोहल्ले से अब एक और लाल, बतौर संगीतकार अबु बक़र खान, चित्रपट उद्योग मुम्बई में अपनी छाप छोड़ रहें । हाल ही में ख़ान के संगीत निर्देशन में गाना " बनजारी..." प्रसारित हुआ, जिसमें आवाज, शहज़ाद अली डागा ने दी हैं, वहीं अभिनय टिकटॉक स्टार फ़ैज बलोच ने किया हैं । ख़ान ने  संवाददाता से बातचीत में बताया कि "बनजारी..." गाने को चंद ही घंटो में 1.5 मिलियन से अधिक  व्यूज़ मिलना, मेरे लिऐ बहुत खुशी की बात हैं, जिसके लिए श्रोताओं का धन्यवाद व्यक्त किया ।

         मेडिकल विज्ञान के विद्यार्थी रहे, ख़ान बचपन से ही संगीतकार बनना चाहते थे, इस हुनर की पहचान बड़े भाई अबुज़र तब्दील ने करते हुऐ, साल 2013 में मुम्बई की मशहूर फिल्म ऐकेडमी में एडमिशन दिलबा दिया ।
    ख़ान को नब्बे के दशक के मशहूर संगीतकार पंडित जतिन-ललित जी के सानिध्य में भी काम करने का अवसर प्राप्त किया । जिनके गाने नब्बे के दशक में अत्यधिक लोकप्रिय बा करणप्रिय रहे हैं  | इस सफलता का श्रेय अपने पिता श्री तबदील अहमद ख़ान साहब जी को देते हुऐ कहा कि मैं, खुशनसीब हूँ कि मुझे ऐसे माता-पिता मिले, जिन्होंने मुझे हर परिस्थिति में संभाला हैं । फिलहाल बतौर संगीत निर्देशक अबु बक़र बदायूँ, दो बड़ी फिल्मों में अपनी धुनों पर काम को लेकर व्यस्त हैं जो जल्द ही बड़े पर्दे पर प्रसारित होने वाली हैं ।

    सालिम रियाज़ 
    आई एन ए न्यूज़, ब्यूरो-बदायूं उत्तर प्रदेश

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.