Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    थानगांव इलाके में बेखौफ लकड़कट्टों का लगातार बढ़ रहा कहर

    थानगांव इलाके में बेखौफ लकड़कट्टों का लगातार बढ़ रहा कहर

    सीतापुर.
    जनपद में पुलिस अधीक्षक के बदलते ही थानगांव थाना इलाके में बेखौफ लकड़कट्टों का कहर बढ़ने लगा है।  पुलिस एवं वन विभाग के जिम्मेदारों व लकड़कट्टों की बेखौफ तिकड़ी जोड़ी इलाके को पेड़ विहीन करने पर तुली हुई है ।क्षेत्र में प्रतिबंधित पेड़ों का कटान चरम सीमा पर है ।ऐसी चर्चाएं हैं कि संबंधित जिम्मेदार अधिकारी अवैध मोटी कमाई के लालच में बिना परमिट हरे-भरे प्रतिबंधित पेड़ों पर आरा चलाये जाने की खुली छूट दे रखे हैं।

     थानगांव थाना क्षेत्र में शुक्रवार की रात्रि में ग्राम पंचायत शंकरपुर झिसनी मजरे झिसनी निवासी सर्वेश पुत्र रामधन के आम के दो पेड़ राम लखन पुत्र जोकधर  का एक पेड़
    विनोद पुत्र सांवले प्रसाद का एक पेड़ बिना परमिट अलग-अलग स्थानों से मनबढ़ लकड़ी ठेकेदार काट कर मौके से लकड़ी भी उठा ले गए । इस संबंध में बिसवां रेंजर अभय कुमार मल्ल ने बताया कि कोई परमिट जारी नहीं हुआ है बिना परमिट की लकड़ी काटी गई है जिसकी जांच कराकर उचित कार्रवाई की जाएगी ।सवाल यह उठता है कि क्षेत्र में आये दिन हो रहे प्रतिबंधित पेड़ों का धुंआधार कटान हो रहा है और संबंधित अधिकारियों को कानोकान खबर नहीं हो पा रही है ऐसा असंभव है ।
    यहां पर रोचक तथ्य यह है कि कोरोना काल के चलते दिन के साथ ही मुख्य मार्गों सहित लिंक मार्गों एवं गाँव गलियारों तक में पुलिस की गस्त रात में भी जारी रहती और गाँव-गाँव पुलिस की ड्यूटी रहती है | फिर यह कैसे संभव है कि रातों-रात हरे भरे पेड़ कट कर मंडी पहुंच जाते हैं और पुलिस को कानो-कान खबर नहीं हो पाती है | शिकायत मिलने पर वन विभाग या पुलिस का रटा-रटाया जबाव होता है कि ऐसा कैसे हो गया देखो जाँच करवाते हैं | प्रतिवर्ष सरकार अरबों रुपए वृक्षारोपण के नाम पर खर्च कराकर जगह-जगह वृक्षारोपण करवाती है, परन्तु इससे क्या लाभ होने वाला है | जब सरकार के अधीनस्थ कर्मचारियों द्वारा ही चंद रुपयों के लालच में खुलेआम हरे पेड़ों पर आरा कुल्हाड़ी चल रही है |

            शरद कपूर
               सीतापुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.