Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    बिसबाँ क्षेत्र में सूखी पड़ी नहर व रजबहे, सैकड़ों गाँवों के किसान हो रहे हैं प्रभावित

    बिसबाँ क्षेत्र में सूखी पड़ी नहर व रजबहे, सैकड़ों गाँवों के किसान हो रहे हैं प्रभावित

    सीतापुर.
    बिसवां सीतापुर  नहर विभाग की मनमानी के चलते अन्नदाता किसान पश्त तो होता जा रहा है । एक तरफ कोरोना का भय वहीं दूसरी तरफ वैश्विक संक्रमण की आड़ लेकर नहर विभाग के कारिंदे किसानों पर अलग ही कहर ढा रहे हैं ।क्योटी बादुल्ला , बिसेडा , बेनीपुर जाफराबाद ,राजाडीह , महमूदपुर , मिर्जापुर, काकरहा, सरैया, पैंदापुर , राजेकरनाई ,जैसे सैकड़ो इन गांवों में मानपुर नहर से निकला हैबतपुर रजबहा में पूर्व में छोड़े जा रहे पानी से किसानों को भरपूर पानी मुहैया हो पा रहा था। वर्तमान समय में केंद्र एवं राज्य सरकार जहां किसानों की दुर्दशा को उबारने के लिए फसल बीमा योजना , किसान सम्मान निधि जैसी जन महत्वाकांक्षी योजनाएं लांच कर किसानों की आमदनी को बढ़ाने का भरसक प्रयास कर रही हैं । वही नहर विभाग के नामुराद अधिकारी किसानों की बदहाल स्थिति को उबारने में बाधा खड़ी किए हुए हैं । गौरतलब हो कि मानपुर होकर निकली नहर से निकले हैबतपुर रजबहा में आवश्यकतानुसार पानी ना आने से किसानों को पंपिंग सेट एवं अन्य माध्यमों से खेतों में पानी की व्यवस्था करनी पड़ रही है । जिससे किसान महंगे दामों पर डीजल क्रय करने पर विवश हो रहा है । जिससे किसानों की भविष्य में दुर्दशा क्षेत्र में तय देखने को मिल रही है ।

    आपको बता दें प्रत्येक वर्ष हैबतपुर के इस राजबहे को साफ सफाई कराने के नाम पर विभाग करोड़ों रुपए आहरित करता रहा है उसके बावजूद भी किसानों के खेत तक पानी नहीं पहुंच रहा है। दूसरा अहम पहलू यह भी है की इस समय इस रजबहे में कभी कभार छोड़े जाने वाला पानी सिर्फ दिखावे के रूप में देखने को मिलता है । इतना सब करने के बाद भी किसानों को उसका कोई लाभ मिलता हुआ नजर नहीं आ रहा है ।वंही जगह जगह अवैध रूप से कटा हुआ रजबहा व जगह जगह अवैध रूप से डाले गए कुलाबा से किसानों की दिक्कतों में उक्त समस्या में चार चांद लगा रही है । किसानों की माने तो रुकनापुर से ही इस रजबहे को अवैध तरीके से बांध दिया जाता है । जिस पर इस कृत्य पर नहर विभाग के किसी भी कर्मचारी की नजर नहीं पड़ती। क्षेत्रीय लोगों की माने तो हजारों शिकायतें जिम्मेदारों को करने के बाद भी नहर विभाग अपनी कार्यप्रणाली में किसी भी तरह का बदलाव देखने को नहीं मिल रहा है । जिससे अन्नदाता के हकों पर नहर विभाग के कारिंदे कुंडली मार बैठे हैं। किसान निरंतर अपनी व्यथा को स्थानीय प्रशासन से लेकर जिला प्रशासन तक पहुंचाता रहा है उसके बावजूद भी किसानों को पानी नहीं मिल पा रहा है । वर्तमान समय में धान की रोपाई सिंचाई जैसे अहम कार्यों के लिए निजी साधनों का ही सहारा लेना पड़ रहा है । हैबतपुर रजबहे से जुड़े सैकड़ों गांव के किसानों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि उक्त रजबहे में भरपूर पानी दिया जाए अवैध तरीके से कटिंग करने व कुलाबा डालने वालों पर सख्त कार्यवाही की जाय ।

         शरद कपूर / आलोक अवस्थी
               सीतापुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.