Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    गोरखपुर के डॉ. कफील खान ने जेल से लिखे लेटर में कहा 'जानवरों से बदतर है यहाँ जिंदगी'


    गोरखपुर के डॉ. कफील खान ने जेल से लिखे लेटर में कहा 'जानवरों से बदतर है यहाँ जिंदगी'


    गोरखपुर।  गोरखपुर के डॉ. कफील खान जो कि पेशे से एक बाल रोग विशेषज्ञ हैं परन्तु इनका नाम एक बाल रोग विशेषज्ञ के रूप में तो बहुत कम ही लोग जानते होंगे लेकिन ये अपने भड़काऊ भाषणों के लिए ही ज्यादा जाने जाते हैं। और अपने इन्हीं अवगुणों की सजा ये आगरा जेल में भुगत रहे हैं।

    बीआरडी मेडिकल कॉलेज गोरखपुर ऑक्सीजन कांड में दोषी पाए जाने के बाद CAA के खिलाफ अपने भड़काऊ भाषणों तथा कन्हैया कुमार के चुनाव प्रचार में शामिल होकर डॉ. खान सुर्खियों में आये थे। ट्विटर पर लगातार सरकार विरोधी और भड़काऊ बयानों से भी डॉo खान चर्चित हुए।

    अब यूपी की मथुरा जेल में पिछले 5 महीने से बंद डॉ. कफील खान ने लेटर लिखें हैं. उन लेटर्स में कफील ने जेल की हालत का जिक्र किया है.

    उन्होंने लिखा है कि-

    "हर बरैक में 125 से 150 लोग हैं और सिर्फ 4-5 ही टॉयलेट हैं तो जाहिर तौर पर सभी को लाइन लगानी पड़ती है, अब मेरे पेट में दर्द होने लगा है और जब मैं टॉयलेट में होता हूं तो वहां मच्छर हैं और ये बहुत बदबूदार है जिससे कई बार मुझे उल्टी हुई, इसके बाद नहाने के लिए अलग लाइन लगती है, खाने में पानी जैसी दाल उबली हुई सब्जी ज्यादातर गोभी, पत्ता गोभी और साथ में मूली होती है, मैं जिंदा रहने के लिए उसे पानी से निगल लेता हूं. लॉकडाउन के चलते अब हम अपने परिवार से भी नहीं मिल सकते कई बार मैं फलों से और बाकी खाने से अपनी भूख मिटाता था जब भी वो आते थे साथ लाते थे"

    बता दें कि दिसंबर 2019 में CAA के खिलाफ कथित भड़काऊ बयान को लेकर डॉ. खान को 29 जनवरी 2020 को गिरफ्तार किया गया. 4 दिन बाद बेल पर बाहर आए डॉ. खान पर 14 फरवरी को NSA के तहत मामला दर्ज किया गया, उन पर लगे चार्जेज को 12 मई से और 3 महीने आगे बढ़ा दिया गया.

        संजय राजपूत
       रीजनल एडिटर
    INA News गोरखपुर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.