Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    प्रदेश के अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने की बरेली मंडल में कोविड-19 से बचाव के कार्यो की समीक्षा

    प्रदेश के अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने की बरेली मंडल में कोविड-19 से बचाव के कार्यो की समीक्षा 
                  
    बरेली।
    प्रदेश के अवस्थापना एवं औद्योगिक विकास आयुक्त आलोक टंडन तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अमित मोहन प्रसाद ने आज बरेली मंडल में कोविड-19 से बचाव के लिए किए जा रहे कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि कोविड के मरीज़ों को लाने ले जाने तथा उनके इलाज के प्रबंधन में किसी प्रकार की कमी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि मरीज़ को लाने के लिए एम्बुलेंस कितनी जल्दी पहुंच रही है, इसके टाइम मैनेजमेंट का भी लगातार अनुश्रवण किया जाए।

    मंडलायुक्त कार्यालय के सभागार में सम्पन्न समीक्षा बैठक में उन्होंने कहा कि मंडल के जिन जिलों में एल-2 अस्पताल नहीं हैं, वहां तत्काल इन अस्पतालों को तैयार कर लिया जाए। उन्होंने कहा कि कोविड के लक्षण दिखने पर किसी को भी घबराना नहीं चाहिए और तत्काल कंट्रोल रूम को सूचित कर इलाज कराना चाहिए। उन्होंने बताया कि निर्धारित प्रोटोकाल के अंतर्गत प्रदेश सरकार ने होम आइसोलेशन की अनुमति भी प्रदान कर दी है।इसलिए किसी भी प्रकार के भ्रम में पड़ने के बजाए तत्काल कोविड कंट्रोल रूम को सूचित करने में कतई संकोच नही करना चाहिए।

    समीक्षा बैठक में मंडलायुक्त रणवीर प्रसाद, एडीजी बरेली ज़ोन अविनाश चंद्र, डीआईजी बरेली ज़ोन राजेश कुमार पांडेय, बरेली के जिलाधिकारी  नितीश कुमार, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय, नगर आयुक्त अभिषेक आनंद, सीएमओ डॉ. विनीत शुक्ला के अतिरिक्त शाहजहांपुर, बदायूं और पीलीभीत के जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्सा अधिकारी उपस्थित थे।
    समीक्षा बैठक से पूर्व अवस्थापना आयुक्त तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य ने कलेक्ट्रेट स्थित कोविड कंट्रोल रूम का निरीक्षण किया और इसकी कार्यप्रणाली की प्रशंसा करते हुए कहा कि प्राप्त सूचनाओं के अपडेशन का कार्य नियमित रूप से किया जाए।

    इसके बाद शासन से आए दोनों वरिष्ठ अधिकारियों ने मंडलायुक्त कार्यालय के सभागार में समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में मंडलायुक्त रणवीर प्रसाद ने बताया कि बरेली सहित पूरे मंडल में कोरोना जांच की संख्या बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि पूरे मंडल के ग्रामीण क्षेत्रों मे सर्विलांस का कार्य किया जा रहा है और इसका नियमित अनुश्रवण भी किया जा रहा है। एडीजी पुलिस अविनाश चंद्र ने कहा कि कंटेनमेंट ज़ोन में गाइडलाइंस को सख्ती से लागू किया जा रहा है और मॉस्क की अनिवार्यता का उल्लंघन करने के मामले पर प्रत्येक थाने को सक्रिय किया गया है। डीआईजी बरेली ज़ोन राजेश कुमार पांडेय ने कहा कि कोविड से बचाव के लिए मॉस्क लगाने की अनिवार्यता तथा सोशल डिस्टेंसिंग को पुलिस सख्ती से लागू कर रही है।

    बैठक मे प्रदेश के अवस्थापना आयुक्त एवं अपर मुख्य सचिव चिकित्सा स्वास्थ्य ने पीलीभीत के जिलाधिकारी से कहा कि जनपद में जहानाबाद सीएचसी को तत्काल अपग्रेड करने की कार्यवाही करे और टेस्टिंग की संख्या को बढ़ाने का प्रयास करे। शाहजहांपुर के जिलाधिकारी से उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में सर्विलांस अच्छी तरह से कराएं और शहरी क्षेत्रों में भी कोरोना जांच की संख्या बढ़ाएं। उन्होंने बदायूं के जिलाधिकारी से कहा कि वे अपने जनपद में मलेरिया की रोकथाम के प्रबंध भी साथ साथ करें ताकि किसी भी स्थिति से निपटने में प्रशासन को कोई समस्या न आने पाए।

    शासन से आए दोनों वरिष्ठ अधिकारियों ने कहा कि विशेष सर्विलांस अभियान के अंतर्गत शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष ध्यान दिया जाए। चिकित्सा उपकरणों की स्थिति के लिए उन्होंने कहा कि प्रदेश में जांच किट आदि की कोई कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि कोविड जांच आदि रजिस्ट्रेशन के कार्य में स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त अन्य विभागों के साथ ही पुलिस का भी आवश्यकता अनुसार सहयोग लिया जाए। उन्होंने कहा कि सर्विलांस जितनी सतर्कता से किया जाएगी, परिणाम उतने ही अच्छे और सकारात्मक आएंगे। उन्होंने पुन: दोहराया कि अब जबकि प्रदेश सरकार ने निर्धारित प्रोटोकाल के अंतर्गत होम आइसोलेशन की सुविधा प्रदान कर दी है तो लोगों को सर्विलांस में सहयोग करने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि पूरे मंडल के ग्रामीण क्षेत्रों में विशेष रूप से सतर्कता की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि कोविड प्रबंधन के केन्द्र में मरीज़ होना चाहिए, समस्त व्यवस्थाएं मरीज़ को ध्यान में रखकर तैयार की जानी चाहिए कि कितनी जल्दी मरीज़ के पास एम्बुलेंस पहुंचती है और कितनी जल्दी मरीज को अस्पताल मे बेड उपलब्ध हो जाता है।
             
    बरेली से चमन पुरी की रिपोर्ट

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.