Header Ads

  • INA BREAKING NEWS

    चीनी मिलों की पेराई खत्म लेकिन गन्ना भुगतान को लेकर अधर में लटका किसान


    चीनी मिलों की पेराई खत्म लेकिन गन्ना भुगतान को लेकर अधर में लटका किसान


    सीतापुर। कोरोना महामारी ने जहां आम जीवन अस्त व्यस्त कर दिया है, वहीं चीनी उधोग एवं गन्ना किसानों को संकट में डाल दिया है । चीनी मिलों की इस साल का पेराई सत्र खत्म हो चुका है, मिलों में चीनी का स्टाक लगा पड़ा है । जिसके चलते किसानों के भुगतान में दिक्कते आ रही हैं।

    गन्ना किसानों का भुगतान न हो पाने के कारण उनके समक्ष रोजी रोटी की समस्या खड़ी हो गई है, जिले का गन्ना किसान भुगतान के अभाव में प्रभावित हो रहा है । किसानों को अपना परिवार चलाने एवं अगली फसल तैयार करने के लिए पैसों की सख्त ज़रूरत है, परन्तु मिलों की चीनी निकासा ना हो पाने के कारण गन्ना किसानों का भुगतान भी अधर में लटक गया है ।

    नवीन सरकारी नियमानुकूल गन्ना खरीद के 14 दिन के बाद ही किसानों को भुगतान हो जाना चाहिए, परन्तु कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में लॉक डाउन के कारण इस उधोग को भी बुरी तरह से प्रभावित किया है | यहां पर यह संज्ञान में रहे कि सीतापुर जिले में गन्ने की खेती किसानों की मुख्य खेती है और गन्ना ही उनकी आजीविका का बड़ा श्रोत है ।

    कोरोना के कारण गन्ना किसानों का चीनी मिलों पर दो माह से लेकर पांच माह तक भुगतान बकाया हो चुका है, किसान रोज ही अपने खाते में पैसा आने की राह देख रहे हैं | सीतापुर जिले में हंगामा, बिसबाँ, महमूदाबाद एवं रामकोट में चीनी मिलें हैं ।

    शरद कपूर

    Post Top Ad


    Post Bottom Ad


    Blogger द्वारा संचालित.